Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

28 घर बदल चुकी है ये हीरोइन, क्योंकि मुंबई के बिल्डर ने बेघर कर दिया

पुराने जमाने के सुपरस्टार देव आनंद ने 1940 में एक लड़की को शादी का प्रस्ताव दिया. उस लड़की ने मना कर दिया. और एक दूसरे इंसान से शादी कर ली. फिर जुहू के आलीशान नारंग विला में रहने लगी. कहानी इतनी ही नहीं है.

दैनिक भास्कर ने अभिमान, मॉडर्न गर्ल, दिल्ली के ठग जैसी फिल्मों में काम कर चुकी स्मृति विश्वास नारंग पर खबर की है. इसके मुताबिक 93 साल की स्मृति नासिक शहर में एक छोटे से मकान में अपने दो बेटों के साथ रहती हैं. राजकपूर, किशोर कुमार, बलराज साहनी और नरगिस के साथ काम कर चुकी हैं ये. 90 फिल्मों में काम किया.

smriti-dance
स्मृति की डांस करते हुए तस्वीर

नारंग विला में रहने वाली यही हैं. उस वक्त इन्होंने हीरो, प्रोड्यूसर, एक्टर और डायरेक्टर एस डी नारंग से शादी कर ली थी. 1986 में एस डी की मौत हो गई. उसके बाद बकौल स्मृति, एक बिल्डर को बुलाया गया बंगले की मरम्मत के लिए. उसने कहा कि कुछ दिन के लिए बाहर रहिए. फिर ठीक कर के दूंगा. तब से लेकर आज तक वो उस बंगले में नहीं जा पाई हैं. तब से अब तक वो 28 घर बदल चुकी हैं. मुंबई छोड़कर नासिक में रहना पड़ा है. यही नहीं, इनके दिल्ली, मुंबई और महाबलेश्वर में भी बंगले थे. पर इनके रिश्तेदारों ने हथिया लिए. इनको दादा साहब फाल्के गोल्डन एरा जैसे अवॉर्ड भी मिल चुके हैं.

पर हमेशा यही स्थिति नहीं थी. 1954 में उनका एक इंटरव्यू छपा था. इसमें उनकी जिंदगी कुछ और थी.

सिनेप्लॉट वेबसाइट के मुताबिक इस इंटरव्यू में उनको बंगाल के रसगुल्ले की तरह बताया गया था. खुश, खिलंदड़ और मस्त. स्मृति ने इंटरव्यू में बताया था कि वो अपने परिवार की मर्द हैं. 9 साल की उम्र से वो परिवार को पैसे कमा के दे रही हैं. जबकि उनकी छोटी शरारती बहन नीना स्कूल जाती थी. उसको भी वो मदद करती थीं. बाद में नीना ने ही उनको नासिक में रहने में मदद की है.

4hcr7iprwdq0el9j.D.0.Smriti_Biswas3
स्मृति

इंटरव्यू में बताया गया है कि मुंबई आने से पहले बंगाल और लाहौर में उन्होंने 26 फिल्में कर ली थीं. पर बंबई में उनको वैम्प बना के पेश किया गया. हीरो हीरोइन के साथ वो दूसरी औरत बन के आती थीं. पर 1954 में आई फिल्म भगत सिंह में वो हीरोइन बनी थीं. लेकिन वो कह रही थीं कि जनता बस फिल्म हमदर्द के विलेन के तौर पर ही याद रखती है.

स्मृति कलकत्ता के यूनाइटेड मिशनरी गर्ल्स हाई स्कूल में पढ़ती थीं. उनके पापा स्कॉटिश चर्च कॉलेजिएट स्कूल के हेडमास्टर थे. मम्मी दूसरे स्कूल की हेडमिस्ट्रेस थीं. तो स्मृति कहती थीं कि उनकी पूरी स्कूल लाइफ ही हॉस्टल लाइफ की तरह थी. छुपछुप के नाचना पड़ता था. क्योंकि घरवाले इसको सपोर्ट नहीं करते थे. जब उन्होंने 9 साल की उम्र में बिमल रॉय की फिल्म हमराही में काम किया तो घर में दंगे की नौबत आ गई थी. पर फिर उन्होंने हेमेन गुप्ता की फिल्म द्वंद्व में काम कर लिया. इसके बाद पूरा परिवार ऐसे बिहैव कर रहा था जैसे कि स्मृति ने कोई क्राइम कर दिया हो. उनका स्कूल भी बदलवा दिया गया.

download (1)
स्मृति

फिर ये लोग लाहौर चले गए. वहां पर उनको रागिनी फिल्म बनी. उसमें प्राण हीरो थे. बाद में प्राण और स्मृति दोनों ही विलेन बनने लगे. उस वक्त वो 3 हजार रुपये प्रति महीने कमाती थीं. ये बहुत बड़ी रकम थी उनके लिए. पर तब तक लाहौर में दंगे हो गए. सचमुच के. इसके बाद पूरा परिवार दिल्ली आ गया. यहीं उनकी मुलाकात एस डी नारंग से हुई . नारंग ने उनको लेकर हिंदी फिल्म एक बात और बंगाली फिल्म चिन्ने पुतुल यानी कि चाइनीज डॉल बनाई. चिन्ने पुतुल को वो अपनी सर्वश्रेष्ठ फिल्म मानती थीं.

Smriti-Biswas

1949 में उनकी फिल्म आई अभिमान. इसने इनको अवॉर्ड भी दिलाया और काम भी. इसके बाद 1951 में वो मुंबई आ गईं. यहां ज्ञान मुखर्जी ने उनको शमशीर फिल्म में छोटा सा रोल दे दिया. पर इसी रोल में उनको उस समय के डांसिंग सनसन भगवान दादा के साथ नाचना था. इसके बाद इनको स्टारडम मिल गया. फिल्म हमदर्द में वैम्प का रोल मिला. और फिर बॉलीवुड ने अपने अंदाज में इनको टाइपकास्ट करते हुए वैम्प ही बनाना शुरू कर दिया. बॉलीवुड का ये अंदाज ही गजब लगता है. थ्रिलर फिल्म में सदाशिव अमरापुरकर, परेश रावल, बिंदु, रंजीत को लेते थे. सारा सस्पेंस पहले ही खत्म रहता था. पता रहता था कि कौन विलेन है.

bhagwan-dada
भगवान दादा

इंटरव्यू में ये भी बताया गया है कि स्मृति खाना बनाना, तैराकी, घुड़सवारी और गिटार-हारमोनियम-सितार सब करना-बजाना जानती थीं. अंग्रेजी तो आज भी धड़ाधड़ बोलती हैं. उस वक्त भी बोलती थीं. बैडमिंटन और टेबल टेनिस भी खेलती थीं. उनकी नजर थोड़ी कमजोर थी, तो चश्मा पहनती थीं. पर फिल्मों के सेट पर नहीं. कहती थीं कि शादी के लिए जल्दबाजी नहीं करूंगी. करियर महत्वपूर्ण है. पर शादी के बाद घर ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाएगा. कहती थीं कि नारंग को भी पेंटिंग, जासूसी कहानियां, शिकार और स्पोर्ट्स पसंद हैं मेरी तरह. वो कभी सीरियस नहीं रहती थीं. एक फन लविंग टॉमबॉय थीं वो जिनको फिल्म वाले बहुत प्यार करते थे. हालांकि एक बात जरूर थी. बंगाल और लाहौर में वो स्टार थीं, पर बंबई ने उनको वो रुतबा नहीं दिया था. फिल्में मिलती थीं, पर स्टारडम नहीं.

स्मृति का अमेरिका जाने का प्लान भी था. इनग्रिड बर्गमन, रोनाल्ड कोलमैन और ग्रेगरी पैक उनके फेवरिट हॉलीवुड स्टार थे.

11402716101528902855033213833616430308666299o1
इनग्रिड बर्गमन

फिर 2011 में फरहाना फारुख ने स्मृति का इंटरव्यू किया था.

8387j9y1on5x0n6l.D.0.Smriti_Biswas2
स्मृति

उस वक्त स्मृति उनको तस्वीरें दिखा रही थीं. इसमें वो फिल्मफेयर की कवरगर्ल भी बनी थीं. राजकपूर की होली पार्टियों और क्रिकेट मैच की तस्वीरें भी थीं उनमें. बता रही थीं कि पहले फिल्मस्टार बहुत मजे करते थे. अब सारे लोग चतुराई पर ध्यान देते हैं. फिर उन्होंने बताया कि कैसे धमकी फिल्म का गाना जवानी मस्तानी तांगेवालों में खूब लोकप्रिय हुआ था. स्मृति बी आर चोपड़ा के साथ कबाब पार्टी अरेंज करती थीं. मधुबाला के लिए मटकी में रसगुल्ला ले जाती थीं. देव आनंद के साथ हमसफर फिल्म में हीरोइन का रोल भी किया था. इस फिल्म में उनको देव को थप्पड़ मारना था. पर वो मार नहीं पा रही थीं. सहम जा रही थीं. देव ने बताया कि कैसे थप्पड़ मारना है.

निरुपा रॉय, बेगम पारा, श्यामा, नरगिस इनकी दोस्त हुआ करती थीं. ये लोग खूब मस्ती किया करती थीं. पर जब डॉक्टर से फिल्मकार बने नारंग से शादी हुई तो नारंग ने कह दिया कि अब पीछे मुड़ कर मत देखना. 10 साल तक रोमांस चला था. इसके बाद वो कभी फिल्म करने नहीं गईं. ये 1960 का साल था. इसके बाद वो घर पर रहने लगीं. पढ़ती, लिखतीं, खाना बनातीं. नारंग के मरने के बाद भी वो फिल्मों में नहीं गईं.

91+cf415j-L._SL1500_
दिल्ली का ठग फिल्म का पोस्टर

मीना कुमारी के साथ उन्होंने चांदनी चौक में शूटिंग भी की थी. मीना ने कहा था कि बासी रोटी और सब्जी के साथ खाऔगी तो आर्थराइटिस और डायबिटीज की समस्या नहीं होगी. उनसे उनकी आखिरी मुलाकात गुरुदत्त के मरने पर हुई थी. स्मृति गुरुदत्त और उनकी पत्नी गीता के भी करीब थीं. कई बार ये लोग साथ में खाना भी खाते थे. नारंग पवई के बोटिंग क्लब के मेंबर थे. तो ये लोग घूमते भी थे. स्मृति ने गुरु की फिल्म सैलाब में काम भी किया था. वो कहती थीं कि गुरुदत्त एक गर्लफ्रेंड की तरह थे. स्मृति ने बताया कि गुरुदत्त कलाकार आदमी थे. पर वहीदा रहमान का कोई रोल नहीं था उनके सुसाइड में.

gurudatt
गुरुदत्त

इन्होंने राजकपूर और नरगिस के साथ फिल्म जागते रहो में भी काम किया था. एक बार ये लोग श्रीलंका गये थे. वहां पर चैरिटी क्रिकेट मैच हुआ. एक टीम के कप्तान राजकपूर थे, दूसरी की नरगिस. स्मृति ने दो विकेट लिए तो इनको कंधे पर बैठाकर मैदान का चक्कर लगाया गया. ये बताती हैं कि राजकपूर को ये लोग स्वीमिंग पूल में फेंक दिया करती थीं. नरगिस के बारे में बताया कि वो खाना बनाने की शौकीन नहीं थीं लेकिन संजू के जन्मदिन पर पडिंग बनाती थीं. वो संजू को बोर्डिंग स्कूल से बुलाना चाहती थीं, लेकिन सुनील दत्त मना कर देते कि अभी उसे पढ़ने दो. ये भी बताया कि नरगिस कैंसर के चलते हॉस्पिटल में थीं. पर सुनील दत्त उनको देखने नहीं जाते थे. क्योंकि उनका दर्द नहीं बर्दाश्त कर पाते थे. नरगिस ने स्मृति को एक ‘नॉटी’ ग्रीटिंग कार्ड भी दिया था.

nargis
सुनील दत्त, संजय दत्त और नरगिस

ये भी पढ़ें:

कॉमेडी लैजेंड टुनटुन का इंटरव्यू: ‘ज़मीन के लिए मेरे माता-पिता और भाई को क़त्ल कर दिया गया था!’

जिनको ‘क्रूरता’ के लिए याद रखा गया, उन्होंने लता मंगेशकर को सोने का कुंडल इनाम दिया

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

उम्र 70 है तो क्या, इस औरत को मॉडलिंग से परहेज नहीं

अधेड़ उम्र से बुढ़ापे की ओर बढ़ती ये औरतें बेहद सुंदर हैं.

शर्मनाक: अस्पताल नसबंदी नहीं करता, तो वजाइना में डंडी घुसाकर इलाज करते हैं

ये एक समाज के तौर पर हमारी नाकामी है.

ये लड़की शरीर के बाल शेव न करने का कैंपेन चला रही है

बाल हटवाना खूबसूरती की निशानी क्यों है?

तमाम पुरुषों के नाम, जिनको रोने की छूट नहीं है

और तमाम औरतों के, जो रोना रोक नहीं पातीं.

दिल्ली की उन औरतों की कहानी, जो अपने एग्स डोनेट करती हैं

कितना कमाती हैं एग डोनर औरतें?

चुड़ैलें, जो पुरुषों के लिंग चुरातीं, फिर लिंगों को पालतू बना लेती थीं!

उन्हें रोज दाना-पानी दिया करतीं.

'ट्रेन में हुए उस हैरेसमेंट ने मुझे हमेशा के लिए बदल दिया'

ट्रेन में काले कोट वाले की उस हरकत ने मुझे हमेशा के लिए बदल दिया.

इस वजह से गे पुरुष औरतों को बेहतर दोस्त पाते हैं

पुरुषों के मुकाबले.

'लेस्बियन' सुनकर अचकचाने वालों में से हो तो थोड़ा इधर आओ

गे-लेस्बियन के नाम पर आपको भी कूड़ा ही समझ आता है, तो बुद्धि खोलने की जरूरत है.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.

ऑफिस के ड्युअल फेस लोगों के साथ कैसे मैनेज करें?

पर ध्यान रहे. आप इस केस को कैसे हैंडल कर रहे हैं, ये दफ्तर में किसी को पता न चले.

ललिता ने पूछा सौरभ से सवाल. मगर अधूरा. अब क्या करें

कुछ तो करना ही होगा गुरु. अधूरा भी तो एक तरह से पूरा है. जानो माजरा भीतर.

ऐसा क्या करें कि हम भी जेएनयू के कन्हैया लाल की तरह फेमस हो जाएं?

कोई भी जो किसी की तरह बना, कभी फेमस नहीं हो पाया. फेमस वही हुआ, जो अपनी तरह बना. सचिन गावस्कर नहीं बने. विराट सचिन नहीं बने. मोदी अटल नहीं बने और केजरीवाल अन्ना नहीं बने.

तुम लोग मुझे मुल्ले लगते हो या अव्वल दर्जे के वामपंथी जो इंडिया को इस्लामिक मुल्क बनाना चाहते हो

हम क्या हैं. ये पूछा आपने. वही जो आप हैं. नाम देखिए आप अपना.

एक राइटर होने की शर्तें?

शर्तें तो रेंट एंग्रीमेंट में होती हैं. जिन्हें तीन बार पढ़ते हैं. या फिर किसी ऐप या सॉफ्टवेयर को डाउनलोड करने में, जिसकी शर्तों को सुरसुराता छोड़कर हम बस आई एग्री वाले खांचे पर क्लिक मार देते हैं.

मुझे कानूनी कार्रवाई करनी है. क्या करूं.

करने को तो बहुत कुछ है. हाथ हैं. बहुत लंबे. आपके नहीं. कानून के. बाकी क्लिक करो. सब पता चल जाएगा.