Submit your post

Follow Us

अमिताभ-जया-रेखा के लव ट्रायंगल वाली फिल्म, जिसके बाद अमिताभ के यश चोपड़ा से रिश्ते बिगड़ गए

384
शेयर्स

14 अगस्त, 1981 की तारीख. बड़े हो-हल्ले के साथ यश चोपड़ा की फिल्म रिलीज़ हो रही थी. तब शाहरुख खान फिल्मों में नहीं थे, किंग ऑफ रोमांस यश चोपड़ा थे. ऊपर से उनकी फिल्म में अमिताभ बच्चन, रेखा और जया बच्चन की तिकड़ी काम कर रही थी. साथ में शशि कपूर और संजीव कुमार भी थे. ये कास्टिंग सुनने में जितनी आसान लग रही है, उतनी दरअसल थी नहीं. अमिताभ की 1973 में जया से शादी हो चुकी थी. लेकिन उन दिनों उनकी और रेखा की नजदीकियों की खबरें फिल्म  मैगज़ीन्स में काफी जगह खा जाती थीं. यश चोपड़ा भी इससे वाकिफ थे.  झमेले से बचने के लिए उन्होंने इस फिल्म के लिए स्मिता पाटिल और परवीन बाबी को फाइनल कर लिया था. लेकिन अमिताभ के पूछने पर वो अपनी फीमेल लीड की चॉइस छुपा नहीं सके. उन्होंने रेखा और जया का नाम लिया. वो कास्टिंग फाइनल हो गई. कैसे हुई? अमिताभ ने क्या कहा? साइन की गई हीरोइनों को कैसे निकाला गया? विस्तार से जानना चाहते हैं, तो यहां क्लिक करें.

अब दिक्कत ये थी कि यश चोपड़ा इस फिल्म के लिए संजीव कुमार को चाहते थे. लेकिन संजीव ने फिल्म करने से साफ मना कर दिया. उनका मानना था कि वो अमिताभ से सीनियर हैं और उनकी फिल्मों में साइडकिक प्ले करना उन्हें ठीक नहीं लगता है. इससे पहले संजीव कुमार अमिताभ बच्चन के लीड रोल वाली ‘शोले’ (1975) और ‘त्रिशूल’ (1978) में ऐसे रोल कर चुके थे.

'सिलसिला' में संजीव कुमार ने रेखा के पति का किरदार किया था.
‘सिलसिला’ में संजीव कुमार ने रेखा के पति का किरदार किया था.

यश उनको बहुत मनाते रहे लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ. इसके बाद यश ने संजीव कुमार से कहा कि आप एक बार स्क्रिप्ट तो सुन लीजिए. बात रखने के लिए संजीव यश से कहानी सुनने लगे. आधी कहानी निकल चुकी थी. तभी एक सीन आया और संजीव कुमार ने यश चोपड़ा को रोक दिया. इसके बाद उन्होंने अपने ऑफिस फोन लगाया और इस फिल्म के लिए डेट देने बुक करने के लिए कह दिया. ये फिल्म का वही सीन था, जहां अमिताभ, संजीव, रेखा और जया एक रेस्त्रां में बैठे होते हैं. जब डांस करने की बारी आती है, तो अमिताभ जया के बजाय अपने साथ रेखा को लेकर चले जाते हैं.

इस फिल्म में अमिताभ और जया ने पति-पत्नी का रोल किया था.
इस फिल्म में अमिताभ और जया ने पति-पत्नी का रोल किया था.

सारी तैयारियां हो चुकी थीं. फिल्म का म्यूज़िक अटक रहा था. यश इसे एक पोएटिक फिल्म बनाना चाहते थे. इसके लिए वो पहुंचे साहिर लुधयानवी के पास. साहिर उनकी कई फिल्मों में गाने लिख चुके थे. लेकिन इस बार उन्होंने ऐसा करने से मना कर दिया. यश मन मारकर ही सही लेकिन मान गए क्योंकि कुछ ही दिन पहले साहिर की माताजी का देहावसान हुआ था. और वो बहुत दुखी थे. इसके बाद यश पहुंचे जावेद अख्तर के पास. तब तक सलीम-जावेद की जोड़ी यश के लिए ‘दीवार’ (1975), ‘त्रिशूल’ (1978) , और ‘काला पत्थर’ (1979) जैसी फिल्में लिख चुकी थी. जावेद फिल्मों के अलावा कविताएं भी लिखते थे लेकिन ये बात पब्लिक नहीं थी. सिर्फ कुछ करीबी लोगों को पता थी. यश ने उनसे उनकी फिल्म के गाने लिखने की गुज़ारिश की. जावेद को ना-नुकर करते हुए भी मानना पड़ा. तब तक साहिर (अक्टूबर, 1980) भी गुज़र चुके थे. यश चोपड़ा की फिल्म ‘सिलसिले’ के लिए जावेद ने पहली बार कोई फिल्मी गाना लिखा था. ये गाना था ‘देखा एक ख्वाब’. ये गाना बहुत पसंद किया गया, जिसके बाद से जावेद अख्तर ने लिरिक्स भी लिखने शुरू कर दिए. वो गाना यहां देखिए:

संतूर वादक शिव कुमार शर्मा और बांसुरी वादक हरिप्रसाद चौरसिया की बतौर म्यूज़िक डायरेक्टर पहली फिल्म थी. ये शिव-हरि के नाम से म्यूज़िक देते थे. इतनी बड़ी फिल्म के म्यूज़िक डायरेक्टर और लिरिसिस्ट दोनों ही नए थे, इसलिए यूनिट के बाकी सदस्य भी म्यूज़िक वाले इलाके में इंट्रेस्ट लेते रहते थे. इस फिल्म के एल्बम में कुल सात गाने थे (‘खुद से जो वादा किया’ फिल्म में नहीं था और नीला आसमान के दूसरे वर्जन को छोड़ दें तो), इसमें दो गाने अमिताभ ने जुड़वाए थे.

इस फिल्म में पहली बार जावेद अख्तर ने बतौर लिरिसिस्ट अपने करियर की शुरुआत की थी.
इस फिल्म में पहली बार जावेद अख्तर ने बतौर लिरिसिस्ट अपने करियर की शुरुआत की थी.

1975 में अमिताभ शम्मी कपूर के साथ बैंगलोर में बीआर चोपड़ा की फिल्म ‘ज़मीर’ की शूटिंग कर रहे थे. शम्मी कपूर मस्तमौला आदमी थे. लेकिन उन्हें म्यूज़िक का बहुत शौक था. वो शौकिया अपनी धुनें और गाने बनाते रहते थे. फिल्म की शूटिंग खत्म करने के बाद शाम को पूरी टीम साथ बैठती और शम्मी कपूर म्यूज़कि कंपोज करते. अपना गिटार लेकर अमिताभ भी उनके साथ हो लेते थे. ऐसे ही एक जैमिंग सेशन के दौरान शम्मी कपूर ने किसी लोकगीत से इंस्पायर होकर एक गाना बना दिया. ये धुन अमिताभ को बहुत अच्छी लगी. फिल्म की शूटिंग खत्म हुई और सब अपने-अपने घर लौट आए. उस घटना के कोई 6 साल बाद अमिताभ ने शम्मी को फोन किया और उनकी बनाई उस धुन और गाने को अपनी फिल्म में शामिल करने की इज़ाज़त मांगी. तब शम्मी कपूर को वो गाना याद भी नहीं था. उन्होंने अमिताभ से कहा- ‘वो गाना अब तुम्हारा. उसके साथ जो जी चाहे करो.’ वो गाना था ‘नीला आसमान’, जो आप यहां सुन सकते हैं:

‘रंग बसरे भीगे चुनर वाली’ को फिल्म में ऐड करने का आइडिया भी अमिताभ का ही था. ये उनके पिता डॉ. हरिवंशराय बच्चन की लिखी हुई कविता थी, जिसे गाने में तब्दील किया गया. इसे आज भी होली के मौके पर बजते हुए सुना जा सकता है.

‘सिलसिला’ को उसकी कास्ट के चलते पहले ही बड़ी फिल्म मान लिया गया था. फिल्म महंगी भी थी. सिनेमाघरों में इसके अच्छा परफॉर्म करने की काफी उम्मीद थी. लेकिन उस दौर में इस फिल्म के कॉन्सेप्ट को बहुत मॉडर्न माना गया. कहा ये भी गया कि ये कहानी अमिताभ, जया और रेखा के रियल लाइफ लव स्टोरी पर बेस्ड थी. लेकिन इन अफवाहों पर मेकर्स ने जल्द ही विराम चिह्न लगा दिया. उम्मीदों के बोझ तले दबी ये फिल्म टिकट खिड़की पर सर उठाने से पहले ही दम तोड़ गई. इसके बाद अमिताभ और यश के रिश्तों में खटास आ गई. यश ने किसी फिल्म के प्रेस कॉन्फ्रेंस में अमिताभ के बारे में कहा कि वो अपने काम को लेकर ईमानदार नहीं हैं. अमिताभ भी फिल्म के फ्लॉप होने से चिढ़े हुए थे. उन्होंने जवाब दिया कि अगर यश इतने ही प्रोफेशनल थे, तो फिर परवीन और स्मिता को फिल्म से निकालने की खबर उनसे क्यों भिजवाई थी. तब उनका प्रोफेशनलिज़्म कहां गया था. इसके बाद उन्होंने यश चोपड़ा के गुलशन राय से पैसे को लेकर चल रही खींचतान का भी ज़िक्र कर दिया. आज ‘सिलसिला’ ने अपनी रिलीज़ के 37 साल पूरे कर लिए हैं.

इसके बाद से यश ने बतौर डायरेक्टर अपनी किसी भी फिल्म में अमिताभ को नहीं लिया. हालांकि इस सब के 19 साल बाद उनके प्रोडक्शन हाऊस यशराज फिल्म्स में बनी ‘मोहब्बतें’ (2000) में एक बार फिर अमिताभ बच्चन दिखाई दिए लेकिन ये फिल्म यश के बेटे आदित्य चोपड़ा ने डायरेक्ट की थी.


ये भी पढ़ें:

प्यार के देवता यश चोपड़ा ने क्यों कहा था: ‘जो लव नहीं करते वो मर जाएं!’
अपनी फिल्मों में यश चोपड़ा हीरोइन्स इतनी सुंदर क्यों रखते थे
वो डायरेक्टर जिसने एक सुपरस्टार के साथ बिना इंटरवल और गाने के फिल्म बना दी
‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ की मेकिंग की 21 बातें जो कलेजा ठंडा कर देंगी!


वीडियो देखें: किस्से उस एक्टर के जिसका नाम गुरु दत्त ने अपनी फेवरेट दारू के नाम पर रखा

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Anecdotes from the making of film Silsila starring Amitabh Bachchan, Shashi Kapoor, Jaya Bachchan, Rekha and Sanjeev Kumar directed by Yash Chopra

कौन हो तुम

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

14 मार्च को बड्डे होता है. ये तो सब जानते हैं, और क्या जानते हो आके बताओ. अरे आओ तो.

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

आज आमिर खान का हैप्पी बड्डे है. कित्ता मालूम है उनके बारे में?

चेक करो अनुपम खेर पर अपना ज्ञान और टॉलरेंस लेवल

अनुपम खेर को ट्विटर और व्हाट्सऐप वीडियो के अलावा भी ध्यान से देखा है तो ये क्विज खेलो.

Quiz: आप भोले बाबा के कितने बड़े भक्त हो

भगवान शंकर के बारे में इन सवालों का जवाब दे लिया तो समझो गंगा नहा लिया

आजादी का फायदा उठाओ, रिपब्लिक इंडिया के बारे में बताओ

रिपब्लिक डे से लेकर 15 अगस्त तक. कई सवाल हैं, क्या आपको जवाब मालूम हैं? आइए, दीजिए जरा..

जानते हो ह्रतिक रोशन की पहली कमाई कितनी थी?

सलमान ने ऐसा क्या कह दिया था, जिससे हृतिक हो गए थे नाराज़? क्विज़ खेल लो. जान लो.

राजेश खन्ना ने किस हीरो के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीता था?

राजेश खन्ना के कितने बड़े फैन हो, ये क्विज खेलो तो पता चलेगा.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

फवाद पर ये क्विज खेलना राष्ट्रद्रोह नहीं है

फवाद खान के बर्थडे पर सपेसल.

दुनिया की सबसे खूबसूरत महिला के बारे में 9 सवाल

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.