Submit your post

Follow Us

अमिताभ बच्चन तो ठीक हैं, दादा साहेब फाल्के के बारे में कितना जानते हो?

145
शेयर्स

अमिताभ बच्चन. कौन हैं, बताने की ज़रूरत नहीं है. नाम ही काफी है. लेकिन इनके साथ अब कुछ ऐसा हो रहा है, जिसके बारे में बताना और बात करना बहुत-बहुत ज़रूरी है. अमिताभ के परिचय में एक नया पॉइंट जुड़ने वाला है. बेहद ही अहम पॉइंट. ये कि उन्हें भारतीय सिनेमा का सबसे बड़ा और सबसे खास अवॉर्ड मिलने वाला है. अवॉर्ड का नाम है- दादा साहब फाल्के अवॉर्ड. अवॉर्ड वगैरह तो ठीक है. अमिताभ बच्चन भी ठीक हैं. उनका परिचय तो पता ही होगा. उनके बारे में भी पता ही होगा. लेकिन दादा साहेब फाल्के के बारे में कितना जानते हैं?

आइए देख लेते हैं कौन कितने पानी में है?

1. अमिताभ से पहले अब तक कितने लोगों को दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड मिल चुका है?
  1. 22
  2. 23
  3. 49
  4. 50
2. दादा साहेब फाल्के ने कुल कितनी फीचर फिल्में बनाई थीं?
  1. 81
  2. 94
  3. 95
  4. 99
3. एक महीने तक रोज शूट कर दादा साहब फाल्के ने किस सब्जी पर शॉर्ट फिल्म बनाई थी?
  1. आलू
  2. प्याज
  3. टमाटर
  4. मटर
4. फिल्म राजा हरिश्चंद्र किस भाषा में बनी थी?
  1. मराठी
  2. हिंदी
  3. अंग्रेजी
  4. इनमें से कोई नहीं.
5. भारत की पहली फीचर फिल्म के नाम पर एक और फिल्म का नाम लिया जाता है, कौन सी है वो फिल्म?
  1. आलमआरा
  2. श्री पुंडलिक
  3. बम्बई की मोहिनी
  4. अछूत कन्या
6. दादा साहेब फाल्के पर एक फिल्म भी बन चुकी है, कौन सी है वो फिल्म?
  1. मेकिंग ऑफ हरिश्चंद्र
  2. हरिश्चंद्र का कारखाना
  3. हरिश्चंद्राची फैक्ट्री
  4. फादर ऑफ इंडियन सिनेमा
7. पहला दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड किसे मिला?
  1. राज कपूर
  2. देविका रानी
  3. देव आनंद
  4. मीना कुमारी
8. फिल्म राजा हरिश्चंद्र में हरिश्चंद्र की पत्नी का किरदार किसने निभाया था?
  1. मीना कुमारी
  2. नूतन
  3. अन्ना सालुंके
  4. दादासाहेब फाल्के
9. दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड कब शुरू हुआ?
  1. 1969
  2. 1965
  3. 1971
  4. 1975
10. कौन देता है दादा साहेब फाल्के पुरस्कार?
  1. महाराष्ट्र सरकार
  2. फेडरेशन ऑफ फिल्म सोसायटी इन इंडिया
  3. भारत सरकार
  4. फिल्म फेडरेशन ऑफ इंडिया
लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

न्यू मॉन्क

दुनिया के पहले स्टेनोग्राफर के पांच किस्से

अनंत चतुर्दशी और गणेश विसर्जन के अवसर पर पढ़िए गणपति से जुड़ी कुछ रोचक बातें.

यज्ञ में नहीं बुलाया गया तो शिव ने भस्म करवा दिया मंडप

शिव से बोलीं पार्वती- 'आप श्रेष्ठ हो, फिर भी होती है अनदेखी'.

नाम रखने की खातिर प्रकट होते ही रोने लगे थे शिव!

शिव के सात नाम हैं. उनका रहस्य जानो, सीधे पुराणों के हवाले से.

ब्रह्मा की हरकतों से इतने परेशान हुए शिव कि उनका सिर धड़ से अलग कर दिया

बड़े काम की जानकारी, सीधे ब्रह्मदारण्यक उपनिषद से.

एक बार सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र ने भी झूठ बोला था

राजा हरिश्चंद्र सत्य का पर्याय हैं. तभी तो कहा जाता है- सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र. पर एक बार हरिश्चंद्र ने भी झूठ कहा था. क्यों कहा था?

जटायु के पापा का सूर्य से क्या रिश्ता था?

अगर पूरी रामायण पढ़े हो तो पता होगा. नहीं पता तो यहां पढ़ो.

ब्रह्मा की पूजा से जुड़ा सबसे बड़ा झूठ, बेटी से नहीं की थी शादी

कहते हैं कि बेटी सरस्वती से विवाह कर लिया था ब्रह्मा ने. इसीलिए उनकी पूजा नहीं होती. न मंदिर बनते हैं. सच ये है.

उपनिषद् का वो ज्ञान, जिसे हासिल करने में राहुल गांधी को भी टाइम लगेगा

जानिए उपनिषद् की पांच मजेदार बातें.

औरतों को कमजोर मानता था महिषासुर, मारा गया

उसने वरदान मांगा कि देव, दानव और मानव में से कोई हमें मार न पाए, पर गलती कर गया.

राम-सीता की शादी के लिए नहीं हुआ था कोई स्वयंवर

न स्वयंवर हुआ था, न उसमें रावण आया था: रामायण का एक कम जाना हुआ सच.