Submit your post

Follow Us

एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल पर ED का शिकंजा क्यों कसता जा रहा है?

132
शेयर्स

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता प्रफुल्ल पटेल की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. प्रवर्तन निदेशालय यानी ED का शिकंजा उन पर लगातार कसता जा रहा है. 11 जून के दिन एक बार फिर उनसे ED ने पूछताछ की. उनसे 10 जून को भी करीब 8 घंटे पूछताछ हुई थी. प्रफुल्ल पटेल से ये पूछताछ कथित तौर पर करोड़ों रुपए के घोटाले को लेकर की जा रही है. कॉरपोरेट लॉबिस्ट दीपक तलवार से ED को कुछ ऐसे सबूत मिले हैं, जिनके आधार पर प्रफुल्ल पटेल से पूछताछ की गई. उन पर मनी लॉन्ड्रिंग का संदेह जताया जा रहा है. ईडी के अधिकारियों ने प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्‍ट PMLA के तहत पटेल से पूछताछ की. ईडी ने साल 2017 में दीपक तलवार के खिलाफ केस दर्ज किया था. ये केस सीबीआई की एफआईआर के बाद दर्ज किया गया था. इस केस से प्रफुल्ल पटेल का क्या लेना-देना है. आइए समझते हैं.

मामला क्या है?
प्रफुल्ल पटेल मनमोहन सिंह सरकार में 2004 से 2011 तक नागरिक उड्डयन मंत्री थे. उस दौर में नागरिक उड्डयन मंत्रालय में बहुत कुछ हुआ. एयर इंडिया और इंडियन एयरलाइंस का विलय किया गया. अमेरिका की कंपनी बोइंग और फ्रांस की कंपनी एयरबस से करीब 67,000 करोड़ रुपए में 111 विमान खरीदे गए. ये विमान एयर इंडिया और इंडियन एयरलाइंस की खातिर लिए गए. इसके साथ-साथ खाड़ी देशों की 3 कंपनियों को उड़ान के लिए रूट आवंटित किए. विदेशी निवेश के जरिए विमानन ट्रेनिंग सेंटर खोले गए. अब ये सारे सौदे जांच के दायरे में हैं. सीबीआई आपराधिक मामलों की और प्रवर्तन निदेशालय मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े मसले की जांच कर रहा है.

मुख्य आरोप क्या हैं?
# इंडियन एयरलाइंस ने फरवरी, 2006 में फ्रांस की एयरबस कंपनी से 43 विमान खरीदने का सौदा किया. इस पर कैग ने 17 अगस्त, 2011 को रिपोर्ट दी. रिपोर्ट में पाया कि इंडियन एयरलाइंस ने ये सौदा करीब 8,399.60 करोड़ रुपए की लागत से किया. इसी तरह एयर इंडिया ने शुरुआत में सिर्फ 24 विमान खरीदने की योजना बनाई. इस तरह इंडियन एयरलाइंस और एयर इंडिया के लिए 67 विमान खरीदे जाने थे.

# बाद में नागरिक उड्डयन मंत्रालय के कुछ अफसरों ने इस ऑर्डर में बदलाव किया. उन्होंने अपने पद का दुरुपयोग किया. और बोइंग और एयरबस से कुल 111 विमान खरीदने का ऑर्डर दिया. ब्याज समेत इस सौदे की लागत 70,000 करोड़ रुपए से ज्यादा की थी.

# इस पर सरकार ने इस पूरे मामले की जांच का आदेश दिया. इस पूरे में नागरिक उड्डयन मंत्रालय के कुछ अफसरों से पूछताछ की गई. साथ ही, अहम कड़ी के तौर पर एक नाम सामने आया. ये नाम था कॉरपोरेट लॉबिस्ट दीपक तलवार का. दीपक तलवार कंपनियों को ठेके दिलाने का काम करता था.

प्रफुल्ल पटेल की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं. फाइल फोटो.
प्रफुल्ल पटेल की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं. फाइल फोटो.

दीपक तलवार पर क्या इल्जाम हैं?
1- प्रवर्तन निदेशालय की चार्जशीट के मुताबिक दीपक तलवार, प्रफुल्ल पटेल का करीबी है.
2- आरोप है कि दीपक तलवार ने प्रफुल्ल पटेल के जरिए प्राइवेट एयरलाइंस कंपनियों को मुनाफे वाले रूट दिलाए.
3- एयर इंडिया के हाथ से ये रूट निकल जाने से उसे बड़ा घाटा हुआ.
4- इस लॉबिंग के बदले दीपक तलवार को मोटा कमीशन दिया गया.
5- अप्रैल, 2008 से फरवरी, 2009 के बीच एशिया फील्ड लिमिटेड और गिल्ट असेट्स मैनेजमेंट लिमिटेड को 272 करोड़ रुपए का भुगतान किया गया.
6-आरोप है कि ये पैसा 3 विदेशी एयरलाइन्स एयर एमीरेट्स, एयर अरेबिया और कतर एयरवेज की ओर से दिया गया. इन्हीं 3 कंपनियों को फायदे वाले रूट आवंटित किए गए.
7- एशिया फील्ड लिमिटेड का मालिकाना हक दीपक तलवार के बेटे आदित्य तलवार के पास है.
8- आरोप है कि इन कंपनियों के लिए दीपक तलवार लॉबिंग कर रहा था. उसने प्रफुल्ल पटेल के साथ अपने संबंधों का लाभ उठाकर विदेशी एयरलाइंस को फायदा पहुंचाया.
9- ED के मुताबिक दीपक तलवार ने प्रफुल्ल पटेल को विदेशी एयरलाइंस के प्रतिनिधियों के नाम पते दिए. और उनको अनुचित फायदा पहुंचाने के लिए नेताओं, मंत्रियों और सरकारी अफसरों के बीच लॉबिंग की.
10-ED के मुताबिक उसके पास कई ऐसे ई-मेल हैं, जो प्रफुल्ल पटेल और दीपक तलवार के बीच संबंध जाहिर करते हैं.
11- ईडी के मुताबिक विदेशी एयरलाइंस को फायदे वाले रूट दिलाने के लिए तब की भारत सरकार ने कई नीतियों में बदलाव किया.
12– एयरक्राफ्ट बनाने वाली कंपनियों यानी बोइंग और एयरबस को फायदा पहुंचाने के लिए भी नीतियां बदली गईं.
13- इंडियन एयरलाइंस ने शुरुआत में 43 एयरक्राफ्ट खरीदने की योजना बनाई. बाद में इसकी संख्या बढ़ा दी गई.
14– ईडी की चार्जशीट के मुताबिक दीपक तलवार ने अपनी कंपनी बनाकर एयरबस से पार्टनरशिप की.
15- दलाली की रकम को तलवार के खाते से नागरिक उड्डयन मंत्रालय के कुछ अफसरों के खाते में भी ट्रांसफर किया गया है.

प्रफुल्ल पटेल कैसे आ रहे लपेटे में?
इकोनॉमिक टाइम्स के मुताबिक प्रफुल्ल पटेल को ईडी ने अपनी चार्जशीट में दीपक तलवार का दोस्त बताया है. मंत्रालय की नीतियों को प्रभावित करने में दीपक तलवार ने प्रफुल्ल पटेल के साथ अपने रिश्तों को भुनाया. ईडी ये जानना चाह रही है कि आखिर फायदे वाले रूट विदेशी कंपनियों को किसके कहने पर आवंटित किए गए. इन सौदों की प्रक्रिया और समझौतों में प्रफुल्ल पटेल की क्या भूमिका थी. साथ ही एयर इंडिया और इंडियन एयरलाइंस के विलय में उनका क्या रोल था. क्या इन सभी में किसी तरह की मनी लॉन्ड्रिंग हुई है या नहीं. मनी लॉन्ड्रिंग का मतलब होता है कालेधन को सफेद करना.


वीडियोः इन महिलाओं को मिली है मोदी कैबिनेट में जगह

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
All you need to know about aviation scam, ED questioned NCP Leader Praful patel

कौन हो तुम

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

14 मार्च को बड्डे होता है. ये तो सब जानते हैं, और क्या जानते हो आके बताओ. अरे आओ तो.

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

आज आमिर खान का हैप्पी बड्डे है. कित्ता मालूम है उनके बारे में?

चेक करो अनुपम खेर पर अपना ज्ञान और टॉलरेंस लेवल

अनुपम खेर को ट्विटर और व्हाट्सऐप वीडियो के अलावा भी ध्यान से देखा है तो ये क्विज खेलो.

Quiz: आप भोले बाबा के कितने बड़े भक्त हो

भगवान शंकर के बारे में इन सवालों का जवाब दे लिया तो समझो गंगा नहा लिया

आजादी का फायदा उठाओ, रिपब्लिक इंडिया के बारे में बताओ

रिपब्लिक डे से लेकर 15 अगस्त तक. कई सवाल हैं, क्या आपको जवाब मालूम हैं? आइए, दीजिए जरा..

जानते हो ह्रतिक रोशन की पहली कमाई कितनी थी?

सलमान ने ऐसा क्या कह दिया था, जिससे हृतिक हो गए थे नाराज़? क्विज़ खेल लो. जान लो.

राजेश खन्ना ने किस हीरो के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीता था?

राजेश खन्ना के कितने बड़े फैन हो, ये क्विज खेलो तो पता चलेगा.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

फवाद पर ये क्विज खेलना राष्ट्रद्रोह नहीं है

फवाद खान के बर्थडे पर सपेसल.

दुनिया की सबसे खूबसूरत महिला के बारे में 9 सवाल

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.