Submit your post

Follow Us

आनंदपाल एनकाउंटर: आईपीएस मोनिका ने बताया कि उस दिन सांवराद में क्या हुआ था

12 जुलाई को राजस्थान के कुख्यात गैंगस्टर आनंदपाल सिंह की उनके गांव सांवराद में श्रद्धांजलि सभा आयोजित की गई थी. यह सभा राजपूत समाज ने बुलाई थी. आनंदपाल की 24 जून को पुलिस एनकाउंटर में मौत हो गई थी. राजपूत समाज इस एनकाउंटर को फर्जी बताकर, इसके सीबीआई जांच की मांग कर रहा था.

इस श्रद्धांजलि सभा में करीब एक लाख लोग आए थे. दोपहर 12 बजे से शाम छह बजे तक राजपूत समाज के लोगों और सरकार में बातचीत चलती रही. जब इस बातचीत का कोई नतीजा नहीं निकला तो श्रद्धंजलि सभा में आई भीड़ हिंसक हो गई. इस हिंसा की शुरुआत सांवराद रेलवे स्टेशन की पटरियों को उखाड़ने से शुरू हुई. अपनी पिछली स्टोरी में हमने बताया था कि किस तरह फ़ोर्स की कमी से जूझ रही पुलिस के लिए इस भीड़ को काबू करना मुश्किल हो गया था. उस बीच ट्रेनी आईपीएस मोनिका सैन अगवा होने की अफवाह भी सामने आई थी. हालांकि बाद में वो सुरक्षित लौट आई थीं. सहयोगी वेबसाइटइंडिया टुडे को दिए गए इंटरव्यू में मोनिका ने उस हिंसक भीड़ का आंखो देखा हाल बयान किया है. हम उसे आपके सामने रख रहे हैं-

“शुरुआत में हमें सूचना मिली कि हजारों लोग सांवराद रेलवे स्टेशन की तरफ बढ़ रहे हैं. वो रेलवे ट्रेक को उखाड़ कर हंगामा खड़ा करना चाहते हैं. हमारे हिसाब से कुछ पुलिस अफसर स्थिति से निपटने के लिए वहां पर पहले से मौजूद थे. अचानक से हमें सूचना मिली कि 7-8 पुलिस कांस्टेबल एक जगह घेर लिए गए हैं. उन्हें भीड़ ने बंदी बना लिया है. उनमें से तीन पर मिट्टी का तेल छिड़का जा चुका है और जिंदा जलाने की तैयारी चल रही है.
हम तेजी से उस जगह के निकल गए. राजपूत समाज की तरफ से नियुक्त वार्ता कमिटी के लोग भी दूसरी गाड़ी में हमारे साथ थे. हमने सोचा था कि कमिटी के सदस्य लोगों को शांत करने में हमारी मदद करेंगे. जब हम रेलवे स्टेशन पहुंचे तो हमने देखा कि भीड़ गांव की तरफ लौट रही थी. वो लोग हजारों में थे. हम लोग स्टेशन की तरफ बढ़ रहे थे कि हमारे पीछे से पत्थर आने शुरू हो गए. हम लोगों ने वहां से हटने की कोशिश की. भीड़ बहुत ज्यादा थी. हमारी गाड़ी भीड़ में फंस गई.

मोनिका सैन (फेसबुक)
मोनिका सैन (फेसबुक)

कमिटी के सदस्य हमारे पीछे अलग कार में थे. वो भी इस भीड़ में फंस गए. मौके की नजाकत समझते हुए एसपी साहब अपनी कार से उतरे ताकि कमिटी के सदस्यों को मदद के लिए बुलाया जा सके और लोगों को कानून हाथ में ना लेने के लिए समझाया जा सके. लेकिन भीड़ ने उनके ऊपर हमला कर दिया. उन्हें काफी चोट आई. हमारी गाड़ी की सभी खिडकियों पर हमला किया जाने लगा. एसपी साहब के उतरने के बाद हम पांच लोग गाड़ी में रह गए थे. मैं, मेरा गनमैन, एसपी साहब का गनमैन, ड्राइवर और एक अन्य आदमी. सबसे पहले एसपी साहब के गार्ड महावीर और ड्राइवर मंसाराम को कार से खींच कर बाहर लाया गया और उन्हें पीटा जाने लगा.

मैंने अपनी आंखो के सामने गार्ड को पिटते हुए देखा. एसपी साहब के गार्ड और दूसरे कांस्टेबलों को बुरी तरह से पीटा जाने लगा. उनसे उनके हथियार छीन लिए गए, जिनमें एक AK-47 और 2 पिस्तौल शमिल थीं. हमारे सामने एसपी के गार्ड महावीर पर मिट्टी का तेल छिड़का जा रहा था. हम डर गए थे कि कहीं ये लोग गाड़ी को भी आग के हवाले ना कर दें. इसलिए हम गाड़ी से नीचे उतर गए. भीड़ बुरी तरह से पगलाई हुई थी. हमारे सामने सरकारी गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया गया. मेरा विश्वास है कि एक पिस्तौल गाड़ी के साथ ही जल कर खाक हो गई.

