Submit your post

Follow Us

अनिल कुंबले का वो किस्सा, जब जबड़े पर गेंद लगी और खून की उलटी के बावजूद बैटिंग की

अंग्रेजी का एक शब्द है – स्पिन. किसी चीज के स्पिन करने का मतलब होता है उस चीज का घूमना. स्पिन बॉलर का मतलब होता है वो बॉलर जो गेंद को घुमाता है. अनिल कुंबले. स्पिन बॉलर. वो स्पिन बॉलर जो गेंद को घुमाता ही नहीं था. 619 विकेट लिए. टेस्ट मैच में.

साल 2002. क्रिकेट के खेल को अपने इतिहास की सबसे ज़्यादा इन्स्पिरेशनल तस्वीर मिली. सीरीज़ 1-1 पे बंधी हुई थी. इंडिया बनाम वेस्ट इंडीज़. एंटीगुआ. चौथे टेस्ट में नंबर सात पर बैटिंग करने आये अनिल कुंबले. साथ में अजय रात्रा (नंबर आठ पर) खेल रहे थे. मर्व डिल्लन की पटकी हुई गेंद सीधे कुम्बले के जबड़े पर लगी. कुंबले मुंह से खून उलट रहे थे. फिज़ियो ने वापस जाने को कहा तो इनकार कर दिया. 20 मिनट और बैटिंग की. सूजे मुंह के साथ. टूटे जबड़े के साथ. रन लेना होता था तो आंखों में इशारा करते थे. रुकना होता था तो हाथ उठा देते थे. इंडिया ने डिक्लेयर किया. 513 पर 9. इनिंग्स ब्रेक.

वेस्ट इंडीज़ बैटिंग करने उतरी तो सभी के रोंगटे खड़े हो गए. मैदान पर इंडियन टीम उतर रही थी. सबसे आखिरी में, सबसे पीछे आ रहे थे अनिल कुंबले. मुंह पर पट्टी बांधे हुए. लोग खड़े एकटक उस लंबे से शख्स को देख रहे थे. अभी तक ऐसा सिर्फ़ फिल्मों में या कॉमिक्स में ही देखा गया था. अभी तक ऐसी बातें महज़ किंवदंतियां होती थीं. अनिल कुंबले उसे साकार कर रहे थे. सभी के सामने. इससे ठीक पहले, इनिंग्स ब्रेक के दौरान ड्रेसिंग रूम में उन्हें लाख समझाया गया. उन्हें खेलने से मना किया गया. अगले ही दिन उनके बैंगलोर जाने का इंतज़ाम करवाया जा चुका था. उनका कहना था कि वो बैंगलोर जायेंगे. लेकिन उस दिन खेलकर. कह रहे थे, “मैं यहां अकेले बैठना नहीं चाहता.” मैच खत्म होने पर विव रिचर्ड्स ने कहा, “खेल के मैदान पर मैंने इससे बहादुरी की चीज़ नहीं देखी.”

कुंबले ने लगातार 14 ओवर फेंके. ब्रायन लारा को आउट किया. मैच ड्रा हुआ. वेस्ट इंडीज़ ने 629 पर 9 पर डिक्लेयर किया. बैंगलोर जाते वक़्त कुंबले ने कहा, “कम से कम मैं ये सोच कर जाऊंगा कि मैंने अपना बेस्ट दिया.”

यही बेस्ट देने का फ़ितूर कुंबले को रेलवे के बैटिंग ओपेनर से इंडियन टेस्ट क्रिकेट के सबसे बड़े मैच विनर बनने तक खींच लाया. केनिंग्टन ओवल. 2007. लंदन. तीसरा टेस्ट, दूसरा दिन. इंडिया 316 पर 4 से अपना स्कोर शुरू करता है. सचिन तेंदुलकर अपनी हाफ़ सेंचुरी तक पहुंचने की खासी जल्दी में दिखे. लक्षमण भी लय में दिखे. धोनी धीरे-धीरे 92 रन तक पहुंचे.


और इसी बीच कुछ ऐसा हुआ जिसके होने में 36 साल 297 दिन लगे. जिसे होने में 117 टेस्ट मैचों का वक़्त लगा. 109 गेंदों में पचास का स्कोर. धोनी का बेहतरीन साथ दिया.


धोनी के जाने पर ऐसा लगा कि अब कुंबले को कोई साथ देने वाला चाहिए. उस दिन कुंबले की कवर ड्राइव्स कुछ ऐसी थीं कि कोहली भी उनसे सबक ले सकता था.

ज़हीर खान ने अपनी आदत से उलट 52 गेंदें खेलते हुए आराम से 11 रन बनाये. लेकिन उस वक़्त तक कुम्बले के 67 रन ही थे. कुंबले के 76 तक आरपी सिंह साथ रहे. 21 गेंदों में 11 रन. श्रीसंत के क्रीज़ तक आते-आते कुंबले साफ़ नर्वस हो चुके थे. उन्हें अपनी सेंचुरी दिख रही थी. मगर श्रीसंत पर भरोसा करना मुश्किल था. मगर श्रीसंत ने उस दिन दिमागदार खेल दिखाया. केविन पीटरसन की एक गेंद पर बल्ले के नीचे का किनारा लग कर मैट प्रायर के पैरों के नीचे से चार रन निकालकर पहली बार कुंबले ने हेलमेट निकालकर पवेलियन की ओर बल्ला दिखाया. 117 टेस्ट मैचों बाद. शानदार! हर्षा भोगले ने इसे क्रिकेट का सबसे रोमांटिक सीन क़रार दिया. कुछ ग़लत नहीं कहा. 201 मिनट की बैटिंग. 15 चौके. 1 छक्का. 180 गेंद. इनिंग्स में सब कुछ था. बस एक चीज की कमी थी. कुंबले खुद पवेलियन से अपनी सेंचुरी की तस्वीर नहीं खींच सकते थे.

 kumble 6

अनिल कुंबले धीरे-धीरे वो प्लेयर बनते गए जिसने लगभग हर इंडियन रिकॉर्ड अपने नाम किया हुआ था. 1999 में फ़िरोज़शाह कोटला में पाकिस्तान के दस विकेट उड़ा लिए. एक ही इनिंग्स में. श्रीनाथ कहते थे कि वो डर रहे थे कि कहीं कोई विकेट गलती से उन्हें न मिल जाए. दिसंबर 2001. बैंगलोर. उनका घर. इंडिया का पहला स्पिनर जिसने 300 टेस्ट विकेट लिए. ठीक एक साल बाद, लगभग उसी दिन इंडिया के पहले स्पिनर बने जिसने उतने ही विकेट वन-डे में लिए. अगस्त 2007 में मैक्ग्रा को पीछे किया. ओवल के मैदान में उनके 563 रनों के रिकॉर्ड को तोड़ा. जनवरी 2008 में 600 विकेट. उनके आगे बस शेन वॉर्न और मुरलीधरन. पीछे बाकी दुनिया. 

600वें विकेट की एक बड़ी प्यारी कहानी है. मैच से ठीक पहले राहुल द्रविड़ से जब कुंबले के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि वो चाहेंगे कि कुंबले का 600वां विकेट कुछ ऐसा हो – caught Dravid bowled Kumble. और अगले दिन, एंड्रू साइमंड्स को फेंकी हुई एक तेज़ गेंद, उसके बल्ले का किनारा लेकर, धोनी के ग्लव्स को छूती हुई हवा में उछल गयी. राहुल द्रविड़ ने दायें साइड में दौड़ कर गेंद को कैच किया. असद राउफ ने थोड़ा बहुत सोच कर उंगली उठा दी. द्रविड़ ज़्यादा खुश थे या कुंबले, कहना मुश्किल था. दूसरे एंड पर खड़े ऐडम गिलक्रिस्ट ने आकर उनसे हाथ मिलाया.

अपने 37वें बर्थडे के ठीक बाद उन्हें इंडिया के टेस्ट कैप्टन की कैप मिली. सामने था पाकिस्तान. होम सीरीज़. इंडिया ने वो सीरीज़ जीती. 27 सालों में पहली बार इंडिया पाकिस्तान को अपने घर में हरा पाया था. और उसके बाद शायद उनके कप्तानी के करियर का सबसे कठिन दौरा. ऑस्ट्रेलिया टूर. वही टूर जिसमें इशांत शर्मा ने रिकी पोंटिंग को एक घंटे तक नचा कर रखा था. जब हरभजन को तीन टेस्ट मैचों का बैन लगा. मंकीगेट हुआ. जब बुरे अंपायरिंग डिसीज़न दिए गए. और उन हालातों में कुंबले ने 4 टेस्ट मैचों में 20 विकेट लिए. इंडिया की ओर से सबसे ज़्यादा.

