Submit your post

Follow Us

पीएम मोदी ने कुर्ते के रंग से मैच करने वाला हेलमेट जानबूझकर पहना था? जवाब ये है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) रविवार को ही अपने अमेरिकी दौरे से लौटे हैं. और लौटने के कुछ ही घंटों बाद एक औचक निरीक्षण के लिए निकल गए. सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट की कन्स्ट्रक्शन साइट पर. पीएम नरेंद्र मोदी ने करीब घंटा भर वहीं बिताया. उनकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हैं. इनमें पीएम मोदी एक सफ़ेद हेलमेट पहने नज़र आ रहे हैं.

आम तौर पर आपने देखा होगा कि इंडस्ट्री या कन्स्ट्रक्शन साइट पर काम करने वाले मज़दूर पीला हेलमेट पहनते हैं. और भी कई कलर के हेलमेट आपने फ़ैक्टरी में अलग-अलग काम करने वाले मज़दूरों या मैनेजरों को पहने देखा होगा. लेकिन पीएम मोदी का सफेद हेलमेट पहनना बहस बन गया. क्योंकि उन्होंने कुर्ता भी सफेद रंग का पहन रखा था.

तो क्या मोदी ने अपने कुर्ते के रंग से मैच करके हेलमेट पहना था या इसकी कोई और वजह है?

नियम-कानून क्या कहते हैं?

ऐसा कोई क़ानून या नियम भारत में नहीं है जो अलग-अलग रंगों के हेलमेट पहनने के संबंध में किसी तरह का विवरण देता हो. हालांकि, इंडस्ट्री में इसका “अघोषित नियम” की तरह पालन किया जाता है. उस पर आगे बताएंगे. फिलहाल ये जानिए कि हेलमेट बनाने वाली कंपनियां को इनकी क्वालिटी का ध्यान रखना होता है. उन्हें क्वालिटी चेक से गुजरना होता है. हेलमेट्स की क्वालिटी तय करता है भारत सरकार का ब्यूरो ऑफ़ इंडियन स्टैंडर्ड्ज़ या BIS.

BIS ने औद्योगिक सुरक्षा हेलमेट के लिए ‘विशेष विवरण, 1984’ के नाम से दिशा-निर्देश जारी किए हैं. इन दिशा-निर्देशों में अलग-अलग ज़रूरतों के लिए कैसे हेलमेट बनाए जाने हैं, इसके बारे में बताया गया है. हेलमेट को बनाने में कैसे केमिकल का इस्तेमाल करना है, कितने तापमान में इसे टेस्ट करना हैं, ये सारी बातें बताई गई हैं. लेकिन, कलर के इस्तेमाल के संबंध में कुछ नहीं कहा गया है.

Modi Helmet Q
भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी. (फ़ोटो-इंडिया टुडे)

फ़ैक्टरी के मज़दूरों और कर्मचारियों के लिए अलग-अलग क़ानून हैं जो सुरक्षा उपकरणों पर बात करते हैं. इनमें

फ़ैक्ट्रीज़ ऐक्ट, 1948

दी माइंस ऐक्ट, 1952

दी डॉक वर्कर्स (हेल्थ सेफ़्टी एंड वेलफ़ेयर) ऐक्ट, 1986

बिल्डिंग एंड कन्स्ट्रक्शन वर्कर्स ऐक्ट, 1996, आदि शामिल हैं.

इन सभी क़ानूनों में सुरक्षा उपकरणों का ज़िक्र है. हेलमेट का भी ज़िक्र है, लेकिन कलर को लेकर इनमें भी कोई बात नहीं कही गई है.

साल 2020 में एक नया क़ानून पारित किया गया. ऑक्युपेशनल सेफ़्टी हेल्थ एंड वर्किंग कंडीशन कोड, 2020. इसमें तमाम सेक्टर्स के साथ-साथ कन्स्ट्रक्शन इंडस्ट्री में काम करने वालों की सुरक्षा को लेकर काफ़ी डिटेल दी गई है. लेकिन, हेलमेट के कलर का ज़िक्र इसमें भी नहीं है.

