Submit your post

Follow Us

5G ट्रायल पर वो जानकारी जो आपको कहीं नहीं मिलेगी

भारत में फास्ट इंटरनेट के दीवानों का सपना, सच होने के एक कदम और नजदीक पहुंच गया है. भारत में 5G इंटरनेट तकनीक का ट्रायल शुरू करने की परमीशन सरकार ने दी दी है. इसकी मांग लंबे वक्त से टेलीकॉम कंपनियां कर रही थीं. बता दें कि 2 साल पहले सरकार ने दिल्ली में आयोजित इंडियन मोबाइल कांग्रेस के दौरान सिर्फ एक परिसर (निर्धारित क्षेत्र) के भीतर इसके ट्रायल की परमीशन दी थी. लेकिन अब यह ट्रायल दूर गांव से लेकर शहरों तक सब जगह होगा. अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर 5 जी क्या है? और इससे हमारी जिंदगी पर क्या फर्क पड़ने वाला है? इंटरनेट की दुनिया इससे कैसे बदलने वाली है? क्या यह सेहत के लिए नुकसानदायक है? ऐसे ही कई सवालों के जवाब हमने तलाशे हैं, जो कुछ इस तरह से हैं.

5G के ट्रायल क्यों हो रहे हैं?

हाई स्पीड इंटरनेट की 5जी तकनीक के ट्रायल की मंजूरी सरकार ने दे दी है. दूरसंचार मंत्रायल के सचिव अंशु प्रकाश ने द इंडियन एक्सप्रेस अखबार को बताया कि इस तरह के ट्रायल बहुत महत्वपूर्ण होते हैं. इनकी वजह से 5 जी ऑक्शन और उसकी सर्विस शुरू करने में जो गैप होता है, वह घट जाता है. पहले स्पेक्ट्रम ऑक्शन के बाद ही ट्रायल होते थे लेकिन इस बार हम पहले कर रहे हैं. इससे 5 जी आम लोगों तक जल्दी पहुंचेगा.

कहां होंगे 5G के ट्रायल?

हर टेलीकॉम कंपनी को 5जी का ट्रायल हर तरह के इलाके में करना होगा. मतलब हर कंपनी को गांव, कस्बे और शहरों के स्तर पर 5जी टेक्नोलॉजी का ट्रायल करना होगा. इसे सिर्फ शहरी जगहों तक ही सीमित नहीं रखा गया है. इसके लिए कंपनिया अपना तकनीकी सेटअप ट्रायल वाली जगहों पर करेंगी. देशभर में 5जी उपकरण लगाने के लिए दो महीने का समय दिया गया है. संचार मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि दूरसंचार कंपनियों को 5जी के ट्रायल के लिए अभी 6 महीने का वक्त दिया गया है. ट्रायल के वक्त भी इसे कमर्शियल सर्विस की तरह शुरू किया जाएगा. हालांकि इसका एक्सेस सीमित 5जी डिवाइसेज तक ही होगा. 5 जी से जुड़ा सारा डेटा भारत में स्थित किसी सर्वर में स्टोर किया जाएगा.

कौन सी कंपनियां कर रही हैं 5G का ट्रायल?

देश में 5जी के ट्रायल के लिए भारती एयरटेल, रिलायंस जियो, वोडाफोन आइडिया और एमटीएनएल ने आवेदन किया है. ये टेलीकॉम कंपनियां ही ट्रायल में हिस्सा लेंगी. इन कंपनियों ने 5जी उपकरण के लिए एरिक्सन, नोकिया, सैमसंग और सी-डॉट जैसी कंपनियों के साथ टाई-अप किया है.

देश की सभी जानी मानी टेलिकॉम कंपनियां इस ट्रायल में हिस्सा ले रही हैं.
देश की सभी जानी मानी टेलीकॉम कंपनियां इस ट्रायल में हिस्सा ले रही हैं.

क्या कोई चाइनीज़ कंपनी भी इसमें शामिल है?

चीन के साथ खराब रिश्तों के चलते इस ट्रायल से चीन की दो बड़ी कंपनियां दूर हैं. एक कंपनी का नाम है हुवावेई (Huawei) और दूसरी का ज़ीटीई (ZTE). ये चीन ही नहीं, दुनिया में टेलीकॉम उपकरण बनाने वाली सबसे बड़ी कंपनियां हैं. इन कंपनियों के साथ किसी टेलीकॉम कंपनी ने ट्रायल के लिए अनुबंध नहीं किया है. माना जा रहा है कि सरकार चीन को इस ट्रायल से दूर रखना चाहती है, इसलिए कंपनियों ने ऐसा कदम उठाया है. हालांकि इंडियन एक्सप्रेस ने टेलीकॉम डिपार्टमेंट के अधिकारी के हवाले से लिखा है कि किसी टेलीकॉम कंपनी ने हुवावेई और ज़ीटीई के इक्वीपमेंट इस्तेमाल करने की इच्छा नहीं जताई. ऐसे में मना करने का सवाल नहीं है.

5 जी आने से स्पीड में ऐसा क्या फर्क पड़ जाएगा?

एक शब्द में कहें तो 5G मतलब तेज़ इंटरनेट स्पीड. 4G के मुकाबले क़रीब 100 गुना तेज़. और जब वायरलेस इंटरनेट तेज़ हो जाएगा, तो चीज़ें सिर्फ़ यूट्यूब या नेटफ़्लिक्स पर वीडियो देखने तक ही सीमित नहीं रहेंगी. ऑटोनॉमस व्हिकल्स, वर्चुअल रियल्टी और इंटरनेट ऑफ़ थिंग्स जैसी चीज़ें भी आम होने लगेंगी. मतलब कि अपने आप चलने वाली कार, स्मार्ट होम आदि जैसी चीज़ें भी आसान हो जाएंगी. ये सभी तकनीकें तैयार हुई पड़ी हैं या अपने अंतिम चरण में हैं.

हमें भले ही 4G तकनीक भी तेज लगती हो लेकिन तकनीकी तौर पर वह उतनी फास्ट है नहीं. कभी-कभी आपने भी महसूस किया होगा कि वीडियो कॉल पर बात करते हुए आवाज और वीडियो का तारतम्य बिगड़ जाता है. यह इंटरनेट की लीटेंसी या देर से रिएक्ट करने की वजह से होता है. सोच कर देखें अगर ऐसे इंटरनेट के जरिए किसी कार को कमांड दिया जा रहा हो तो क्या हो? कमांड में कुछ सेकेंड की देरी भी जान खतरे में डाल सकती है. ऐसे ही कई काम हैं जिसके लिए बेहतर और तेज इंटरनेट चाहिए. ये सपना 5 जी साकार करेगा.

5G के लिए अलग से टावर लगेंगे या 4G वालों से ही काम चल जाएगा?

सुनने में भले ही 5जी अब अगले स्टेज की तकनीक लगती है, लेकिन इसके साथ बहुत तामझाम जुड़ा हुआ है. इसे आप ऐसे समझ सकते हैं कि टेलिकॉम कंपनियों को 5जी के लिए एंटीना और टावरों का नया और सघन जाल देशभर में फैलाना पड़ेगा. दूसरी मार्के की बात यह कि 5जी आने के बाद 4जी खत्म नहीं होगा. मतलब पहले की तरह नहीं कि 3जी आया तो 2जी को बाय-बाय और 4जी आया तो 3जी को बाय-बाय. इंटरनेट की 4 जी तकनीक रहने वाली है. इसके साथ ही एक हाई स्पीड इंटरनेट का जाल तैयार होगा.

5 G नेटवर्क के लिए हाई फ्रीक्वेंसी रेडियो वेव्स का इस्तेमाल होगा. जो कि पहले, यानी 4G, 3G में, नहीं होती थी. ये हाई फ्रीक्वेंसी वाला फंडा आप एक उदाहरण से समझिए. रेडियो पर पहले मीडियम वेव और शॉर्ट वेव पर विविध भारती आदि चैनल आते थे. दिल्ली से ब्रॉडकास्ट होते थे और कानपुर में भी सुनाई देते थे. फिर आया बेहतरीन साउंड क्वालिटी एफएम रेडियो. लेकिन दिल्ली का एफएम दिल्ली में सुना जा सकता है. उसे कानपुर में नहीं सुना जा सकता. कारण, एफएम रेडियो मीडियम वेव और शॉर्ट वेव के मुकाबले हाई फ्रीक्वेंसी वेव्स पर काम करता है. हाई फ्रीक्वेंसी वेव्स की रेंज काफी कम होती है.

इन हाई फ्रीक्वेंसी रेडियो वेव्स के साथ बस एक यही दिक्कत है. हाई फ्रीक्वेंसी रेडियो वेव्स से बिना नुकसान के डेटा तेजी से भेजा जा सकता है, लेकिन ये वेव्स बहुत ज़्यादा दूर तक नहीं जा पातीं. इन्हें बिल्डिंग और रास्ते में दूसरी रुकावटें पार करने में बहुत दिक्कत होती है. कई बार बरसात टाइप की चीज़ें भी इन्हें आगे जाने से रोक सकती हैं. अब इसका उपाय यही है कि कम दूरी पर ज्यादा टावर लगाए जाएं. 5 जी के टावर 4जी के टावरों के मुकाबले छोटे और ज्यादा पास-पास होंगे. जहां एक 4 जी टावर से काम चलता था वहां दस 5जी टावर तक लगाने पड़ सकते हैं. हालांकि टावरों की संख्या लोकेशन और यूजर्स की सघनता पर भी निर्भर करेगी.