अपने आख़िरी मैच में इंडियन इनिंग्स के अंत की ओर ही टीवी पर फ़्लैश हुआ कि अनिल कुंबले क्रिकेट से रिटायर हो रहे हैं. इनिंग्स के दौरान ही उन्हें अंगुली में चोट लगी थी. ये वही अनिल कुंबले थे, जिन्होंने बैंगलोर टेस्ट में एक भी विकेट न मिलने पर कंधे में चोट लगने के बाद रिटायरमेंट की बात पर लगभग झुंझलाते हुए कहा था कि अभी वो खेलेंगे. दिल्ली टेस्ट में ही उन्होंने अपने रिटायरमेंट के बारे में कह दिया. मैच ड्रॉ की ओर बढ़ रहा था. हर किसी को मालूम था. ऑस्ट्रेलिया, फॉर्मेलिटी मात्र को बैटिंग करने उतरी. मैच की और कुंबले के करियर की आखिरी गेंद पर हेडेन के स्ट्रेट बाउंड्री पर उन्हें चौका मारा. विकेट के पीछे धोनी इतनी ज़ोर से चीखा जैसे उनकी कोई चीज़ चोरी हो जा रही हो. कुंबले को सभी ने अलविदा कहने से पहले लाखों बार शुक्रिया कहा. टेस्ट क्रिकेट में तीसरा बेस्ट बॉलर क्रिकेट से जा रहा था.

मैदान से दूर इनिंग्स बाकी थी. 2010 में कर्णाटक स्टेट क्रिकेट असोसिएशन का प्रेसिडेंट. तीन साल तक. इस दौरान कर्नाटक का बेहतरीन रणजी प्रदर्शन. और हाल ही में टीम इंडिया का हेड कोच. टीम इंडिया की टॉप रैंकिंग. अच्छी बात ये है कि इसी बहाने पवेलियन से हम अब भी कुंबले को मैदान पर चल रहे कार्यक्रम की तस्वीरें खींचते हुए देख सकते हैं.

kumble 5

ये भी पढ़ें-

गौतम गंभीर, वो लबड़हत्था जो वर्ल्ड कप फाइनल में बिच्छू बन गया था

ऑस्ट्रेलिया टीम की बस पर पत्थर पड़ने के बाद अब फैन्स उनसे माफ़ी मांग रहे हैं

आशीष नेहरा रिटायर भले ही हो रहे हैं मगर उनकी कहानी इंस्पायर करती रहेगी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

क्विज़: नुसरत फतेह अली खान को दिल से सुना है, तो इन सवालों का जवाब दो

क्विज़: नुसरत फतेह अली खान को दिल से सुना है, तो इन सवालों का जवाब दो

आज बड्डे है.

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

आज कार्टून नेटवर्क का हैपी बड्डे है.

रणबीर कपूर की मम्मी उन्हें किस नाम से बुलाती हैं?

रणबीर कपूर की मम्मी उन्हें किस नाम से बुलाती हैं?

आज यानी 28 सितंबर को उनका जन्मदिन होता है. खेलिए क्विज.

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

बेबो वो बेबो. क्विज उसकी खेलो. सवाल हम लिख लाए. गलत जवाब देकर डांट झेलो.

रवनीत सिंह बिट्टू, कांग्रेस का वो सांसद जिसने एक केंद्रीय मंत्री के इस्तीफे का प्लॉट तैयार कर दिया!

रवनीत सिंह बिट्टू, कांग्रेस का वो सांसद जिसने एक केंद्रीय मंत्री के इस्तीफे का प्लॉट तैयार कर दिया!

17 सितंबर को किसानों के मुद्दे पर बिट्टू ऐसा बोल गए कि सियासत में हलचल मच गई.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो उनको कितना जानते हो मितरों

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो उनको कितना जानते हो मितरों

अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?

KBC में करोड़पति बनाने वाले इन सवालों का जवाब जानते हो कि नहीं, यहां चेक कर लो

KBC में करोड़पति बनाने वाले इन सवालों का जवाब जानते हो कि नहीं, यहां चेक कर लो

करोड़पति बनने का हुनर चेक कल्लो.

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

चलिए, विधायक जी की कन्नी-काटी जानते हैं.

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

कभी सोचा नहीं होगा कि लल्लन साड़ियों पर भी क्विज बना सकता है. खेलो औऱ स्कोर करो.

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़. अपना ज्ञान यहां चेक कल्लो!