Submit your post

Subscribe

Follow Us

6 महीने में पलटीं मायावती इस चुनाव में कांशीराम का सपना तोड़ रही हैं

पिछले साल की बात है. तारीख थी 22 जून. स्वामी प्रसाद मौर्य ने BSP छोड़ दी. वो आदमी, जो मायावती के ऑफिस में फोन उठा-उठाकर अरबपति बना था. मौर्य ने आरोप लगाया कि माया टिकट बेचती हैं और इसी वजह से वो पार्टी छोड़ रहे हैं. माया ने बड़ा आदर्शवादी जवाब दिया. कहा, ‘BSP कांशीराम की पार्टी है और वो परिवारवाद के सख्त खिलाफ थे. इसी आदर्श पर चलते हुए मैंने स्वामी के बच्चों को टिकट नहीं दिया, जिसकी वजह से वो पार्टी छोड़ गया. अच्छा ही हुआ. वो पुराना दल-बदलू है.’ कुछ ऐसा ही बृजेश सिंह के साथ भी हुआ था.

अब फास्ट फॉरवर्ड करके आते हैं 2017 में. विधानसभा चुनाव के लिए माया अपने प्यादे चुन चुकी हैं. चार किस्तों में BSP के 401 कैंडिडेट घोषित हो चुके हैं और दो होने अभी बाकी हैं. इन चारों लिस्ट्स का पोस्टमॉर्टम करने पर इंडियन एक्सप्रेस ने पाया कि सिर्फ छह महीने में ही मायावती अपनी बात से पलट गईं. उनके बांटे टिकट्स में ईमानदारी की धूप कम, परिवारवाद की छाया ज्यादा दिखाई पड़ती है.

maya

आइए आपको बताते हैं कि किन घरों में मायावती की नेमतें बरसी हैं…


1. मुजफ्फरनगर की बुढ़ाना सीट से माया ने सैयदा बेगम को उतारा है. सैयदा पूर्व सांसद कादिर राणा की पत्नी हैं. ये सैयदा का पहला चुनाव है. हालांकि, इससे पहले उन्होंने 2014 के लोकसभा चुनाव में नामांकन कराया था, लेकिन बाद में नाम वापस ले लिया था. राणा के भाई नूर सलीम मुजफ्फरनगर की ही एक और सीट चरथावल से बीएसपी के विधायक हैं और इस बार यहीं से दोबारा लड़ने जा रहे हैं.

2. मुजफ्फरनगर की कठौली सीट से बीएसपी ने शिवन सिंह सैनी को उतारा है. ये उनका पहला चुनाव है. शिवन पूर्व राज्यसभा सांसद राजपाल सिंह सैनी के बेटे हैं. राजपाल 2002 में बीएसपी से विधायक बने थे और उनका राज्यसभा कार्यकाल 2015 में खत्म हुआ था.

हाजी याकूब
हाजी याकूब

3. मायावती की पिछली सरकार में उनके मंत्री हाजी मोहम्मद याकूब. विवादित रहे थे. इस बार वो मेरठ साउथ सीट से कैंडिडेट हैं और उनके बेटे मोहम्मद इमरान को मेरठ की ही सरधाना सीट से टिकट मिला है. ये इमरान का पहला चुनाव है. याकूब 2014 के लोकसभा चुनाव में मुरादाबाद से लड़े थे, लेकिन हार गए थे.

4. बीएसपी की पिछली सरकार में मंत्री रामवीर उपाध्याय इस बार हाथरस की सादाबाद सीट से पांचवी बार चुनाव लड़ने जा रहे हैं. वो इस सीट के मौजूदा विधायक हैं. बीएसपी ने उनके भाई मुकुल को बुलंदशहर की शिखरपुर सीट से उतारा है. मुकुल ने 2014 में गाजियाबाद से लोकसभा चुनाव लड़ा था. वो हार गए थे.

5. बिजनौर की रिजर्व सीट नेहतौर से मायावती ने विवेक सिंह पर भरोसा जताया है, जो अपना पहला चुनाव लड़ेंगे. विवेक के पिता वीर सिंह राज्यसभा सांसद हैं. नेहतौर के पिछले विधायक ओम कुमार थे, जो 2012 में बीएसपी के ही टिकट पर जीते थे. 2015 में उन्होंने बीजेपी जॉइन कर ली थी. पश्चिमी यूपी में वीर सिंह को बड़ा दलित नेता माना जाता है.

वीर सिंह
वीर सिंह

6. संभल की रिजर्व सीट चंदौसी से बीएसपी ने विरमावती को टिकट दिया है. विरमावती पूर्व विधायक गिरीश चंद्र जाटव की पत्नी हैं. जाटव ने 2007 में विधानसभा चुनाव जीता था, लेकिन 2012 में हार गए थे. 2014 में वो बुलंदशहर से लोकसभा चुनाव में भी उतरे, लेकिन फिर हार गए. पार्टी ने अभी उन्हें मुरादाबाद और संभल का कॉर्डिनेटर बना रखा है.

7. बदायूं की बिल्सी सीट से बीएसपी के टिकट पर चुनाव लड़ने जा रहे मुसर्रत अली 2012 का चुनाव भी जीते थे. वो इस सीट से विधायक हैं. इस बार पार्टी ने उनके भाई अरशद अली को भी टिकट दिया है, जो बगल की ही सीट सहसावन से चुनाव लड़ेंगे.

8. बरेली के मीरगंज से मौजूदा विधायक सुल्तान बेग भी अपनी सीट पर फिर से लड़ेंगे. मायावती ने उनके भाई सुलेमान बेग को भी बरेली की ही भोजीपुरा सीट से मैदान में उतारा है.

9. मनी लॉन्ड्रिंग मामले में एक बार फंस चुके मोहम्मद इकबाल को पार्टी सहारनपुर के बेहट से चुनाव लड़ाने जा रही है. सुप्रीम कोर्ट ने इनके खिलाफ जांच के आदेश भी दिए थे. इकबाल MLC रह चुके हैं और उनके भाई महमूद अली भी बीएसपी से जुड़े हैं और MLC हैं.

विनय शंकर तिवारी
विनय शंकर तिवारी

10. गोरखपुर के बाहुबली नेता हरि शंकर तिवारी के बेटे विनय शंकर तिवारी को बीएसपी ने गोरखपुर की चिल्लूपुर सीट से उतारा है. ये सीट 2012 में बीएसपी के टिकट पर ही राजेश त्रिपाठी ने जीती थी, लेकिन पिछले साल में वो बीजेपी में शामिल हो गए. विनय के भाई भीष्म शंकर उर्फ कुशल तिवारी खलीलाबाद से सांसद रहे हैं, लेकिन 2014 लोकसभा चुनाव में वो बीजेपी से हार गए थे.

विनय का पॉलिटिकल रिकॉर्ड अच्छा नहीं रहा है. 2007 के लोकसभा उपचुनाव में उन्होंने बलिया से दावेदारी पेश की थी, लेकिन सपा के नीरज शेखर से हार गए थे. 2009 का लोकसभा चुनाव उन्होंने योगी आदित्यनाथ के खिलाफ लड़ा, जिसमें भी वो हारे. 2012 के विधानसभा चुनाव में बीएसपी ने उन्हें सिद्धार्थनगर की बांसी सीट से उतारा, लेकिन वो ये चुनाव भी हार गए. विनय के मामा गणेश शंकर पांडे को महाराजगंज की पनियारा सीट से बीएसपी का टिकट मिला है.

11. मायावती ने अंबेडकर नगर के पूर्व सांसद राकेश पांडे के बेटे रीतेश पांडे को जलालपुर से एक बार फिर टिकट दिया है. रीतेश 2012 के विधानसभा चुनाव में सपा के शेर बहादुर से हारे थे. राकेश पांडे ने 2014 का लोकसभा चुनाव लड़ा था, लेकिन बीजेपी के हाथों हार गए थे.


हाथी की इस चाल को देखकर पार्टी का सीनियर काडर परेशान और हताश है. कांशीराम के वक्त उसने किसी और तरह की राजनीति देखी थी, लेकिन अब उसे किसी और राजनीति का गवाह बनना पड़ रहा है. उनकी आंखों में ये यकीन साफ है कि पार्टी अपने आदर्शों और उद्देश्यों से भटक गई है.

परिवारवाद की वजह से दो बड़े नेताओं के पार्टी छोड़ने को वरदान बताने वाली मायावती अब खुलकर उसी राह पर हैं. उनकी ये चाल उन्हें कहां ले जाएगी, ये तो वक्त बताएगा, लेकिन 2017 का विधानसभा चुनाव उनके भविष्य का दरवाजा है. एक राष्ट्रीय पार्टी ‘करो या मरो’ के मुकाबले में है.



ये भी पढ़ें:

कौन हैं मायावती के भाई आनंद कुमार, जिन्होंने 49 कंपनियां खोलीं

बहनजी के भाईजी ने कमाया 18000 परसेंट का मुनाफा!

आज से 37 साल पहले मायावती पर की गई थी पहली भद्दी टिप्पणी

जब 21 साल की मायावती ने मंच पर जाकर केंद्रीय मंत्री की धज्जियां उड़ा दी थीं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

ग्राउंड रिपोर्ट

ग्राउंड रिपोर्ट कुंडा : यहां आतंक के आगे सारे समीकरण खत्म हो जाते हैं

नारा लगता है, जब राजा भैया हारेगा तो 'स्थान विशेष' पर गोली मारेगा.

इलाहाबाद पश्चिम से ग्राउंड रिपोर्ट : झंडा-डंडा भाई का, वोट पड़े भौजाई का

बाहुबली अतीक अहमद बनाम एक विधवा नेता की कहानी.

'ददुआ के बेटे बीर पटेल को कोई हरा दे तो मैं अपना जियो सिम तोड़कर फ़ेंक दूंगा'

चित्रकूट से ग्राउंड रिपोर्ट : ये 'बुंदेलखंड के वीरप्पन', नामी डकैत ददुआ की धरती है.

बीजेपी के गुरु गुड़ ही रहि गए, सपा का चेला सक्कर हुई गवा

ये सीतापुर है. यहां से टिकट पाने का कोई फायदा नहीं, क्योंकि वोटर्स की सुई एक ही आदमी पर अटकी रहती है.

बाराबंकी वाला स्किल इंडिया, जहां जान मोहम्मद भी भोले कह के हाथ उठाता है

बाराबंकी की रामनगर विधानसभा से कांवड़वालों की कहानी.

अमरोहा: यहां बिच्छू डंक नहीं मारते, सियासत डंक मारती है

'इमाम वोटों के लिए फतवे देते हैं, लेकिन किसी काम के लिए कह दो तो कहते हैं अरे मियां, हमें सियासत से दूर रखो.'

ग्राउंड रिपोर्ट बांदा : डाकुओं के आतंक और रेत के अवैध खनन में बर्बाद होती ऐतिहासिक विरासत

बुंदेलों हरबोलों की ये कहानी भी कोई सुनेगा क्या?

हरदोई ग्राउंड रिपोर्ट: पहली बार कोई आदमी नरेश अग्रवाल के खिलाफ दोबारा लड़ रहा है

वो शहर, जहां बाहर का लड़का सांसद बन जाता है, लेकिन विधायकी 40 सालों से एक ही परिवार के पास है.

पीलीभीत से ग्राउंड रिपोर्ट : किसी की टांग कटी, तो मेनका गांधी का पीलीभीत से रिश्ता जुड़ा

यहां एक बाघ ने 6 लोगों को लाश के टुकड़ों में बांट दिया है, पकड़ा गया, लोग उसे मार देना चाहते थे, लेकिन बचा लिया गया.

ग्राउंड रिपोर्ट चरखारी : यहां सपा की दादी का मुकाबला भाजपा के नाती से है

पांच साल में चार चुनाव देख चुकी है ये विधानसभा.

पॉलिटिकल किस्से

मायावती खुद एजेंडा हैं, संविधान का घोषणापत्र हैं और एक परफेक्ट औरत!

चाहे मानो या मत मानो. इंडियन पॉलिटिक्स में उन जैसा कोई नहीं हुआ.

विदेश पढ़ने गईं तब तक डेबिट कार्ड यूज़ करना भी नहीं जानती थीं अपर्णा यादव

मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू ने अपने इस जोरदार पर्सनल और पोलिटिकल इंटरव्यू में एेसी ही कई बातें शेयर कीं. पढ़ें और देखें पूरा इंटरव्यू.

रायबरेली में भी अंग्रेजों ने एक जलियांवाला बाग किया था

जवाहरलाल चल रही गोलियों से कुछ ही दूर थे, जब किसानों के खून से सई नदी का पानी लाल हो गया था.

रामपुर तिराहा कांड: उत्तर प्रदेश का 1984 और 2002, जिसकी कोई बात नहीं करता

जब पुलिस ने निहत्थे लोगों का कत्ल और रेप किया.

बरेली में झुमका गिरने की कहानी के बारे में जानना है तो यहां पढ़िए

बरेली का पूरा इतिहास खनखनाहट भरा है.

तो क्या अखिलेश को मुख्यमंत्री बनाने का जिम्मा डिंपल यादव को मिला है

नरेंद्र मोदी और मायावती के शोर के बीच डिंपल का नाम सब पर भारी पड़ता दिख रहा है.

कोहिनूर वापस नहीं ला सकते मगर रामपुर की इस पहचान को तो बचा लो

सियासत के झगड़े में कब तक हम अपनी विरासत को खोते रहेंगे.

वो विधानसभा सीट, जहां 7 भैंसें चोरी हुईं और 24 घंटे में ढूंढ ली गईं

ये वो भी सीट है जहां के नेता की ज़बान के किस्से वैसे ही सुने होंगे जैसे यहां के चाकू की धार के.

डाकू छविराम के एनकाउंटर का किस्सा सीधे एटा से

जब डाकू को मारने के लिए महबूबा और दूध के गिलास का सहारा लिया गया.