Submit your post

Subscribe

Follow Us

हमले की दूसरी बरसी पर शार्ली एब्दो फिर खबरों में है

7 जनवरी 2015 की शाम को अचानक से पूरी दुनिया में खबर लिखने और देखने वाले सदमे में आ गए थे. फ्रांस की ‘शार्ली एब्दो’ मैग्ज़ीन पर कट्टरपंथियों ने हमला किया था और 12 पत्रकारों, कार्टून बनाने वालों को मार दिया था. बंदूक रखने वाले कलम से डर गए थे.

इस घटना के ठीक दो साल बाद ‘शार्ली एब्दो’ फिर चर्चा में है. मगर बिलकुल अलग वजह के कारण. मैग्ज़ीन की सबसे ज़्यादा मुखर पत्रकार ज़िनेब एल रहज़ोई ने इस शुक्रवार ‘शार्ली एब्दो’ से इस्तीफा दे दिया है. कारण बताया है पत्रिका का इस्लामिक कट्टरपंथियों के आगे नरम पड़ जाना.

ज़िनेब ने कहा है कि उस नरसंहार के बाद से पत्रिका इस्लाम और उससे जुड़े प्रतीकों पर कुछ भी कहने से बच रही है. उन्होंने ये भी कहा कि सितंबर से ही उनकी बाकी स्टाफ से असहमति चल रही थी.

ज़िनेब
ज़िनेब

35 साल की ज़िनेब अपने तल्ख तेवरों के कारण चरमपंथियों के निशाने पर रहती हैं. ज़िनेब को हर समय स्पेशल सिक्योरिटी में रहना पड़ता है. उनका इन तमाम लोगों की भावनाएं आहत करने पर कहना है,

“सभी मूर्खों को संतुष्ट करना मुश्किल है.”

हमले के विरोध में न्यूयॉर्क टाइम्स का कार्टून
हमले के विरोध में न्यूयॉर्क टाइम्स का कार्टून

जबकि मैग्ज़ीन के वर्तमान एडिटर ‘रिस’ का कहना है,

हमारी हिफाज़त कौन करेगा. मैं अपने स्टाफ को बिना किसी कारण मरते नहीं देख सकता. अगर सिर्फ मेरी जान की बात होती तो मैं कभी नहीं रूकता.

ज़िनेब शार्ली हेब्दो पर हमले के समय मोरक्को में थीं और उनका कहना है कि शार्ली ने ही उन्हें चरमपंथ का विरोध करना सिखाया और वो इस बात को हमेशा याद रखेंगी. इस विरोध के चलते ही उन्होंने अपने साथियों को खोया है और वो इसे नहीं छोड़ेंगी.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

आमिर खान को मिली हैं दो इमोशनल कर देने वाली चिट्ठियां

आमिर खान भावुक आदमी हैं. उनके आंसुओं पर जोक्स बनते हैं. लेकिन इस बार वो खुशी में रोए.

जैन मंदिर ने कहा 'हम अल्पसंख्यक हैं इसलिए पीले और सफ़ेद कपड़े पहनो'

लड़कियों के लिए भी 'ड्रेस कोड' बताया गया है.

जिस मैदान पर आज मैच है, वहां एक शर्मनाक हरकत हुई थी

स्टेडियम ब्लैकलिस्ट किया जाने वाला था. बच गया.

पाकी टॉकी

'आतंकियों की मदद के लिए पश्तून लड़कियों को सेक्स स्लेव बना रहा है पाकिस्तान'

लड़कियों को किडनैप किया जाता है. और कैद करके रखा जाता है.

'पाकिस्तान में एक और बांग्लादेश पनप रहा है'

ये खबर पाकिस्तान से ही है. और उम्मीद फिर भारत से है.

पाकिस्तान की बजबजाती गंदगी का ये एक नमूना है

इस शायर ने कट्टरपंथियों को सुलगा के रख रखा था.

मिलिए वर्ल्ड फेमस पाकिस्तान की 'लेडी गागा' उरवाह खान से

ए आर रहमान की तरफ से कॉल आया तो बॉलीवुड में भी देंगी दस्तक.

बंद हो गईं वो अदालतें, जो आतंकियों को मौत की सज़ा सुना रही थीं

इन अदालतों में 275 केस की सुनवाई हुई और 161 को मौत की सज़ा दे दी गई.

भौंचक

बिहार में शराबबंदी के बाद अब बच्चों की 'पढ़ाइबंदी'!

नशाबंदी के प्रेम में नशा कर लिए हो का.

राहुल का फटा कुर्ता सिलवाने के लिए आम आदमी ने भेजे सौ रुपये

भरे मंच में राहुल का फटा कुर्ता देख गाजियाबाद के एक आदमी का दिल भर आया.

शहाबुद्दीन के दो दर्जन केस में एक और जुड़ा, सेल्फी लेने का केस

मर्डर, डकैती, छिनैती, रंगदारी के केस जिसका कुछ नहीं बिगाड़ पाए, उस पर रजिस्टर हुआ ये केस.

यूपी चुनाव में नाउम्मीदी से भरे उम्मीदवार, फक्कड़ बाबा

73 साल के बाबा 16वीं बार चुनाव लड़ रहे हैं, वजह बेहद खास है.

अनिल विज की बात सुन तो अर्थशास्त्रियों ने भी अपनी किताबें जला दीं

बीजेपी में एक से एक समझदार भरे हैं, अनिल विज ने तो गांधी मुक्त भारत की तैयारी कर डाली.