Submit your post

Follow Us

'बाहुबली' रचने वाले इस आदमी की पूरी फैमिली ही फिल्मी है

13.27 K
शेयर्स

एस एस राजमौली. पूरा नाम कौदुरी श्रीशैला श्री राजमौली. 10 अक्टूबर 1973 को रायचूर, कर्नाटक के अमरेश्वर कैंप में पैदा हुए. पूरी की पूरी फैमिली फिल्मी है. पापा केवी विजयेंद्र प्रसाद फिल्मों की कहानियां लिखते हैं. नॉर्थ इंडिया में फिल्मों का शौकीन क्राउड जो सिर्फ हीरो हिरोइन से फिल्म को पहचानता है, वो उनको नहीं जानता होगा. लेकिन अभी हम बताते हैं उनका छोटा सा परिचय. बाहुबली 2 भी राजमौली के पापा ने लिखी है और पिछली वाली भी. हिंदी में बजरंगी भाईजान लिखी थी. अब पता चला कि राजमौली किसके बेटे हैं. कहां से निकला है वो हुनर जो साउथ इंडिया की फिल्म इंडस्ट्री पर राज कर रहा है.

फिलहाल बात पापा नहीं, उसके बेटे की. उनकी तुलना भारत में स्टीवन स्पीलबर्ग से कर सकते हैं. क्योंकि स्पीलबर्ग मतलब बड़ा बजट, दमदार कहानी, ढेर सारा स्पेशल इफेक्ट, हद से ज्यादा परफेक्शन और नतीजा ब्लॉकबस्टर हिट फिल्म. इसी मेयार पर राजमौली भी खरे उतरते हैं. खूब सारा एक्शन, इमोशन और ड्रामा क्रिएट करके बाजार लूट ले जाते हैं. इनकी फिल्मों में ऐसा क्या खास होता है जिसकी वजह से ये ढेर सारा पैसा और प्रशंसा कमाकर लाती हैं, ये इनकी कुछ फिल्मों के फीचर्स देखकर समझने की कोशिश करते हैं.

कुछ तेलुगू टीवी सीरियल्स डायरेक्ट करने के बाद राजमौली पहली फिल्म 2001 में लेकर आए. नाम था स्टूडेंट नंबर 1. एनटीआर जुनियर और गजाला लीड रोल में थे और ये उस साल की सबसे बड़ी हिट थी. अगर पहला ही प्रोजेक्ट उम्मीद से ज्यादा सफल हो जाए तो बंदा वहीं जमने के मंसूबे पाल लेता है. पहली फिल्म की स्टोरी कमाल की थी. एक लॉ कॉलेज में नया लड़का जॉइन करता है. आधी फिल्म तक पता ही नहीं लगता कि ये चॉकलेटी सा लड़का कौन है. आधी फिल्म बीतने के बाद पता चलता है कि ये मर्डर करके आजीवन कारावास काट रहा है. इससे एक गुंडे की हत्या हो गई थी जो एक लड़की का रेप करने की कोशिश कर रहा था. जेल अफसरों की परमिशन पर ये कानून की पढ़ाई करने आया है. कानून की पढ़ाई के लिए पापा का दबाव है, जबकि वो खुद इंजीनियरिंग करना चाहता है.

याद करो 2001 हिंदी फिल्मों के लिहाज से कैसा साल था. लगान और गदर एक प्रेम कथा इधर गदर मचाए हुए थे. और न जाने कितनी कचरा फिल्में भी इस साल रिलीज हुई थीं. लेकिन जो पूरे भारत में चलीं, स्टूडेंट नंबर वन उनमें से एक थी.

इस फिल्म के बाद राजमौली ने दो साल का ब्रेक लिया और फिर शिमाद्री लेकर आए. फिल्म ये भी हिट रही. ये भूमिका चावला के लिए अच्छा साल था. भूमिका को अगर दिमाग पर जोर डालकर याद करना पड़ रहा है तो भैये फिल्मों पर बात करने के लिए सही आदमी नहीं हो. इसी सील हिंदी में तेरे नाम आई थी. उसमें सलमान खान के साथ भूमिका चावला थीं. भूमिका की दोनों फिल्म जबरदस्त चलीं.

2004 में रग्बी गेम पर बेस्ड साई लेकर आए. इसमें नितिन और जेनीलिया डीसूजा थे. जेनीलिया रितेश देशमुख की वाइफ हैं. इनको अभी जल्दी में जॉन अब्राहम वाली फोर्स 2 में देगा ङोगा. तो साई की कहानी बड़ी सिंपल थी. कॉलेज के दो स्टूडेंट लीडर्स थे, दोनों रग्बी और लड़ाई के शौकीन. आपस में हमेशा युद्ध मोड में लगे रहते थे. लेकिन उनकी दुश्मनी को दोस्ती में बदलने नया दुश्मन आ जाता है. ये एक माफिया लीडर होता है जो कॉलेज की जमीन खरीदकर उस पर अपना काम करना चाहता है. दोनों लड़ाके उसको गिराने के लिए एक हो जाते हैं. इतनी सिंपल स्टोरी को जिस चाशनी की जरूरत थी, वो राजमौली ने दी. और फिल्म चल पड़ी. नीचे फिल्म लगी है, बिना सबटाइटल के. तेलुगू समझने वाले देख सकते हैं. वैसे फिल्म की अलग भाषा होती है इसके लिए सबटाइटल्स की जरूरत नहीं होती.

