Submit your post

Follow Us

16 दिसंबर, जब दोस्त ख़ान के न्यूक्लियर बम से दिल्ली को बचाया गया था

16 दिसंबर! ये तारीख़ याद है? आज ही के दिन दुल्हन की विदाई का वक़्त बदला था. थ्रिलर फिल्मों के इतिहास का सबसे ज़्यादा ख़ून पीने वाला, झिलाऊ क्लाइमेक्स देखा तो होगा ही सबने! न याद आ रहा हो, तो हम याद दिलाते हैं.

एक हैं भाई साहब दोस्त ख़ान. पाकिस्तान से आए हैं. 1971 की जंग में जो करारी शिकस्त भारतीय सेना ने पाकिस्तान को दी थी उससे तिलमिलाए हुए हैं. बदला लेना चाहते हैं. एक अजीब सी शक्ल का न्यूक्लियर बम लिए भारत आए हैं. म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट में छिपा ये मिसाइल नुमा बम लेकर एक म्यूजिक कॉन्सर्ट में घुस गए हैं और मार-धाड़, गोली-बारी के बीच उसे एक्टिवेट भी कर चुके हैं. कुछ ही मिनटों में बम फटने वाला है और दिल्ली तबाह होने वाली है.

दोस्त ख़ान विथ न्यूक्लियर बॉम्ब.
दोस्त ख़ान विथ न्यूक्लियर बॉम्ब.

दूसरी तरफ मेजर वीर विजय सिंह की टीम उनके मंसूबे नाकामयाब करने के लिए कमर कसे हुए है. उन्होंने बम बरामद कर लिया है और एक नन्हे बालक से उसका कोड क्रैक करवा लिया है. बालक के नाम पर चौंकिए मत! इंटेलीजेंट कहलाने वाली भारतीय थ्रिलर फिल्मों में भी ऐसी चीज़ें करनी पड़ती हैं. खैर, कोड पता चल गया है. कोड है, ‘दुल्हन की विदाई का वक़्त बदलना है.’

लेकिन रुकिए, अभी ट्विस्ट बाकी है. एक छोटी सी दिक्कत है बम डिफ्यूज़ करने में. बम वॉइस कमांड से चलता है. यानी की जब दोस्त ख़ान अपनी आवाज़ में ये कोड बोलेंगे तभी बम डीएक्टिवेट होगा. अब उनसे बुलवाए तो बुलवाए कैसे? वो तो भयंकर ज़िद्दी आदमी है. कहता है गोली मार दो लेकिन बम तो फट के रहेगा. ऐसे में उसकी आवाज़ में कोड उगलवाने के लिए की गई बचकानी जद्दोजहद पूरी फिल्म की इंटेलीजेंट टोन पर झाड़ू फेर देती है. उनसे ढेर सारी बातें बुलवा कर, उनमे से अपने मतलब के शब्द छांट-छांट कर कोड असेम्बल किया जाता है. तब जा कर बचती है दिल्ली.

'16 दिसंबर' का पोस्टर जिसे मणि शंकर ने डायरेक्ट किया था.
’16 दिसंबर’ का पोस्टर जिसे मणि शंकर ने डायरेक्ट किया था.

’16 दिसंबर’ नाम से बनी ये फिल्म इस बचकाने क्लाइमेक्स के अलावा शानदार थी. उस ज़माने में ऐसी फिल्म पेड़ों के पीछे रोमांस देखने से उकताए हुए लोगों के लिए वेलकम ब्रेक थी. बस कुछ कुछ दृश्यों में बॉलीवुडकरण अखरता था. जैसे विक्टर बने सुशांत सिंह का लहूलुहान हालत में ‘भारत माता की जय’ वाला जयकारा लगाना. ये बात और है कि इसके बावजूद भी वो मर गया था.

sushant
सुशांत सिंह उर्फ़ विक्टर उर्फ़ एजेंट ब्रावो.

आज काले धन के मुद्दे पर मचे हाहाकार के बीच ये याद आता है कि इस फिल्म में भी हमारी जांबाज़ टीम काले धन की बरामदगी के ही मिशन पर होती है. वहां से लिंक दर लिंक वो जा पहुंचती है दोस्त ख़ान के पास, जो अपनी ‘दुल्हन’ लेकर ससुराल आया है. अच्छा है सन 2002 में ही कुछ भले आदमियों ने दुल्हन की विदाई का वक़्त बदल दिया था. वरना हम दिल्लीवासी इस वक़्त नोटबंदी का मज़ा कैसे ले पाते?

देखिये वो चमत्कारी क्लाइमेक्स जहां बदला जा रहा है दुल्हन की विदाई का वक़्त:


ये भी पढ़ें:

वो एक्टर, जिसने शाहरुख़ ख़ान की फर्जी डिग्री बनवा दी थी

शशि कपूर की वो पांच फ़िल्में जो आपको बेहतर इंसान बना देंगी

वो एक्ट्रेस, जिसके दो गाने घर-घर, गली-गली, ट्रक, टेम्पो, बस में खूब बजे लेकिन हमने भुला दिया

वीडियो:गुजरात के इस शहर में पाकिस्तान क्यों मुद्दा है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.