Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

IIT बॉम्बे छोड़ने वाले मुकेश अंबानी के वो किस्से, जो कम लोगों को पता हैं

मुकेश अंबानी भारत के सबसे अमीर व्यक्ति कहे जाते हैं. उनके बारे में बहुत सारी बातें चलती हैं. पर उनके ऐसे कई किस्से हैं जिनसे आज भी लोग अनजान हैं.

मुकेश अम्बानी की जिंदगी के कुछ किस्से:

1. धीरूभाई अंबानी के बेटे मुकेश अंबानी अपने भाई-बहनों में सबसे बड़े थे. वो खुद कहते हैं कि वे ऐसे समय में पैदा हुए थे जब लोगों को घर में सबसे बड़े होने का अलग फायदा मिला करता था. उनके मुताबिक 1960 के दशक में मुकेश और उनके भाई-बहन दीप्ति, नीना और अनिल पर उनके पिता को इतनी पाबंदी लगाने की जरूरत नहीं पड़ती थी. पर कहते हैं कि अब माहौल बदल गया है.

2. परिवार और काम के बीच हमेशा सामंजस्य बना कर चलने वाले मुकेश बचपन से ही पढ़ाई-लिखाई में बहुत तेज़ थे. हमेशा से उन्होंने पढ़ने के लिए समय निकाला. वो कहते हैं कि उनका मकसद कभी ज्यादा से ज्यादा पैसे कमाना नहीं बल्कि चैलेंज लेना रहा है. मुकेश को पढ़ने का इतना शौक है कि वो कभी-कभार रात के 2 बजे तक भी पढ़ते रहते हैं. विज्ञान और टेक्नॉल्जी में काफी दिलचस्पी रखते हैं. विज्ञान की काफी किताबें ऑनलाइन खरीदते हैं. चैरिटी में भी काफी पैसे देते हैं मुकेश. 2016 के आंकड़ों के मुताबिक उन्होंने 303 करोड़ रुपयों का दान किया है.

Mukesh Ambani Chairman and Managing Director of Reliance Industries attends the annual meeting of the World Economic Forum (WEF) in Davos January 25, 2013. REUTERS/Pascal Lauener (SWITZERLAND - Tags: POLITICS BUSINESS) - RTR3CY35

3. मुकेश अपने पिता धीरूभाई अंबानी को अपना आदर्श मानते हैं. जैसे धीरूभाई अपनी बिज़ी लाइफ से हमेशा अपने परिवार के लिए समय निकाल लिया करते थे वैसे ही वो भी हमेशा अपने परिवार को समय देने की कोशिश करते हैं. मुकेश अंबानी का जन्म अदन, यमन में हुआ था. तब उनके पिता यमन की एक फर्म में काम किया करते थे. 1958 में वो मुंबई आ गए थे.

4. बचपन में धीरूभाई अंबानी ने कई लोगों का इंटरव्यू लेने के बाद अपने बच्चों के लिए एक टीचर रखा था. जिसका काम स्कूली पढ़ाई कराने का नहीं बल्कि जनरल नॉलेज बढ़ाने का था. वो 2 घंटे आकर उन्हें मूवीज, मैगजीन, न्यूज पेपर से ज्ञान देने के अलावा हॉकी, फुटबॉल जैसे खेल भी खिलाते थे. मुकेश बताते हैं कि वो हर साल 10-15 दिन किसी गांव में कैम्पिंग करने जाया करते थे.

ambani-family_121711044253

5. मुकेश बताते हैं कि उनकी केमिकल इंजीनियरिंग करने की इच्छा ‘दि ग्रेजुएट’ फिल्म से जगी थी. जो उस समय की बड़ी पॉपुलर फिल्म थी. इस फिल्म में भी पॉलीमर्स और प्लास्टिक पर बात हुई थी. रिलायंस में उन्होंने कॉलेज टाइम से ही काम करना शुरू कर दिया था. ढाई बजे कॉलेज खत्म होते ही वो ऑफिस पहुंच जाया करते थे. IIT बॉम्बे में इनका हो गया था. पर छोड़कर टॉप केमिकल इंजीनियरिंग इंस्टिट्यूट UDCT जॉइन कर लिए. केमिकल इंजीनियरिंग खत्म करने के बाद उन्होंने कई सारे एग्ज़ाम दिये. जिनमें से कई बस इसलिए कि वो देख सकें कि उनमें कितनी क्षमता है. अपने दोस्तों के साथ उन्होंने फिर हार्वर्ड, स्टैनफोर्ड जैसे कई बिजनस स्कूलों में अप्लाई किया. जिसमें से 2-3 में उनका नाम आया. लेकिन उन्होंने स्टैनफोर्ड ज्वाइन किया.

6. मुकेश बताते हैं कि स्टैनफोर्ड की फैकल्टी बेहतरीन थी. नोबेल पुरस्कार विजेता बिल शार्प उनके फाइनैन्शियल इकॉनमिक्स के प्रोफेसर थे. उन्होंने बहुत बढ़िया पढ़ाया. वहीं प्रोफेसर एम.एम शर्मा से भी वो बड़े प्रभावित थे.

7. 11 साल से उनके दोस्त आनंद जैन रिलायंस का SEZ संभालते हैं. वहीं मनोज से वे केमिकल इंजीनियरिंग के समय मिले थे और उनकी दोस्ती आज तक कायम है.

1455977726_89_Current-Affairs-for-20-January-2016

8. गुजराती मुकेश अंबानी को खाने में साउथ इंडियन फूड बहुत पसंद है. मुंबई के माटुंगा स्थित मैसूर कैफे का इडली-सांभर उनका फेवरिट है. आज भी वो वहां जाकर खाना पसंद करते हैं.

9. उनके 25 साल के बेटे आकाश जियो में चीफ ऑफ स्ट्रेटजी हैं. बेटी ईशा येल यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएट हैं साथ ही रिलायंस जियो और रिलायंस रीटेल के बोर्ड में हैं. 22 साल के अनंत ब्राउन यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं. मुकेश की शादी नीता अंबानी से 1985 में हुई थी. वे रिलायंस फाउंडेशन की चेयरपर्सन हैं. साथ ही ऐसी पहली भारतीय महिला जो अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक संघ की मेंबर हैं.

10. जियो हमारे देश में नई डिजिटल क्रांति लेकर आया है. मुकेश ने महज 6 महीनों में टेलीकॉम बिज़नेस के 12 फीसदी हिस्से पर कब्ज़ा कर लिया. ऐसी क्रांति की शुरुआत की जिसके बारे में किसी ने सोचा भी नहीं होगा. सोचा होगा तो उसे पूरा करने की ताकत मुकेश अंबानी में ही थी. मुकेश अंबानी के पास दुनिया की सबसे ज्यादा क्षमता वाली पेट्रोलियम रिफाइनरी है. पॉलीएस्टर फाइबर के मामले में भी मैन्युफैक्चरिंग में वे विश्व में सबसे आगे हैं.

house7_1457009514

11. मुकेश अंबानी का घर ‘एंटीलिया’ साउथ मुंबई के ‘पेडर रोड’ के पास है. ये ब्रिटेन की रानी के सरकारी महल ‘बकिंघम पैलेस’ के बाद दुनिया में दूसरे नंबर पर सबसे महंगा मकान है. इस गगनचुंबी इमारत में रहने के लिए 4 लाख वर्ग फीट जगह है और ये 27 मंजिल का है. 600 लोगों का स्टाफ दिन-रात यहां काम में लगा रहता है. इस मकान की 6 मंजिल तक तो खाली पार्किंग और गैरेज हैं. ‘एंटीलिया’ में 9 लिफ्ट, 1 स्पा, 1 मंदिर, एक बॉल रूम है. इसके अलावा एक प्राइवेट सिनेमा, एक योगा स्टूडियो, एक आइसक्रीम रूम, 2 या तीन से भी ज्यादा स्विमिंग पूल हैं.


ये स्टोरी ल्लनटॉप के साथ इंटर्नशिप कर रही रुचिका ने की है.


ये भी पढ़ें:

धीरूभाई के बिजनेस का तरीका जिसमें अरब के शेख को हिंदुस्तान की मिट्टी बेच दी

अमेरिका ने अफगानिस्तान पर गिराया सारे बमों का बाप, जानें 5 बातें

अगर भाजपा एमसीडी चुनाव हार जाए तो मोदी-शाह को बहुत फायदा होगा

कल क्रिकेट में ‘जाको राखे साईयां’ वाली कहावत चरितार्थ हो गई

करण जौहर ने बताया, उन्होंने सब कुछ राज ठाकरे से ही सीखा है

 

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

उम्र 70 है तो क्या, इस औरत को मॉडलिंग से परहेज नहीं

अधेड़ उम्र से बुढ़ापे की ओर बढ़ती ये औरतें बेहद सुंदर हैं.

शर्मनाक: अस्पताल नसबंदी नहीं करता, तो वजाइना में डंडी घुसाकर इलाज करते हैं

ये एक समाज के तौर पर हमारी नाकामी है.

ये लड़की शरीर के बाल शेव न करने का कैंपेन चला रही है

बाल हटवाना खूबसूरती की निशानी क्यों है?

तमाम पुरुषों के नाम, जिनको रोने की छूट नहीं है

और तमाम औरतों के, जो रोना रोक नहीं पातीं.

दिल्ली की उन औरतों की कहानी, जो अपने एग्स डोनेट करती हैं

कितना कमाती हैं एग डोनर औरतें?

चुड़ैलें, जो पुरुषों के लिंग चुरातीं, फिर लिंगों को पालतू बना लेती थीं!

उन्हें रोज दाना-पानी दिया करतीं.

'ट्रेन में हुए उस हैरेसमेंट ने मुझे हमेशा के लिए बदल दिया'

ट्रेन में काले कोट वाले की उस हरकत ने मुझे हमेशा के लिए बदल दिया.

इस वजह से गे पुरुष औरतों को बेहतर दोस्त पाते हैं

पुरुषों के मुकाबले.

'लेस्बियन' सुनकर अचकचाने वालों में से हो तो थोड़ा इधर आओ

गे-लेस्बियन के नाम पर आपको भी कूड़ा ही समझ आता है, तो बुद्धि खोलने की जरूरत है.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.

ऑफिस के ड्युअल फेस लोगों के साथ कैसे मैनेज करें?

पर ध्यान रहे. आप इस केस को कैसे हैंडल कर रहे हैं, ये दफ्तर में किसी को पता न चले.

ललिता ने पूछा सौरभ से सवाल. मगर अधूरा. अब क्या करें

कुछ तो करना ही होगा गुरु. अधूरा भी तो एक तरह से पूरा है. जानो माजरा भीतर.

ऐसा क्या करें कि हम भी जेएनयू के कन्हैया लाल की तरह फेमस हो जाएं?

कोई भी जो किसी की तरह बना, कभी फेमस नहीं हो पाया. फेमस वही हुआ, जो अपनी तरह बना. सचिन गावस्कर नहीं बने. विराट सचिन नहीं बने. मोदी अटल नहीं बने और केजरीवाल अन्ना नहीं बने.

तुम लोग मुझे मुल्ले लगते हो या अव्वल दर्जे के वामपंथी जो इंडिया को इस्लामिक मुल्क बनाना चाहते हो

हम क्या हैं. ये पूछा आपने. वही जो आप हैं. नाम देखिए आप अपना.

एक राइटर होने की शर्तें?

शर्तें तो रेंट एंग्रीमेंट में होती हैं. जिन्हें तीन बार पढ़ते हैं. या फिर किसी ऐप या सॉफ्टवेयर को डाउनलोड करने में, जिसकी शर्तों को सुरसुराता छोड़कर हम बस आई एग्री वाले खांचे पर क्लिक मार देते हैं.

मुझे कानूनी कार्रवाई करनी है. क्या करूं.

करने को तो बहुत कुछ है. हाथ हैं. बहुत लंबे. आपके नहीं. कानून के. बाकी क्लिक करो. सब पता चल जाएगा.