0

श्वेता तिवारी, माने वो लड़की जो प्रेरणा शर्मा बनी तो उड़ता लाल दुपट्टा नज़र आया. सवाल आते हैं कि श्वेता तिवारी कहां है? सवाल ये होना चाहिए कि वो लाल दुपट्टा इतना उड़ता क्यों था? सवाल ये आना चाहिए कि ‘Kasautii Zindagii Kay’ में Kay क्यों था ‘Ki’ क्यों नहीं! विषयांतर हो रहा है. मूल सवाल पर लौटें.

श्वेता तिवारी कहां हैं? जवाब है, आसपास ही हैं. एक्टिंग कर रही हैं. एक्टिंग बस पिच्चर-सीरियल में नहीं होती. थिएटर में भी होती है. बहुत दिन बाद एक्टिंग में लौटी श्वेता 9 सितंबर को नज़र आईं. जब दिल्ली के कमानी ऑडिटोरियम में उनके एक प्ले के दो शो हुए. ये एक कॉमेडी ड्रामा था. नाम था ‘जब वी सेपेरेटेड’. कहानी कुछ ऐसी थी कि तलाक़ लेने पहुंचे कपल को कोर्ट छ: महीने और साथ में रहने को कहती है. तदुपरांत कॉमिक सिचुएशंस सामने आती हैं. इस प्ले में साथ में राहुल भुच्चर और राकेश बेदी थे. इसे लिखा और डायरेक्ट भी राकेश बेदी ने ही किया था. माने श्वेता तिवारी अभी एक्टिंग में एक्टिव हैं. Six X नाम की एक फिल्म भी आने वाली थी, लेकिन बड़े परदे का मुंह नहीं देख सकी वो फिल्म, डिब्बाबंद ही समझिए. अगर आती है तो पता चल जाएगा.

सोशल मीडिया पर भी एक्टिव हैं. सोशल मीडिया माने इन्स्टाग्राम. फेसबुक-ट्विटर वरिष्ठ नागरिकों की जगह है.

Shweta Show

 

इस प्ले की बात से याद आया. श्वेता की शुरुआत भी थिएटर से ही हुई थी. अउंगे-पउंगे थिएटर में एक्टिंग नहीं करती थीं , पृथ्वी थिएटर में करती थीं. वहीं किसी डायरेक्टर ने उन्हें देखा और ‘रिश्ते’ शो में एक रोल ऑफर किया. पर उनका नाम सुनाई पड़ा बालाजी के ‘कहीं किसी रोज़’ से. जिसमें श्वेता ने कनिका का रोल किया था. ये 2001 के अप्रैल की बात है. अक्टूबर आते-आते एकता कपूर ने ‘कसौटी ज़िंदगी की’ दाग दिया और ज़माना प्रेरणामय हो गया.

 

कसौटी ज़िन्दगी की में प्रेरणा के लाल दुपट्टे का वही महत्व है, जो DC में सुपरमैन के केप का!
कसौटी ज़िन्दगी की में प्रेरणा के लाल दुपट्टे का वही महत्व है, जो DC में सुपरमैन के केप का!

एक जगह श्वेता इसी बात को और दोहराती हैं. उनके मुताबिक़ उन्होंने दो महीने स्ट्रगल किया और बदले में दर्जनों सालों तक टीवी पर राज किया. एक शो गया तो दूसरा हाथ आया, श्वेता टीवी की स्क्रीन पर कभी छूछे हाथ नहीं रहीं.

तस्वीर - श्वेता तिवारी के INSTAGRAM अकाउंट से
तस्वीर – श्वेता तिवारी के INSTAGRAM अकाउंट से

श्वेता मूलत: यूपी के प्रतापगढ़ से हैं. 14 बरस की उम्र में किसी ट्रैवल एजेंसी के लिए काम किया करती थीं. 18 बरस की उम्र में शादी कर ली. राजा चौधरी से. सीरियल्स में काम करता था, भोजपुरी की फ़िल्में बनाता था. इस मुद्दे पर बहुत बात हुई है कि कैसे उसका व्यवहार अब्यूजिव था. श्वेता को मारता-पीटता था. श्वेता के शब्दों में उसका व्यवहार घिनौना था, जानवरों जैसा था. श्वेता को उसने बहुत परेशान किया. एक बेटी हुई पलक उसे भी बहुत सताया. बाद में श्वेता से उसका तलाक़ हो गया. कुल जमा जिसे “ज़िंदगी नरक बना दी” कहते हैं. राजा ने श्वेता के साथ वही किया.

9 साल की शादी में साढ़े पांच साल श्वेता ने राजा को झेला. साथ में कुछ फ़िल्में और शो भी किये, पर उनका ज़िक्र क्या करें, न आपको इंटरेस्ट है ऐसे आदमी के बारे में जानने में, न हम बताना चाहते. पर क्योंकि सामने वाले का पक्ष रखना भी जरूरी है तो जानिए कि बाद के दिनों में राजा ने कहा कि ‘वो हिंसक नहीं मात्र ‘पजेसिव’ थे. अपनी बिटिया को बहुत याद करते हैं.’  

राजा, पलक और श्वेता किसी भले दिन पर|
राजा, पलक और श्वेता किसी भले दिन पर|

हम तो बात करेंगे श्वेता की. जिनने बाद में, माने 2013 में अभिनव कोहली से शादी कर ली. अभिनव ने उनके साथ ‘जाने क्या बात हुई’ में काम किया था. दोनों का एक बेबी भी हुआ 2016 में. नाम है रेयांश, 27 नवंबर को उसका ‘हैप्पी टू डू टू यू’ होता है. फिर इन दोनों के रिश्ते में खटपट की खबरें भी आईं. मीडिया वाले कह रहे थे, श्वेता ने व्हाट्सऐप पर ऐसी डीपी लगाई थी, जिससे लग रहा था कुछ तो हुआ है. अभिनव ने एक पार्टी में जवाब दिया, अबे हटो! फ़ालतू में दिमाग न लगाओ. और सच भी यही है. बिटिया-बेटा-श्वेता-अभिनव हंसी-खुशी रह रहे हैं.

15043704_156533838153393_2053977549926563840_n

कुछ दिन पहले बात चली कि उनकी बिटिया पलक एक्टिंग में डेब्यू कर रही हैं. पर श्वेता के अंदर की मम्मी को बोर्ड परीक्षाएं नज़र आ गईं. बोलीं बिटिया का बारहवीं दर्जे का एक्जाम है. अभी उस पर फोकस करने दो. एक्टिंग में बाद में ध्यान दे देंगे.

रिवर्स गेयर मारें फिर पीछे जाएं. ‘कसौटी ज़िंदगी की’. दर फेमस शो था. तब एकता के क्लीशे की कविताई का स्वर्णिम समय था, काहे कि भारत में सोप ओपेराओं का शैशवकाल बीत चला था. टीवी किशोर हो रहा रहा. कलर टीवी ज़रुरत बन गए थे. सैटेलाइट चैनल जोर मार रहे थे. जनता ने केबल की लाइन में कट मारके 56 चैनल देखना सीख लिया था. साइकल की रिम से एंटीना बनाना वाहियात हो गया था,लोग ‘डिस्क’ लगवाने लगे थे. के,के,के चल रहा था. सीरियल लंबे खींचेएएएएएएएएएएएए….. जातेएएएएएएएए थेएएएएएएएएएए.

भारत में सीरियल उतने लंबे खिंच जाते हैं, जितनी लंबी श्वेता की नकली दाढ़ी| तस्वीर- इन्स्टाग्राम से
भारत में सीरियल उतने लंबे खिंच जाते हैं, जितनी लंबी श्वेता की नकली दाढ़ी| तस्वीर- इन्स्टाग्राम से

इस सबका नतीज़ा क्या निकला? ये कि कसौटी पूरे सात साल चला. इंटरनेटानुसार 33 अध्याय बाद जब सीरियल बंद हुआ तो 1423 एपिसोड हो चुके थे. आज कल टीवी वालों को ऐसे भी जज किया जाता है कि कौन बिग बॉस जीता, कौन नहीं. तो श्वेता ने वहां भी बाज़ी मारी. चौथा सीजन जीत बिग बॉस जीतने वाली पहली महिला बनीं और यहीं से वो फ़र्जी मिथ चला कि जो किचन में रहेगा वो बिग बॉस जीतेगा. खैर जब श्वेता जीतीं तो उनने कहा पैसा बहुत मिला है. लेकिन इसे बिटिया की पढ़ाई में लगाना है. तभी तो बारहवीं की पढ़ाई को लेकर इतना फिकरमंद हैं.

मां, बेटा और बेटी
मां, बेटा और बेटी

थोड़ा विवादों की बात कर लें, एक शो आया था ‘इस जंगल से मुझे बचाओ’. उसमें श्वेता झरने के नीचे नहाते नज़र आईं. उस पर बवाल कटा. श्वेता बोलीं, ऐसा भी क्या पहाड़ टूट गया. हमारे गांवों में बुड्ढी-ठुड्ढी खुले में नहाती ही न थीं. बात सही भी है. हैंडपंप पर आदमी नहाए तो नॉर्मल है, कोई झरने में नहा ले तो 2010 के स्लो इंटरनेट वाले समय में भी वीडियो क्यों वायरल हो जाते थे. एक और मजेदार सा विवाद सुन लीजिए. ‘झूम इंडिया’ करके एक शो आया था, 2007 में. (एक एक्स्ट्रा J के साथ, Jjhoom India) एक सेलिब्रिटी और एक सिंगर की जोड़ी बनाई गई थी. श्वेता के साथ थे सुरेश वाडेकर. अब सबको तो सब आता नहीं है, इसलिए इस बात को चिकना के नहीं बोलेंगे, श्वेता इत्ता बुरा गाती थीं कि एक बार बाहर होने के बाद जब वाइल्ड कार्ड एंट्री मिलने की बात आई तो सुरेश वाडेकर ने हाथ जोड़ लिए. कहा, भैय्या अब हमसे और बेइज्जती झेली न जाएगी.

ऐसे-ऐसे तो किस्से हैं, इंसान बहुत दिन काम करता है तो ऐसे होता है. श्वेता ने थिएटर में नया काम शुरू किया है. देखिए आगे क्या होता है.

मुबारक edited question ago
    लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें