Submit your post

Subscribe

Follow Us

बंद हो गईं वो अदालतें, जो आतंकियों को मौत की सज़ा सुना रही थीं

पेशावर में आर्मी स्कूल पर आतंकी हमला. दिल दहला दिया था इस अटैक ने. सैकड़ों मां-बाप के अरमान कुचले गए थे. तबाही का मंज़र था. और पाकिस्तान के लिए सबक लेने का वक्त. फैसले लिए गए. आतंक को ख़त्म करने की कसमें खाई गईं. मगर हालात अब भी वही हैं. धमाके होते हैं. लोग मरते हैं. आतंकी खुलेआम घूमते हैं. पाकिस्तान को नजर नहीं आता. बस सबूत मांगता रहता है. लेकिन आर्मी ने इस हमले के बाद कुछ अदालतें बनाने की बात की थी. जिसको वहां के सुप्रीम कोर्ट ने इजाज़त दे दी थी. इन अदालतों ने दो साल में ताबड़तोड़ फैसले लिए. 275 मामलों की सुनवाई इन अदालतों में हुई और 161 को मौत की सजा सुना दी गई. लेकिन जो काम खुद कोर्ट को करना चाहिए था उसके लिए आर्मी की अदालतें बनाने से विवाद हुआ. इसे मानवाधिकार के खिलाफ बताया गया. दो साल बाद अब ये अदालतें बंद हो गई हैं.

16 दिसंबर 2014 को पेशावर के आर्मी स्कूल पर तालिबानी हमला हुआ. उस हमले में 150 से ज्यादा बच्चे मारे गए. तब पाकिस्तानी आर्मी ने सख्ती से आतंकियों के सफाए करने की बात की. और आर्मी अदालतें बनाये जाने की मांग हुई, जिसमें आतंकियों का फैसला फटाक से किया जा सके. अदालतों में पड़ा न रहे. आर्मी अदालतों को बनाने के लिए संविधान में संशोधन करना पड़ा और दो साल के लिए ये अदालतें बना दी गईं. जिनकी मियाद 7 जनवरी को पूरी हो गई.

तालिबानी हमले में 16 दिसंबर को पेशावर में 150 से ज्यादा बच्चे मारे गए थे.
तालिबानी हमले में 16 दिसंबर को पेशावर में 150 से ज्यादा बच्चे मारे गए थे.

आर्मी अदालतें बनाये जाने भारी बहस छिड़ गई थी और अदालतों में विभिन्न ह्यूमन राइट्स एक्टिविस्ट ने इसे देश के संविधान और इंटरनेशनल चार्टरों में मौजूद ह्यूमन राइट्स के खिलाफ बताया. लेकिन इन विरोधों के बाद भी इन अदालतों को काम करने दिया गया, क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने संसद की ओर से साल 2015 में लागू किए गए 21वें संवैधानिक संशोधन और पाकिस्तान सेना (संशोधन) विधेयक, 2015 को वैध करार दिया था.

संविधान में किए गए संशोधन में यह स्पष्ट तय कर दिया गया था कि ये अदालतें दो साल बाद खत्म कर दी जाएंगी. इस फैसले से आर्मी के पास लोगों पर मुकदमा चलाने की पॉवर आ गई थी. दो साल के दौरान आर्मी अदालतों को 275 मामले सौंपे गए, जिनमें 161 आतंकियों को मौत की सजा सुनाई गई. इनमें से अभी तक सिर्फ 12 आतंकियों को मौत मिली है. इन अदालतों ने 116 आतंकियों को कैद की सजा सुनाई, जिनमें से ज्यादातर उम्रकैद की सजा काट रहे हैं.

जिन आतंकियों को सजाएं सुनाई गर्इं, वे अल-कायदा, तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान, जमातउल अहरार, तौहीद वल जिहाद ग्रुप, जैश-ए-मुहम्मद, हरकत-उल-जिहाद-ए-इस्लामी, लश्कर-ए-झंगवी, लश्कर-ए-झंगवी अल-आलमी, लश्कर-ए-इस्लामी और सिपह-ए-सहाबा से जुड़े थे. अब तक जिन आतंकियों को फांसी पर लटकाया जा चुका है उनमें पेशावर स्कूल पर अटैक कराने वाला भी शामिल था. जिन आतंकी मामलों को आर्मी कोर्ट में भेजा जा रहा था अब वो देश में पहले से मौजूद एंटी टेरर कोर्ट में सुनवाई के लिए जाएंगे.


 

वो तारीख, जिसने पाकिस्तान को भी रुलाया और हिंदुस्तान को भी

मासूम बच्चों को मार के कौन सी जन्नत मिलती है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

ट्रैफिक ने एक आदमी को किडनैपिंग से बचाया

किडनैपरों की बेरहमी CCTV में कैद हो गई.

वेद प्रकाश शर्मा : जिसने साहित्य को बस स्टैंड और गद्दे के नीचे तक पहुंचा दिया

जिसकी एक किताब की बिक्री में हिंदी के लगभग सारे लेखक आ जाएंगे, वो नहीं रहे.

अपनी शादी में पूर्णिया में प्लेन उतारा, अब दूसरों की बग्घी छीन रही हैं

मैरिज बिल को लेकर चर्चा में हैं रंजीत

तो 'स्वच्छ भारत अभियान' की सच्चाई बंधुआ मजदूरी है?

टॉयलेट बनवाने वाले आज बंधक हैं, बिना खाए मजदूरी कर रहे हैं.

गूगल जैसी कंपनियों ने बढ़ाया ये अपराध, पर सुप्रीम कोर्ट ने चला दी इनपे आरी

भारत में इसके लिए कड़े कानून हैं, पर लोग नजर बचा कर निकल जाते हैं.

इस बीजेपी सीएम की बातें सुनकर लग रहा है दिमाग में अफीम के बाग उग आए हैं

एक बार सुनिए. आपके कदम लड़खड़ाने लगेंगे.

सैमसंग का वारिस गिरफ्तार और वजह मोबाइलों का फूटना नहीं है

ये खबर जानने के बाद मेरा पॉलिटिक्स और पैसे से भरोसा ही उठ गया है.

भाजपा बोली 'सामना' पर लगे बैन, शिवसेना बोली ये 'इमरजेंसी' है

मिल के सरकार चलाती दोनों पार्टियों में जारी है जंग.

अमेरिका ने नाटो देशों को कुछ यूं धमकाया कि दुनिया दहशत में आ जाएगी

ये कुछ नया हो रहा है दुनिया में.

सरकार ने 34 लोगों के नाम लिए, अब काला धन सफेद कराने वालों तक पहुंच रहा शिकंजा

इनके खिलाफ एक्शन लेने का प्रस्ताव दिया गया है.

टॉप खबर

ISI ने कॉपी कर लिए 2000 वाली नोट के आधे सिक्योरिटी फीचर्स, फिर करो नोटबंदी

पाकिस्तानी एजेंसी ISI ने यहां लाइन कम करने और हमारी सरकार की मुसीबत कम करने के लिए कमर कस ली है.

इस प्रदेश में सीएम हिंसा न रोक पाए, विधायक अब सीएम बदल देना चाहते हैं

तमिलनाडु के बाद यहां भी सियासी उठापटक हो रही है. अब सीएम बदला जाना तय है.

इस भाजपा विधायक ने हर किसान की आत्महत्या को फर्ज़ी करार दिया है

'क्योंकि असली किसान तो सिर्फ लड़ना जानते हैं.'

'मैं धारक को मूर्ख बनाने का वचन देता हूं'

अगर मीडिया रिपोर्ट का दावा सही है तो नोट पर से 'सत्यमेव जयते' हटा देना चाहिए.

विश्व हिंदू परिषद के लोग आईएसआई के लिए जासूसी कर रहे थे?

11 लोग पकड़े गए हैं. चकित करने वाली बात है कि हमारे बीच के ही लोग हैं.

'बात तीन तलाक पर करो, यूनिफॉर्म सिविल कोड पर बहस नहीं अभी'

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से साफ-साफ कहा कि तीन तलाक पर फैसला विधायिका को ही करना चाहिए.

दुनिया ने इस अफसर को इज्जत दी, पर मोदी सरकार की नजर में ये ZERO हैं

पांच साल से लगातार 'आउटस्टैंडिंग' रहा था ये अधिकारी.

पैद्दा गांव में एक लड़के को मार दिया, धार्मिक रंग देने की कोशिश, हालात नाज़ुक

चुनाव और तनाव, बिजनौर में वो हो रहा है जो नहीं होना चाहिए.

बीजेपी के हिंदुत्व कैंपेन की भेंट चढ़ा शाहरुख का आई केयर कैंपेन!

विकास के नाम पर वोट भी मांगना है और कट्टर हिंदू वोटर न छिटक जाए इसका खयाल भी रखना है.

भौंचक

बेलारूस के पत्रकार के रास्ते पर चले तो हमारे कई ऐंकर्स तो बेहाल हो जाएंगे

ये वीडियो भले ही मज़ेदार है लेकिन बंदा सीख दे गया.

नंबरप्लेट पर दारु, कृष, AK56 लिखने वालों को म्यूजियम में काहे नहीं रखवा देते

इन क्रिएटिव लोगों को सुबह-शाम अगरबत्ती दिखाई जानी चाहिए और इनको देखने के लिए टिकट लगना चाहिए.

पहले गोली मारी, फिर फेसबुक लाइव में लाश के पास नाचा-गाया

5 गैंगस्टर की इस हरकत से सहम गया है पंजाब का संगरूर

वैलेंटाइन्स डे पर भगवान कृष्ण को मिल रहा है सरप्राइज गिफ्ट

इंसान जो है, वो हर चीज को अपने जरूरत के हिसाब से देखता है, भगवान भी उन्हीं में से एक हैं.

एक लड्डू खाने से डेढ़ महीने तक देशभक्ति बढ़ी रहती है

दिल्ली एमसीडी के जो फैसले हैं न दोस्त, सुन लो, लॉजिक छितरा जाएंगे.

स्मगलिंग के लिए सबसे भरोसेमंद है भारत की सरकारी डाक

डाकिया डाक लाया, मगर ये क्या लाया? आइला ये तो जानवर है.

वैलेंटाइन्स डे पर छिंदवाड़ा कलेक्टर का आदेश पढ़ने के बाद पत्थर खोज रहा हूं

उनको मारने के लिए नहीं बल्कि वो पत्थर अपना सिर फोड़ लेने के लिए चाहिए.

राहुल द्रविड़ और उनकी टीम को हर शाम खाने का जुगाड़ करना पड़ रहा है

मोदीजी और कोर्ट के फैसले के कॉकटेल का कमाल है.

टी-20 मैच में दिल्ली के लड़के ने 300 रन बना दिए! ये बिक चुकी है गोरमिंट!

इस बार साईकलोन निक्कर और टीशर्ट पहन कर नहीं बल्कि बल्ला हाथ में लेकर आया था.