0
ऊपर आपने जो पढ़ा, वो सवाल नहीं, उसका ट्रेलर था. पूरी पिक्चर माने कि पूरा सवाल यहां है. पढ़ लें. डिअर सर , मैंने कई महीनो से फुल DND सर्विस ओन करवा रखी है . फिर भी कई टेलेमार्केटर बिना मेरी अनुमति (ऑप्ट इन) के मैसेज करते हैं . मैंने इनको फ़ोन करके बोला है की मुझे SMS न करें लेकिन बड़े ही रूखे जवाब मिलते हैं . क्या इनके खिलाफ कोई कानूनी कार्यवाही की जा सकती है ? यदि हाँ तो IPC की कौनसी धाराओं के अंतर्गत . ( थोड़ा टेक्निकल सवाल है लेकिन मुझे आशा है आप जवाब जरूर देंगे ) मैं इनसे परेशान हो चुका हु . कृपया मदद करें .

सौरभ का जवाब-

मुबारक हो गोविंद, मदद आ गई है. मैंने DND सर्विस ऑन नहीं करवाई. क्योंकि जैसा कि आपने लिखा. ऑन करवाने के बाद भी कृपा रुकती नहीं. मैं एसएमएस भी नहीं करता. व्हाट्सएप का जमाना है. एसएमएस तो अब सिर्फ बैंक और मोबाइल बिल के आते हैं. या फिर वो वाले. हैलो, मैं पिंकी. आपकी दोस्त. मुझसे मीठी मीठी बातें करोगे... खैर. कानून के हाथ लंबे होते हैं. और आम आदमी का लंबा होता है दिमाग. आप दूसरे ऑप्शन पर क्लिक करें. अगली बार जब टेलीमार्केटर का फोन आए, तो उसका इतना खखोरें, इतना चाटें, ऐसे ऐसे सवाल पूछें. कि वो आपका नंबर ब्लॉक कर दे. तब मेरे भाई, आपको जो आत्मिक शांति मिलेगी. वो ब्लॉकिंग के मुकाबले ज्यादा तसल्लीबख्श होगी. आईपीसी की धाराएं तो हमको पता नहीं. मेरा एक भाई है छोटा. चाचा का लड़का. चारू चमारी. उसे पता हैं. मगर वो बताने के पइसे लेता है. मेरे पइसे गुल्लक में रखे हैं. उसे फोड़ने का मन नहीं. इसलिए धारा-धारा. शुद्ध धारा. में बनी जलेबी खाओ. पर जलेबी क्यों. गुजिया क्यों नहीं. होली चल रही है. कान्हा तो वैसे भी बरजोरी करते हैं. आप उन्हीं के नामधारी हैं. श्री कृष्ण गोविंद हरे मुरारी हे नाथ नारायण वासुदेव आपकी आशा के मुताबिक मैंने जवाब दिया. और निराशा के मुताबिक जवाब में टेक्निकल ब्यौरे नहीं थे. क्योंकि हमको वो आते ही नहीं हैं. निरे सिलबिल्ले हैं हम सर जी. और अंत में. नर हो न निराश करो मन को... परेशान तो शान नहीं हुआ. जिसका तनहा दिल और तनहा सफर था. आप भी मत हो. बम भोले.
चंचल शुभी edited question ago
    लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें