Thelallantop

मुंबई में स्कूल टीचर रहीं मां के बेटे हैं एजाज़ पटेल, छोटे कद ने पैदा कर दी थीं मुश्किलें

मुंबई टेस्ट में विकेट चटकाने के बाद न्यूज़ीलैंड के स्पिनर एजाज़ पटेल ( फोटो क्रेडिट : PTI)

एक पारी में 10 विकेट….दशकों गुज़र जाते हैं इंटरनेशनल क्रिकेट में ऐसी लाइन किसी खबर में लिखे. लेकिन आज वो दिन आ गया है. न्यूज़ीलैंड टीम के भारतीय मूल के लेफ्ट आर्म स्पिन गेंदबाज़ एजाज़ पटेल ने ये कारनामा कर दिया है. एजाज़ ने पहली पारी में 119 रन खर्चकर सभी दस विकेट झटक लिए. एजाज़ पटेल विश्व क्रिकेट के सिर्फ तीसरे ऐसे गेंदबाज हैं. जिन्होंने एक पारी में सभी दस विकेट लेने का कारनामा किया है. टेस्ट क्रिकेट की बात करें तो सबसे पहले साल 1956 में इंग्लैंड के जिम लेकर ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एक पारी में दस विकेट झटके थे. इसके बाद साल 1999 में अनिल कुंबले ने पाकिस्तान के खिलाफ एक पारी में सभी दस विकेट चटकाए थे.

#Record Breaker Ajaz Patel

बता दें कि मुंबई टेस्ट के पहले दिन के खेल खत्म होने तक भारत ने 221 रन बनाकर चार विकेट गंवाए और चारों विकेट एजाज़ के खाते में गए थे. दूसरे दिन के पहले सेशन में एजाज़ ने ऋद्धिमान साहा और अश्विन को आउट किया. और लंच के बाद एजाज़ ने मयंक अग्रवाल को भी चलता किया. ये उनका सातवां टेस्ट विकेट था. इसके बाद न्यूज़ीलैंड के इस स्पिनर ने जयंत यादव, अक्षर पटेल और सिराज को आउट कर दस विकेट लेने की बड़ी उपलब्धि हासिल की.

इतना ही नहीं, एक पारी में दस विकेट लेने के बाद एजाज़ पटेल ने न्यूज़ीलैंड के महान ऑलराउंडर सर रिचर्ड हेडली को पीछे छोड़ दिया है. साल 1985 में रिचर्ड हेडली ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ब्रिसबेन में 52 रन देकर नौ विकेट झटके थे. ये किसी भी किवी गेंदबाज़ का एक पारी सबसे बेस्ट बोलिंग फिगर था. लेकिन अब एजाज़ पटेल के नाम ये रिकॉर्ड दर्ज हो गया है. इसके अलावा ये भारत में किसी विदेशी स्पिनर का बेस्ट बोलिंग फिगर भी है. एजाज़ से पहले ये रिकॉर्ड ऑस्ट्रेलिया के नेथन लियोन के नाम था. उन्होंने साल 2017 में भारत के खिलाफ 50 रन देकर आठ विकेट झटके थे.

# Ajaz Patel का Mumbai Connection

एजाज़ पटेल के लिए ये उपलब्धि इसलिए भी ख़ास है. क्योंकि उन्होंने अपने होमग्राउंड पर ये कारनामा किया है. अब होमग्राउंड से चौंकने की ज़रूरत नहीं है. एजाज़ पटेल भले ही न्यूज़ीलैंड के लिए खेलते हैं. लेकिन उनका मुंबई कनेक्शन बहुत पुराना है. दरअसल, न्यूज़ीलैंड के इस स्पिन गेंदबाज का जन्म मुंबई में ही हुआ था. वैसे भी एजाज़ पटेल के नाम से भी कितने ही इंडियन क्रिकेट फैंस उनका इंडियन कनेक्शन खोजने लगे हैं.

एजाज़ का जन्म 21 अक्टूबर 1988 को मुंबई के जोगेश्वरी में हुआ था. उनकी मां पास के ही ओशिवारा इलाके के एक स्कूल में पढ़ाती थी. जबकि पिता बिज़नेस करते थे. एजाज़ का घर आज भी जोगेश्वरी में हैं. एजाज़ छुट्टियों में मुंबई आते भी हैं. और अपनी फैमिली के साथ वक्त बिताते हैं. एजाज़ जब आठ साल के थे. तब उनका परिवार न्यूजीलैंड जाकर बस गया. न्यूज़ीलैंड में ही एजाज़ पले-बढ़े और यहीं से उनका क्रिकेट करियर भी शुरू हुआ.

#बनना चाहते थे तेज गेंदबाज़

आपको जानकर हैरानी होगी कि शुरुआती दिनों में एजाज़ पटेल तेज़ गेंदबाज़ी करते थे. लेकिन 20 साल की उम्र में ही हाइट कम होने की वजह से एजाज़ को एहसास हो गया कि इंटरनेशनल लेवल तक पहुंचने के लिए उन्हें खुद में कुछ चेंज करने होंगे. इसके बाद उन्होंने स्पिन गेंदबाज़ी करनी शुरू कर दी. इंग्लिश काउंटी सर्रे के क्रैनली क्रिकेट क्लब की तरफ से खेलते हुए एजाज़ ने स्पिन बोलिंग शुरू की. और उस साल की गर्मियां एजाज़ ने इसी क्लब के लिए बोलिंग करते हुए बिताईं.

एजाज़ को स्पिनर बनाने में न्यूज़ीलैंड के पूर्व स्पिनर दीपक पटेल का भी बड़ा हाथ रहा. उन्होंने घंटों तक साथ एजाज़ के साथ मैदान पर वक्त बिताया और उन्हें एक बढ़िया स्पिनर बनने के सारे गुर सिखाए. इन सेशंस का एजाज़ को खूब फायदा भी मिला. साल 2010 में क्रैनली के साथ पहली बार स्पिन बोलिंग करने वाले एजाज़ ने इसके बाद छह सीजन सेंट्रल डिस्ट्रिक्ट के लिए फर्स्ट-क्लास क्रिकेट खेली. तब कहीं जाकर साल 2018 में उन्हें न्यूज़ीलैंड के लिए डेब्यू का मौका मिला.

# यादगार टेस्ट डेब्यू

एजाज़ को टेस्ट में मौका मिलने का क़िस्सा भी मजेदार है. क्रिकइंफो के मुताबिक एक रात वह अपने परिवार के लगभग 30 लोगों के साथ खाना खा रहे थे. और उसी वक्त उन तक ख़बर आई कि वह पाकिस्तान के खिलाफ़ खेलने वाली न्यूज़ीलैंड की टीम में सेलेक्ट हो गए हैं. इसके बाद एजाज़ ने फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा. अबूधाबी में खेलते हुए एजाज़ पटेल ने पहले ही मैच में सात विकेट झटक  लिए.

उस मैच की पहली पारी में दो और दूसरी पारी में पांच विकेट लेकर उन्होंने न्यूज़ीलैंड को जीत दिलाई थी. शानदार प्रदर्शन के लिए एजाज़ को प्लेयर ऑफ द मैच का अवॉर्ड मिला था. एजाज़ ने न्यूज़ीलैंड के लिए अब तक सिर्फ 11 टेस्ट मैच ही खेले हैं. लेकिन कम समय में ही उन्होंने अपनी फिरकी गेंदबाजी से सभी को प्रभावित किया है. और शायद आगे भी करते रहेंगे.

विराट कोहली के विकेट के बीच BCCI फैंस को क्यों ले आया?

Read more!

Recommended