मुझ पर भी भीड़ ने हमला किया. उन लोगों ने मुझे अपनी तरफ खींचना शुरू किया. मैंने सुरक्षा के लिहाज से हेलमेट पहन रखा था. इस खींचतान में मेरा हेलमेट उन लोगों के हाथ में आ गया. तभी उन्हें अहसास हुआ कि वो एक महिला पर हमला कर रहे हैं. उस भीड़ में कुछ अच्छे आदमी थे. उन लोगों ने भीड़ को शांत करने की कोशिश की और कामयाब रहे.

इस बीच मैं किसी तरह से वहां से बच निकलने में कामयाब रही. मैंने पास ही के घर में जाकर शरण ली और अपने ऊपर के अधिकारियों को बताया कि क्या हुआ है. जिस घर में मैंने शरण ली थी उन लोगों ने मेरी सुरक्षा की जिम्मेदारी अपने सिर पर ले ली. उस घर की महिलाओं ने मुझे राजपूती परिधान पहनने को कहा ताकि मुझे पहचाना ना जा सके. मैंने उनके कहने पर अपनी वर्दी के ऊपर राजपूती ड्रेस डाल ली. मैंने उनसे कहा कि वो पुलिस अधिकारियों को इस बाबत सूचना दे दें ताकि वो मुझे यहां से ले जा सके. मुझे काफी चोटें आई थीं. हालांकि कोई भी अंदरूनी चोट मुझे नहीं लगी थी. मेरी गर्दन और कन्धों में दर्द हो रहा था लेकिन मैंने किसी तरह से उसे सहन किया.”

29 साल की मोनिका सैन 2014 बैच की आईपीएस हैं. वो फिलहाल एएसपी के पद पर हैं और ट्रेनी के तौर पर काम कर रही हैं. वो भीड़ की इस बदमिजाजी के लिए नेताओं को जिम्मेदार मानती हैं. वो कहती हैं, “वो सब लोग इस गैरकानूनी जुटान के लिए जिम्मेदार हैं. यह एक बेकाबू भीड़ थी. वो लोग हमारे अफसरों पर मिट्टी का तेल छिड़क रहे थे. मंच से नेता जिस किस्म का उत्तेजक भाषण दे रहे थे, उन्हें अच्छे से पता था कि भीड़ बेकाबू हो सकती है. इस किस्म के ज्यादा से ज्यादा पर मुकदमें कायम होने चाहिए.”

मोनिका सैन (फेसबुक)
मोनिका सैन (फेसबुक)

पुलिस ने इस उपद्रव के खिलाफ कठोर कदम उठाए हैं. पुलिस ने कुल 22 धाराओं में 12,000 लोगों पर मुकदमें कायम किए हैं. हालांकि पुलिस की तरफ से साफ़ किया गया है कि मुकदमा 12 हजार लोगों के खिलाफ नहीं है. उस समय वहां पर करीब 12 हजार लोग थे. उनमे से अपराधियों को चिन्हित किया जाना बाकी है. इधर रेलवे पुलिस ने भी 5000 हजार लोगों के खिलाफ सरकारी सम्पति को नुक्सान पहुंचाने और शांति भंग करने सहित कई धाराओं में मुकदमें कायम किए हैं. अब पुलिस की इस कार्रवाही का भी राजनीतिकरण हो रहा है.


ये भी पढ़ें 

मौत के 19 दिन बाद किस तरह हुआ गैंगस्टर आनंदपाल का अंतिम संस्कार

क्या आनंदपाल सिंह का एनकाउंटर फर्जी था?

गैंग्स ऑफ राजस्थान: आनंदपाल ने उसी जीवन गोदारा को मारा जिसने सबसे लड़कर उसे घोड़ी चढ़ाया

आनंदपाल सिंह एनकाउंटरः उस गैंगस्टर की कहानी जिसने राजस्थान की राजनीति को हिला दिया

करणी सेना वो बम है, जिसमें साढ़े सात लाख युवाओं का बारूद लगा है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'मनी हाइस्ट' की खतरनाक इंस्पेक्टर अलिशिया, जिन्होंने असल में भी मीडिया के सामने उत्पात किया था

'मनी हाइस्ट' की खतरनाक इंस्पेक्टर अलिशिया, जिन्होंने असल में भी मीडिया के सामने उत्पात किया था

सब सही होता तो, टोक्यो या मोनिका में से एक रोल करती नजवा उर्फ़ अलिशिया.

कहानी 'मनी हाइस्ट' वाली नैरोबी की, जिन्होंने कभी इंडियन लड़की का किरदार करके धूम मचा दी थी

कहानी 'मनी हाइस्ट' वाली नैरोबी की, जिन्होंने कभी इंडियन लड़की का किरदार करके धूम मचा दी थी

जानिए क्या है नैरोबी उर्फ़ अल्बा फ्लोरेस का इंडियन कनेक्शन और कौन है उनका फेवरेट को-स्टार?

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.