Submit your post

Follow Us

कोविन ऐप से जुड़े कन्फ्यूजन मन में हैं तो इसके चीफ की बातें सुन लीजिए!

कोरोना वायरस (Coronavirus) के ख़िलाफ सबसे मारक हथियार है- वैक्सीन. वैक्सीन के लिए Cowin से बुकिंग करनी है. जिस दिन का स्लॉट मिले, उस दिन जाकर टीका लगवा लो. कितना सिंपल है न? नो ब्रो. इस पूरी प्रोसेस में कई जंक्शन हैं, जहां यूज़र ठिठकता है. जहां उसे लगता है कि अब क्या करें और जहां उसे लगता है कि यार, कितना झंझट है इसमें? इसलिए आज तफ्सील से बात कोविन पर.

एक आदर्श प्रोसेस ये रहा

# जब आप cowin.gov.in पर जाएंगे तो राइट साइड में ऊपर की ओर एक ऑप्शन दिखेगा – Register/Sign in yourself. इस पर क्लिक करिए.

क्लिक करते ही एक पेज खुलेगा. यहां पर आपको अपना मोबाइल नंबर डालना होगा. इस नंबर पर एक OTP आएगा. ये OTP डाल दीजिए.

# अब आपकी व्यक्तिगत जानकारी के लिए Register for Vaccination लिखा हुआ मुख्य पेज खुलेगा. इसमें फोटो आईडी प्रूफ और फोटो आईडी नंबर भरना होगा. आईडी प्रूफ के तौर पर आधार, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस आदि डॉक्यूमेंट दिए जा सकते हैं. इसके बाद इस आईडी प्रूफ का नंबर लिखना है. एक बात याद रखें कि जो भी जानकारी भरें वह आईडी प्रूफ से जरूर मिलनी चाहिए. ऐसा न हो कि नाम की स्पेलिंग या साल गलत भर दें और सेंटर पर वेरिफिकेशन के वक्त दिक्कत आए.

# इसमें वैक्सिनेशन सेंटर के साथ उपलब्ध स्लॉट पर क्लिक करते ही अपने मन मुताबिक स्लॉट बुक करने का पेज खुल जाएगा. इस पेज पर वैक्सिनेशन का वक्त चुनकर Confirm पर क्लिक करें.

# Confirm पर क्लिक करते ही आपका रजिस्ट्रेशन हो जाएगा. इसी के साथ दिए गए फोन नंबर पर एक मेसेज भी आ जाएगा और वेबसाइट पर भी वैक्सीनशेन का शेड्यूल दिखने लगेगा. अगर किसी कारण से बताए दिन पर नहीं पहुंच पाते तो यहां रिशेड्यूल करने का विकल्प भी दिया गया है.

इसमें कुछ दिक्कतें आती हैं

ये प्रोसेस यूं तो आसान है. लेकिन कुछ दिक्कतें आ जाती हैं. इन दिक्कतों या कन्फ्यूजन के जवाब हासिल करने के लिए हमने बात की नेशनल हेल्थ अथॉरिटी के CEO आरएस शर्मा से, जो कि कोविन पोर्टल के चीफ हैं.

सवाल – कई शहरों में 45 साल से ऊपर वालों के वैक्सीन स्लॉट खाली हैं. फिर उन्हें 44 साल से कम उम्र वालों के लिए क्यों नहीं ओपन कर देते?

जवाब – ये केंद्र सरकार की पॉलिसी है. उन्होंने ही तय किया है कि 45 साल से ऊपर वालों को वैक्सीन में प्राथमिकता देनी है. इसके बाद वे लोग, जिनको पहली डोज़ लग चुकी है और अब दूसरी लगनी है. इसीलिए अधिकतर स्लॉट इनके लिए बुक रखे जाते हैं. इसमें कोविन की कोई भूमिका नहीं है.

सवाल – रजिस्ट्रेशन करने के बाद भी बार-बार स्लॉट के लिए चेक करते रहना पड़ता है. ऐसा क्यों नहीं कर देते कि यूज़र एक बार रजिस्टर कर ले, फिर जब उसके आस-पास स्लॉट खाली हों तो मैसेज आ जाए?

जवाब – हमारे पास जो डेटा है, उसके हिसाब से अनुमान लगाएं तो एक स्लॉट के लिए करीब 3 हज़ार लोग लाइन में हैं. इतनी ज़्यादा डिमांड हैं वैक्सीन स्लॉट के लिए. अब हमें ये बताइए कि इतने लोगों में से हम किन एक-दो लोगों को मैसेज करके बता दें कि आपके क्षेत्र में वैक्सीन स्लॉट खाली है, जाइए लगवा लीजिए. और अगर रैंडम सेलेक्ट करके मैसेज भेज भी दें तो क्या ये बाकियों के साथ ग़लत नहीं होगा?

सवाल – वैक्सीन की पहली डोज़ एक शहर में लगवाई. फिर क्या दूसरी डोज़ के लिए किसी और शहर में स्लॉट ले सकते हैं?

जवाब – बिल्कुल. यही तो कोविन ऐप का काम है. वैक्सीनेशन में सुविधा देना. आप एक डोज़ एक शहर में लगवाएं और दूसरी कहीं और. कोई दिक्कत नहीं.

सवाल – यूज़र्स का कहना है कि कोविन की तुलना में तो आरोग्य सेतु से वैक्सीन बुक करने में सहूलियत हो रही है. इस पर OTP भी जल्दी आ रहे हैं. ऐसा क्यों?

जवाब – ऐसा नहीं है. ये बस लोगों ने एक अवधारणा बना ली है. ये हमारे पास डेटा है कि कोविन पर OTP मंगाने वालों में 98.31 फीसदी यूज़र्स को मैसेज गया है. इन लोगों में से भी 98.91 फीसदी यूज़र्स ऐसे हैं, जिनके पास 15 सेकंड के अंदर-अंदर OTP गया है. एकाध बार दिक्कत होने पर लोगों ने ग़लत परसेप्शन बना लिया है.

उन्होंने ये भी कहा कि रही बात आरोग्य सेतु से जल्दी वैक्सीन बुक हो रही है या कोविन से, तो इसका सवाल ही नहीं उठता. क्योंकि वैक्सीन के स्लॉट तो उतने ही हैं, अब आप चाहे आरोग्य सेतु से बुक करें या कोविन से. वो स्लॉट तो बढ़ेंगे-घटेंगे नहीं.


वैक्सीन लगवाने के बाद ये गलती न करें वरना हो जाएगा कोरोना

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

कौन सा था वो पहला मीम जो इत्तेफाक से दुनिया में आया?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

चुनावी माहौल में क्विज़ खेलिए और बताइए कितना स्कोर हुआ.

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

राहुल के साथ यहां भी गड़बड़ हो गई.

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

14 मार्च को बड्डे होता है. ये तो सब जानते हैं, और क्या जानते हो आके बताओ. अरे आओ तो.

आमिर पर अगर ये क्विज़ नहीं खेला तो दोगुना लगान देना पड़ेगा

आमिर पर अगर ये क्विज़ नहीं खेला तो दोगुना लगान देना पड़ेगा

म्हारा आमिर, सारुक-सलमान से कम है के?

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

आज आमिर खान का हैप्पी बड्डे है. कित्ता मालूम है उनके बारे में?

अनुपम खेर को ट्विटर और वॉट्सऐप वीडियो के अलावा भी ध्यान से देखा है तो ये क्विज खेलो

अनुपम खेर को ट्विटर और वॉट्सऐप वीडियो के अलावा भी ध्यान से देखा है तो ये क्विज खेलो

चेक करो अनुपम खेर पर अपना ज्ञान.

कहानी राहुल वैद्य की, जो हमेशा जीत से एक बिलांग पीछे रह जाते हैं

कहानी राहुल वैद्य की, जो हमेशा जीत से एक बिलांग पीछे रह जाते हैं

'इंडियन आइडल' से लेकर 'बिग बॉस' तक सोलह साल हो गए लेकिन किस्मत नहीं बदली.

गायों के बारे में कितना जानते हैं आप? ज़रा देखें तो...

गायों के बारे में कितना जानते हैं आप? ज़रा देखें तो...

कितने नंबर आए बताते जाइएगा.