5 जी तकनीक 4जी तकनीक से काफी अलग है ऐसे में उसके लिए अलग तरह के टावरों की जरूरत होगी.
5 जी तकनीक 4जी तकनीक से काफी अलग है ऐसे में उसके लिए अलग तरह के टावरों की जरूरत होगी.

ज्यादा टावर मतलब ज्यादा वेव्स, कहीं 5G शरीर के लिए नुकसानदायक तो नहीं?

जब से वायरलेस तकनीक आई है इसे लेकर लोगों में भ्रम बना हुआ है. अभी हाल ही में हमारी पड़ताल टीम ने 5G तकनीक से जुड़े एक दावे की पड़ताल  की है. इसमें बताया गया था कि लोगों को 5G की वजह से किसी भी चीज़ को छूने से करंट लग रहा है. इस दावे की जांच करने पर यह गलत निकला.

रेडिएशन के भय को दिमाग से निकालने के लिए आपको इसके पीछे की साइंस समझनी होगी. रेडिएशन का मतलब होता है एनर्जी का किसी सोर्स या स्रोत से बाहर आना. ऐसा हर ऊर्जा के स्रोत से होता है. मतलब आग जलती हो तो उससे गरमी निकलती है. इसे भी शरीर के हिसाब से रेडिएशन ही माना जाता है. लेकिन कुछ तरह के रडिएशन बीमार कर सकते हैं. वो कौन सी होते हैं ?

खतरनाक और सुरक्षित. इस लिहाज से हम रेडिएशन को दो हिस्सों में बांट सकते हैं. एक आयोनाइजिंग और दूसरा नॉन आयोनाइजिंग. आयोनाइजिंग रेडिएशन वह होता है जिनमें तरंगों की तीव्रता बहुत ज्यादा होती है. मिसाल के तौर पर अल्ट्रावॉयलेट तरंगें जैसे एक्स रे और गामा रेज़. यह शरीर को नुकसान पहुंचा सकती हैं. शरीर की कोशिकाओं और डीएनए तक पर ये असर छोड़ सकती हैं. इसलिए ही कहा जाता है कि बार-बार एक्स-रे न कराएं. यहां तक कि सूरज की रोशनी में भी ज्यादा देर बैठने को मना किया जाता है.

नॉन आइयोनाइजिंग रेडिएशन में वेवलेंथ या तरंगों की तीव्रता काफी कम होती है. इन तरंगों में इतनी ताकत नहीं होतीं कि शरीर के साथ कोई रिएक्शन कर सकें. मिसाल के तौर पर रेडियो वाली मीडियम वेव, शॉर्ट वेव और एफएम वाली तरंगें. इसी तरह की तरंगों का इस्तेमाल टीवी सिग्नल, सेलफोन 4जी और 5जी तकनीक में होता है. अमेरिकन कैंसर सोसाइटी ने रेडियो वेब्स पर कई बरसों तक की गई अपनी स्टडी  में पाया है कि इनका इंसानों पर कोई भी बुरा प्रभाव नहीं पड़ रहा है.

5 जी का डेटापैक भारत में कितने का पड़ेगा?

इसका अंदाजा अभी से लगाना थोड़ा मुश्किल और जल्दबाजी भरा होगा. लेकिन हमे इंडस्ट्री से जुड़े लोगों ने बताया कि भारत में इंटरनेट डेटा को लेकर पहले ही काफी कंपीटिशन है. ऐसे में यह 4 जी के मुकाबले बहुत ज्यादा महंगा नहीं होगा. अगर हम अपने आसपास नजर दौड़ाएं तो चीन एक ऐसा देश है जो कमर्शियल 5 जी सर्विस शुरू कर चुका है. ग्लोबल टाइम्स की एक खबर के मुताबिक उसने 5जी के शुरुआत के वक्त 30 जीबी के डेटा पैक की कीमत तकरीबन 1500 रुपए रखी थी. अब यह कीमत और भी कम हो चुकी है.


वीडियो – साइंसकारी: चीन 5जी नेटवर्क में इतना पैसा क्यों लगा रहा है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'द्रविड़ ने बहुत नाजुक शब्दों से मुझे धराशायी कर दिया था'

'द्रविड़ ने बहुत नाजुक शब्दों से मुझे धराशायी कर दिया था'

रामचंद्र गुहा की किताब 'क्रिकेट का कॉमनवेल्थ' के कुछ अंश.

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

शुद्ध और असली स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर करियर ग्राफ़ बाद में गिरता ही चला गया.

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.