0

हां ये सच है कि एक्टर राजकिरण का दिमागी संतुलन खत्म हो गया है. इसके चलते उन्हें दिमागी रूप से अशक्त लोगों के घर में रहना पड़ रहा है. हिंदुस्तान में कई लोग इस जगह को पागलखाना कहते हैं. ये जगह अमेरिका के टेक्सस में है. राज किरण टेक्सस के दिमागी रूप से अशक्त लोगों के लिए बनाए घर में हैं और अपना खर्च खुद उठा रहे हैं. उन्हें उनके परिवार ने छोड़ दिया है. ये सब बातें राज किरण के दोस्त और मशहूर एक्टर ऋषि कपूर के बयान पर आधारित हैं. ऋषि ने एक इंटरव्यू में कहा था कि मैं पिछले दिनों अमेरिका गया था. और वहां पर मुझे राज का ये राज मालूम हुआ. ऋषि ये भी बोले कि मैं राजकिरण को जल्द भारत वापस लाऊंगा और ये तय करूंगा कि वह यहां आराम से रहें.

मगर स्टोरी में एक ट्विस्ट है. राजकिरण की पत्नी रूपा और बेटी ऋषिका का कहना है कि ऋषि अंकल के दावे में सच्चाई नहीं है. ऋषिका के मुताबिक उनके पिता 8 साल से गुमशुदा हैं. उनकी तलाश पुलिस और प्राइवेट डिटेक्टिव कर रहे हैं.

स्टोरी का एक तीसरा एंगल भी है. इसकी सूत्रधार हैं कभी राजकिरण की को स्टार रही एक्ट्रेस दीप्ति नवल. दीप्ति ने कुछ बरस पहले फेसबुक पर राजकिरण को खोजने के लिए एक कैंपेन शुरू किया था. इसमें उन्होंने लिखा कि राजकिरण को आखिरी बार न्यू यॉर्क शहर में टैक्सी चलाते देखा गया था. फिर ऋषि के खुलासे के बाद उन्होंने लिखा कि राज किरण को उनके परिवार ने छोड़ दिया था. जल्द ही उनको वापस लाया जाएगा.
सच्चाई फिलहाल यह है कि राज किरण का परिवार मीडिया के तगादे से परेशान है और इस एक्टर का कोई अता पता नहीं है.

राज किरण का पूरा नाम राज किरण मेहतानी है. 5 फरवरी 1949 को उनका मुंबई में जन्म हुआ. उन्होंने कर्ज, अर्थ समेत लगभग 100 फिल्मों में काम किया. टीवी पर आखिरी बार वह शेखर सुमन के सीरियल रिपोर्टर में नजर आए थे. ये बात है साल 1994 की. उसके बाद दिमागी अवसाद के चलते उनका इलाज शुरू हो गया. पहले यह इलाज मुंबई के बायकुला इलाके के मसीना अस्पताल में चला. इस दौरान उन्हें डायरेक्टर महेश भट्ट देखने गए. बकौल भट्ट, राज की हालत खराब थी. वह मदद चाहते थे. जब वह अस्पताल से लौटे, तो मैंने कोशिश की. मगर तब तक इंडस्ट्री में उनकी हालत की खबर फैल चुकी थी.
फिर राज किरण अपने भाई गोविंद मेहतानी के पास अमेरिका चले गए. गोविंद को कारोबार जमाने में राज ने बहुत मदद की थी. उन्हें लगा कि अमेरिका में बसेरा ठीक रहेगा. राज की बीवी रूपा और बेटी ऋषिका भी इस दौरान साथ थे. उससे पहले उनका कुछ दिन भारत के एक आश्रम में आयुर्वेदिक पद्धति से भी इलाज हुआ.

राज किरण के परिवार का कहना है कि हम बहुत परेशान हैं. लोग सवाल कर रहे हैं और हमारे पास जवाब नहीं हैं. हम हर दिन उन्हें याद करते हैं और लगातार खोजने की कोशिश भी कर रहे हैं. प्लीज हमें परेशान न करें.

विकास टिनटिन edited question ago
    लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें