Submit your post

Follow Us

अलीगढ़ अवैध शराब कांड: क्या मृतकों की संख्या 70 से ज्यादा है? पोस्टमॉर्टम पर CMO ने दी बड़ी जानकारी

उत्तर प्रदेश का अलीगढ़ शहर जहरीली शराब के कारण हुई मौतों के चलते चर्चा में है. रविवार 30 मई को खबर आई थी कि अलीगढ़ में अवैध शराब पीने से दो दर्जन से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है. लेकिन अब इस संख्या को लेकर अलग-अलग जानकारी सामने आ रही है. यहां के सांसद सतीश गौतम ने कहा है कि अवैध शराब पीने से मरने वालों की संख्या 50 से ज्यादा है. वहीं, अलीगढ़ के मुख्य चिकित्सा अधिकारी बीपीएस कल्याणी की मानें तो अब तक इस मामले से जुड़े 71 शवों का पोस्टमॉर्टम किया जा चुका है. इनमें से 35 की मौत जहरीली शराब के कारण हुई है. बाकी शवों की जांच भी की जाएगी. यानी मौतों का आंकड़ा अभी और बढ़ सकता है.

इस बीच, उत्तर प्रदेश सरकार ने आबकारी और पुलिस विभाग के कई अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की है. आजतक के रिपोर्टर संतोष को मिली जानकारी के मुताबिक, आबकारी विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय भूसरेड्डी ने संयुक्त आबकारी आयुक्त रवि शंकर पाठक और उप-आबकारी आयुक्त ओपी सिंह को भी तत्काल प्रभाव से निलंबित कर उनके खिलाफ कार्रवाई करने का आदेश दिया है. अब तक कुल 7 अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई के आदेश दिए गए हैं.

शव आते रहे, लेकिन अधिकारी कुछ नहीं बोले

रिपोर्टों के मुताबिक, बीती 27 मई को अलीगढ़ के लोधा थाना इलाके की एक देसी शराब की दुकान से लोगों ने ‘गुड ईवनिंग’ ब्रैंड की शराब खरीदी थी. इस शराब को पीकर कई लोगों की तबीयत खराब होने लगी. पीड़ितों के परिवार वाले उन्हें लेकर अस्पतालों की ओर दौड़े. 28 मई की दोपहर तक 22 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हो चुकी थी. इसके अगले दो दिन भी ये आंकड़ा बढ़ता रहा. इसके बावजूद जिले के वरिष्ठ अधिकारियों ने इस बारे में मुंह नहीं खोला.

Aligarh2
मीडिया के सवालों का जवाब देते अलीगढ़ के सांसद सतीश गौतम.

अब इस पूरे मामले पर अलीगढ़ के सांसद सतीश गौतम ने आजतक से बात की. उन्होंने बताया,

“मरने वालों की संख्या नहीं छुपाई जा सकती. आप चाहे डीएम से बात कर लें या एसएसपी से. करीब 51 लोगों की मौत की बात है अभी तक. शवगृह पर और लाशें पहुंची हैं. जहां तक कार्रवाई की बात है, आरोपी गिरफ्तार हो गए हैं. उनके खिलाफ कानून अपना काम करेगा. योगी आदित्यनाथ सरकार ने तेजी से कार्रवाई की है. किसी दोषी को छोड़ा नहीं जाएगा और निर्दोष को छेड़ा नहीं जाएगा. योगी सरकार ने मुआवजे के लिए भी काम किया है. जल्दी उसकी भी घोषणा की जाएगी. पीड़ित परिवारों को जल्दी से जल्दी राहत पहुंचाने के लिए बीजेपी सरकार प्रतिबद्ध है.”

Aligarh3
समाचार एजेंसी ANI से बात करते अलीगढ़ के सीएमओ. फोटो- आजतक

वहीं, इस पूरे मामले में जहरीली शराब से कितने लोगों की मौत हुई है, इस सवाल पर जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी भानु प्रताप सिंह कल्याणी ने कहा,

“देखिए फिलहाल 35 लोगों की मौत जहरीली शराब से होने का संदेह है. अभी तक 71 लोगों का पोस्टमॉर्टम किया जा चुका है. लेकिन कुल कितने लोगों की मौत जहरीली शराब से हुई है, ये सटीक तौर पर नहीं कहा जा सकता है. फिलहाल पोस्टमॉर्टम चल रहे हैं. अभी भी लाशें शवगृह पर पहुंच रही हैं. सभी के विसरा (मृतक के शरीर के कुछ आंतरिक अंग) सेव किए जा रहे हैं. इनकी जांच आगरा की लैब में कराई जाएगी. उसी के बाद फाइनल टैली बताई जा सकेगी. अभी मैं यही कह सकता हूं कि हम 71 पोस्टमार्टम कर चुके हैं.”

शवों की संख्या को लेकर नई जानकारी सामने आई तो सवाल उठने लगे कि इतने सारे पोस्टमॉर्टम हुए हैं और शवों का आना अभी भी जारी है तो मृतकों की संख्या केवल 35 कैसे हो सकती है.

तमाम अटकलों के बीच आजतक की टीम उन इलाकों में पहुंची, जहां ये मौतें हुईं. गांव के लोगों ने शराब की वो बोतल भी दिखाई जिसमें जहरीली शराब भरी हुई थी. बोतल पर नाम लिखा है ‘गुड ईवनिंग’. दाम 80 रुपये पव्वा.

ऐसा नहीं है कि जिसने भी ये शराब पी वो मर गया. कुछ लोग ऐसे भी हैं जिन्होंने बहुत कम मात्रा में शराब पी थी. इसलिए ये लोग अस्पताल गए जरूर, लेकिन जल्दी ही गांव वापस लौट गए. इन लोगों के हाथ में अभी भी ड्रिप लगी हुई है.

Aligarh1
गांव के लोग शराब की खाली बोतल दिखाते हुए. फोटो- आजतक

दूर-दराज में बिना पोस्टमॉर्टम अंतिम संस्कार

पत्रकारों ने इस घटना से जुड़े कई पहलुओं को उजागर किया है. इंडिया टुडे से जुड़े शिवम सारस्वत कहते हैं,

“71 शवों का पोस्टमॉर्टम हो चुका है. 10 से अधिक शवों का पोस्टमॉर्टम होना बाकी है. दूर-दराज में बिना पोस्टमॉर्टम के भी शवों का अंतिम संस्कार किया गया है. मृतकों की संख्या काफी है. लेकिन सरकारी आंकड़े में केवल 35 लोगों की मौत का संदेह बताया गया है. बाकी लोगों की मौत बीमारी, हार्ट अटैक आदि से बताई जा रही है. विसरा संरक्षित करके जांच के लिए भेजने की बात है. लेकिन अमूमन उससे मृत्यु का कारण पता चलना कठिन ही होता है.”

शिवम कुछ और अहम जानकारी भी देते हैं. उन्होंने बताया,

“शराब पंचायत चुनाव के लिए बनाई गई होगी. फिर लॉकडाउन लग गया. अब अचानक मौतें होने लगी हैं. अभी तक 10 सरकारी कर्मचारियों पर गाज गिरी है. कुछ पुलिस वाले हैं और कुछ आबकारी वाले. 20 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. 50 हजार का एक इनामी ऋषि शर्मा अभी भी फरार है. ऐसी खबरें हैं कि आरोपियों में से किसी के पास 15 ठेके थे तो किसी के पास इससे भी अधिक. इलाके भर में मौतें हो रही हैं. मातम का माहौल है.”

अलीगढ़ के एक वरिष्ठ पत्रकार नाम नहीं छापने की शर्त पर कहते हैं,

“अवैध शराब कहें, मिलावटी कहें, नकली कहें या जहरीली कहें. इसका खेल ना पहले बंद हुआ था, ना अब बंद हुआ है. बसपा की सरकार में भी ये होता था और सपा की सरकार में भी. अब भाजपा की सरकार में भी हो रहा है. संरक्षण के बिना ये संभव ही नहीं है कि ये धंधा किया जाए. आप समझिए कि नकली शराब बनाई गई, केमिकल की मात्रा ऊपर नीचे हो गई तो शराब जानलेवा हो गई. इस शराब को असली बोतल में पैक किया गया, ढक्कन लगाए गए, लेबल चिपकाए गए, बारकोड लगाए गए. इतना तामझाम करने के बाद इलाके की कुछ दुकानों तक इसे पहुंचा दिया गया.”

स्थानीय पत्रकारों के मुताबिक, 31 मई की सुबह तक भी लोगों की मौत होने की खबरें आ रही थीं. अलीगढ़ के खैर, लोधा और जवां इलाके के कई गावों में लोग इस शराब को पीने से बीमार पड़े हैं, जिनमें से कइयों की मौत हो चुकी है.

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 28 तारीख को ही इस मामले में आबकारी और गृह विभाग के अधिकारियों को तलब किया था. उन्होंने उस ठेके को सीज करने को कहा था जिससे नकली शराब की बिक्री हुई. साथ ही दोषियों पर NSA के तहत कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे. सीएम योगी ने कहा था कि दोषियों की संपत्ति को नीलाम किया जाए और उस पैसे से मृतकों के परिवार की मदद की जाए. हालांकि पुलिस और प्रशासन इस पूरे मामले में अब तक कोई बड़ा खुलासा नहीं कर सके हैं.


वीडियो- जहरीली शराब पीने से 22 लोगों की मौत हुई तो पुलिस ने छह आरोपियों को अरेस्ट किया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.