श्रम मंत्रालय के तहत काम करने वाले डायरेक्टरेट जनरल फ़ैक्टरी अड्वाइस सर्विस एंड लेबर इंस्टीट्यूट्स और इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइज़ेशन ने मिलकर ‘नेशनल ऑक्युपेशनल सेफ़्टी एंड हेल्थ प्रोफ़ाइल’ के नाम से एक दस्तावेज़ जारी किया है. 2017 में जारी इस दस्तावेज़ में कर्मचारियों की सेफ़्टी से जुड़े हरेक क़ानून का हवाला देते हुए हेलमेट और अन्य सुरक्षा उपकरणों की बात कही गई है. लेकिन फिर वही बात. हेलमेट के रंग के संबंध में यहां भी कुछ नहीं कहा गया है.

लेकिन कलर कोड का पालन होता है

ऊपर हमने बताया था कि किसी भी कानून में शामिल नहीं होने के बावजूद भारत में हेलमेट के कलर कोड का पालन लगातार किया जाता रहा है. ऐसा विदेशों में चले आ रहे कलर पैटर्न के आधार पर ही होता आ रहा है. अमेरिका की बात करें तो वहां के लेबर डिपार्टमेंट ने 1970 में ऑक्युपेशनल सेफ़्टी एंड हेल्थ ऐक्ट जारी किया था. इस ऐक्ट में हेलमेट के कलर कोड को साफ़-साफ़ बताया गया है. लगभग यही कलर कोड यूरोप और यूके में भी माना जाता है.

Pm Modi Inspects Central Vista Project
कन्स्ट्रक्शन साइट पर काम कर रहे लोगों के साथ पीएम मोदी. (तस्वीर- पीटीआई)

अलग-अलग पदों के लिए अलग रंग

कलर कोड का मतलब है अलग-अलग पदों पर काम रहे हो लोगों का विभाजन. आम तौर पर सफ़ेद, पीला, नीला, लाल, भूरे रंग के हेलमेट इस्तेमाल किए जाते हैं.

1) सफ़ेद- इसका इस्तेमाल साइट इंजीनियर, प्रोजेक्ट मैनेजर, सुपरवाइज़र जैसे पदों पर रहने वाले लोग करते हैं.

2) पीला- सभी तरह के मज़दूर इस हेलमेट का इस्तेमाल करते हैं.

3) नीला- मकैनिक, मशीन ऑपरेटर, फ़ोरमैन जैसे काम करने वाले पदों के लोग इस्तेमाल करते हैं.

4) हरा- सुरक्षा या पर्यावरण विभाग के अफ़सर या कर्मचारी इस हेलमेट का यूज़ करते हैं.

5) लाल- फ़ायर-फ़ाइटर विभाग में काम करने वाले इसका इस्तेमाल करते हैं.

6) नारंगी- इलेक्ट्रीशियन इस हेलमेट का इस्तेमाल करते हैं.

7) ग्रे- अगर कोई साइट विज़िट करना चाहता हो, चाहे क्लाइयंट हो या कस्टमर या कोई और सब इसी हेलमेट का इस्तेमाल करते हैं.

वापस पीएम मोदी पर आते हैं, कि उन्होंने साइट का निरीक्षण करते वक्त सफेद हेलमेट क्यों पहना. तो अघोषित नियमों के हिसाब से यही लगता है कि पीएम मोदी को ग्रे या सफेद कलर का हेलमेट ही पहनने को दिया जा सकता था. अब इसका जवाब हम नहीं देने वाले कि क्या उन्होंने जानबूझकर अपनी पोशाक के रंग की मैचिंग का हेलमेट पहनना पसंद किया. वो क्या है कि पीएम की ड्रेसिंग पर तुक्का लगाने के अलावा भी हमारे पास बहुत काम है. केवल इतना ही कहेंगे कि कन्स्ट्रक्शन साइट पर हेलमेट पहनकर पीएम ने सतर्कता बरती, क्योंकि सुरक्षा बहुत ज़रूरी है.


वीडियो-अमेरिका के दौरे पर गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आतंकवाद पर क्या कहा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

कहानी 'मनी हाइस्ट' के 'बर्लिन' की, जिनका इंडियन देवी-देवताओं से ख़ास कनेक्शन है

कहानी 'मनी हाइस्ट' के 'बर्लिन' की, जिनका इंडियन देवी-देवताओं से ख़ास कनेक्शन है

'बर्लिन' की लोकप्रियता का आलम ये था कि पब्लिक डिमांड पर उन्हें मौत के बाद भी शो का हिस्सा बनाया गया.

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.