0

मेरठ की लड़की यास्मीन जोसेफ उर्फ मंदाकिनी. जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं. एक, राज कपूर की फिल्म राम तेरी गंगा मैली का वह सीन, जिसमें वह एक सफेद साड़ी लपेटे झरने के नीचे नहा रही हैं. उस दिन कई पुरुषों को पता चला कि स्त्रियों के वक्ष होते हैं. उन्होंने आंखों को भरपूर फाड़ा, फिल्म की कैसेट का वह कोना घिस डाला, स्क्रीन के पास जा जाकर देखा और फिर कहा, हां, पर्दे पर नजर तो आ रहे हैं. दीज चीप पर्वर्ट इंडियंस यू नो… बहरहाल, राज कपूर ने इसे कला कहा, लोगों ने कलाकारी और फिल्म कमाल की चली.

मगर मंदाकिनी को याद करने की दूसरी वजह फिल्मी नहीं है. यह वजह है देश के भगोड़े, खुद को एक नंबर का गुंडा समझने वाले आदमी दाउद इब्राहिम से कनेक्शन के चलते. लोग कानाफूसी करते हैं कि मंदागिनी दाउद की गर्लफ्रेंड थी. मंदाकिनी कहती हैं कि हम सिर्फ अच्छे दोस्त थे. मैं तो उनको पर्सनली जानती भी नहीं थी. मगर कम्बख्त लोग, ये फिर कहते हैं कि दाउद के चलते ही कई फिल्मों में मंदाकिनी को लिया गया. और ये सब बातचीत शुरू कैसे हुई. एक तस्वीर के जरिए. जिसमें मंदाकिनी दाउद के साथ नजर आ रही हैं.

बदनामी हुई तो काम मिलना कम हो गया. फिर मंदाकिनी ने गाना शुरू किया. दो एलबम निकाले, नो वैकेंसी और शंबाला. पब्लिक ने दोनों का झींगा लाला कर दिया.

बहरहाल, इन सबके उलट एक तथ्य यह भी है कि मंदाकिनी मर्फी बच्चे के साथ 1990 में ही शादी कर चुकी थीं. चौंकिए मत, हम बात कर रहे हैं डॉ. काग्युर टी रिनपोचे ठाकुर की. ठाकुर 1970, 80 के दशक में मर्फी रेडियो के प्रिंट ऐड में नजर आते थे. बर्फी फिल्म में इसी मर्फी बच्चे का जिक्र आता है. खैर, ठाकुर बाद में बौद्ध भिक्षु बन गए और बाद के भी बाद में मंदाकिनी के पति बन गए. मगर उन्होंने धार्मिक राह नहीं छोड़ी. इन दोनों के दो बच्चे हुए. बेटा रब्बील और बेटी राब्जे. रब्बील का 2000 में एक सड़क एक्सिडेंट में निधन हो गया.

अब मंदाकिनी और उनके पति यानी डॉक्टर साहब मुंबई में एक तिब्बतन हर्बल सेंटर चलाते हैं. इसके अलावा मंदाकिनी तिब्बत योगा भी सिखाती हैं.

कुमार ऋषभ edited question ago
    लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें