Submit your post

Follow Us

कहानी उस वीर की जिसने मुगलों का विजयरथ रोकने के लिए अपने ही मामा को मार दिया

ये असम का इतिहास तय करने वाली रात थी. मुगल असम की सीमा से कुछ दूर थे. मुगलों और असम के सैनिकों के बीच युद्ध चरम पर था. इस रात असम का ऐसा शूरवीर तैयार हो रहा था जिसकी पहचान युगों-युग के लिए असम के इतिहास के पन्नों में दर्ज होने वाली थी. इस रात मुगलों की हार होनी थी, वो मुगल जिन्हें शक्तिशाली राजपूत भी नहीं हरा पाए थे.

1667 में एक सेनापति ने औरंगज़ेब को चुनौती दी थी. इस सेनापति ने मुगल सैनिकों को गुवाहाटी से बाहर धकेला था. औरंगज़ेब ने गुवाहाटी को वापस पाने के लिए प्रतिनिधि के तौर पर अपने सबसे शक्तिशाली सहयोगी राजपूतों के राम सिंह को भेजा. लेकिन उसे इस बात का बिल्कुल अंदाज़ा नहीं था कि ‘आहोम’ ने अपने बेड़े में शेर पाला हुआ है- आहोम का सेनापति, लचित बोरफुकन. जिसने अपने खुद के मामा की जान ली थी. सिर्फ इस बात को सुनिश्चित करने के लिए कि असम सफलतापूर्वक मुगलों को हरा दे. ये 1671 का प्रसिद्ध सराईघाट का युद्ध था.

मुगलों की ताकत में बस एक कमी थी, उनकी नौसेना. लचित बोरफुकन ने एक चाल चली. उसने अपने डेमोग्राफ़ी के ज्ञान और गुरिल्ला युद्ध की रणनीतियों का इस्तेमाल ज़मीन पर मुगल सैनिकों को जांचने में लगाया. फिर उन्हें ब्रह्मपुत्र नदी के तट पर हरा दिया. कैसे अपने सेनापति के नेतृत्व में आहोम ने मुगलों को हराया था, इस बात की गाथा बार-बार गाई जाती है.

lachit2

इस रात असम और मुगल दोनों का नसीब तय होना था. ये वो कहानी है जो असम के बच्चे-बच्चे को मुंह ज़ुबानी याद है. वो कहानी जो हर पीढ़ी को ज़िंदगी में रोज़ की मुश्किलों का सामना करने की हिम्मत देती है. ये एक निर्णायक लड़ाई थी, लेकिन इससे पहले वीर लचित बीमार पड़ गया. वो फिर भी डटा रहा अपने राजा चक्रध्वज सिंह को मिले उस कर्तव्य के लिए, जो उनके पिता जयधज सिंह ने उन्हें दिया था. राजा जयधज सिंह ने बेटे को अपने देश के खोए सम्मान को वापस हासिल करने का काम दिया था. लचित ने मिट्टी से तटबंधों का निर्माण करने का आदेश दिया.

लचित ने इसे एक रात में बनवाने का ज़िम्मा अपने मामा मोमाई तामुली को दिया था. लोगों के बार-बार कहने के बावजूद लचित ने आराम करने से मना कर दिया. लचित काम कहां तक पहुंचा ये देखने के लिए कंस्ट्रकशन वाली जगह पर गया. लेकिन जब वो वहां पहुंचा तो उसने देखा, सारे सैनिक हताश पड़े हैं, सैनिकों ने मान लिया था कि वो चाहें जो कर लें, लेकिन सुर्योदय होने से पहले दीवार नहीं बना पाएंगे. उन्होंने युद्ध शुरू होने से पहले ही हार मान ली थी, ऐसा भय था मुगलों की ताकत और राजपूतों का.

इस पर लचित को अपने मामा पर बहुत गुस्सा आया. जो अपने सैनिकों को काम करने के लिए उत्साहित भी नहीं कर पाए. जिसकी वजह से देरी तो हुई ही, इसके साथ ही लचित की बनाई रणनीति पर भी संकट आ गया. उसने अपनी वो सोने की तलवार निकाली, जिसे आहोम का राजा अपने सेनापति को देता है और उससे अपने मामा का सिर धड़ से अलग कर दिया.

lachit3

लचित ने कहा, ‘मेरा मामा मेरे देश से बड़ा नहीं है. लचित के ऐसा करने से सैनिकों में एक जोश भर गया. सूरज के उगने से पहले ही दीवार बनकर तैयार हो गई. वीर ने भूमि के साथ-साथ ब्रह्मपुत्र नदी पर भी अपनी जीत सुनिश्चित कर ली थी. उसने तबीयत खराब होते हुए भी अपने सैनिकों का मनोबल और विश्वास बनाए रखा. मुगलों को बाहर खदेड़ दिया गया. राम सिंह को दोबारा कोई मौका नहीं मिला गुवाहाटी को वापस अपने कब्ज़े में करने का.

लचित ने अपने सैनिकों से कहा, ‘जब मेरे देश पर आक्रमणकारियों का खतरा बना हुआ है, जब मेरे सैनिक उनसे लड़ते हुए अपनी ज़िंदगी दांव पर लगा रहे हैं, तब मैं महज़ बीमार होने के कारण कैसे अपने शरीर को आराम देने की सोच सकता हूं. मैं कैसे सोच सकता हूं अपने बीवी और बच्चों के पास घर वापस चले जाने के बारे में, जब मेरा पूरा देश खतरे में है. इसके बाद राम सिंह ने भी कबूला कि उनके दुश्मनों की सेना उनसे बेहतर थी.

हर साल 24 नवंबर को असम में इस वीर की बहादुरी का उत्सव मानाया जाता है. लचित के नाम पर ही नेशनल डिफेंस एकेडमी में बेस्ट कैडेट गोल्ड मेडल दिया जाता है.



ये भी पढ़ें:

इंडिया का वो बादशाह जिसके सामने मुगलों को छुपने की जगह नहीं मिली

वो भारतीय जिसने खत्म कर दी अंग्रेज़ों को सलाम करने की परंपरा

वो मराठा सरदार जो पानीपत का युद्ध छोड़ कर भागा था!

औरंगज़ेब ने ज़ुबान खींच ली, आंखें निकालीं, जान ले ली, फिर भी उसकी इस राजा ने नहीं मानी

सच जान लो : हल्दीघाटी की लड़ाई हल्दीघाटी में हुई ही नहीं थी

2017 आते-आते हल्दीघाटी का युद्ध महाराणा प्रताप जीत गए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.