आपकी फेवरेट बाहुबली पर आने से पहले अपनी फेवरेट मगधीरा की बात करते हैं. मगधीरा का हिंदी तर्जुमा होता है महान योद्धा. ये उस साल की सबसे बड़ी हिट थी. इसमें उस एक्टर का बेटा हीरो था जिसकी फिल्में देखने के लिए लोग अपने बच्चों को घर में बंद करके चले जाते थे. उन चिरंजीवी के बेटे रामचरन इस फिल्म में हीरो थे. फिल्म इन्हीं के करेक्टर के दो जन्मों की कहानी थी. एक जन्म में हीरो हिरोइन के बीच में विलेन आ जाता है और हीरो को मार देता है. दूसरे जन्म में हीरो विलेन को मारकर अपने प्यार को हासिल कर लेता है. दो लाइन में जो कहानी खतम हो गई वो दरअसल इतनी सीधी नहीं है. इस फिल्म में भी बाहुबली सा ही भारी भरकम सेट और ढेर सारा खर्च. इस फिल्म के प्रोडक्शन में राजमौली ने अपना सब कुछ लगा दिया था. कहानी उनके पापा केवी विजयेंद्र ने ही लिखी थी. उनको इसका आइडिया एक मराठी फिल्म देखते हुए आया था. जिसमें शिवाजी और तानाजी के करेक्टर्स होते हैं. वो मुगल सेना से लड़ते हैं. लड़ते हुए तानाजी की मौत हो जाती है. विजयेंद्र इस कहानी से आइडिया लेकर अपनी कहानी लिखते हैं जिसमें मरने वाला 400 साल बाद पैदा होकर अपनी रानी की सेवा करता है.

ये कहानी लेकर वो डायरेक्टर्स के पास गए तो कोई इस पर फिल्म बनाने के लिए राजी नहीं हुआ था. फिर जब लड़का लायक हो गया तो उसको कहानी सुनाई. लड़के ने उस पर थोड़ा काम करके फिल्म बना डाली. और फिर जो फिल्म बनी है कि भाईसाब हर तरफ धीरा धीरा गूंज रहा था.

अब बात उस फिल्म की जिसके लिए ये सब माया रची गई है. बाहुबली. साल 2015 में आई और पब्लिक की खोपड़ी घुमाकर चली गई. लास्ट में जो To Be Continued लिखा था न, वो जानलेवा था. जिसका इंतजार लोग खुली आंखों से सोते जागते करने वाले थे. जिसने भारत को दशक का सबसे बड़ा सवाल दिया. “कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा?” दूसरे भाग के रिलीज़ होने के बाद भी लोग सिनेमाहाल की तरफ दौड़े तो सिर्फ इसी सवाल का सही जवाब खोजने के लिए.

'बाहुबली' की मेकिंग के दौरान फिल्म के सेट पर 'भल्लादेव' का किरदार निभाने वाले राणा दग्गुबाती के साथ डायरेक्टर राजामौली.
‘बाहुबली’ की मेकिंग के दौरान फिल्म के सेट पर ‘भल्लादेव’ का किरदार निभाने वाले राणा दग्गुबाती के साथ डायरेक्टर राजामौली.

‘बाहुबली’ में क्या था? दिमाग पर जोर डालकर देखिए. ये शुद्ध मसाला फिल्म थी. इतिहास से एक सब्जेक्ट उठा लिया गया. उसमें एक मां बेटे और एक प्रेमी प्रेमिका के प्यार की इमोशनल कहानी को इस तरह पिरोया गया कि देखने वालों के आंसू झरने की तरह बहने लगें. झरना. इससे कुछ याद आया? वो मनमोहक झरना जिस पर बाहुबली लटका हुआ दिखता है. वो सीन आम कॉमन मैन के लिए एक फैंटेसी है. जिस पर सवार होकर वो बड़ी दूर चला जाता है. शिवलिंग को कंधे पर उठाने वाला सीन. उसमें प्रभास की एक्टिंग से ज्यादा राजमौली के हुनर का कमाल था.

तो ये हैं एसएस राजमौली. आज बड्डे है. इनको सब लोग विश कर दीजिए.


वीडियो देखें:

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

अमिताभ बच्चन तो ठीक हैं, दादा साहेब फाल्के के बारे में कितना जानते हो?

खुद पर है विश्वास तो आ जाओ मैदान में.

‘ताई तो कहती है, ऐसी लंबी-लंबी अंगुलियां चुडै़ल की होती हैं’

एक कहानी रोज़ में आज पढ़िए शिवानी की चन्नी.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो कितना जानते हो उनको

मितरों! अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

इस क्विज़ में परफेक्ट हो गए, तो कभी चालान नहीं कटेगा

बस 15 सवाल हैं मित्रों!

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

इंग्लैंड के सबसे बड़े पादरी ने कहा वो शर्मिंदा हैं. जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

KBC क्विज़: इन 15 सवालों का जवाब देकर बना था पहला करोड़पति, तुम भी खेलकर देखो

आज से KBC ग्यारहवां सीज़न शुरू हो रहा है. अगर इन सारे सवालों के जवाब सही दिए तो खुद को करोड़पति मान सकते हो बिंदास!

क्विज: अरविंद केजरीवाल के बारे में कितना जानते हैं आप?

अरविंद केजरीवाल के बारे में जानते हो, तो ये क्विज खेलो.

क्विज: कौन था वह इकलौता पाकिस्तानी जिसे भारत रत्न मिला?

प्रणब मुखर्जी को मिला भारत रत्न, ये क्विज जीत गए तो आपके क्विज रत्न बन जाने की गारंटी है.

ये क्विज़ बताएगा कि संसद में जो भी होता है, उसके कितने जानकार हैं आप?

लोकसभा और राज्यसभा के बारे में अपनी जानकारी चेक कर लीजिए.