Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

30 साल बाद भारत में फौज के लिए नई तोप आई है

दिल्ली की सड़कों के साथ-साथ आसमान में भी बहुत भीड़ होती है. दिन भर में हज़ार के करीब प्लेन यहां आते-जाते हैं. लेकिन 18 मई को एक बड़े खास प्लेन ने दिल्ली की ज़मीन को छुआ. ये अमरीका से M777 अल्ट्रा लाइट होवित्ज़र गन लेकर आया था. तीस साल बाद भारत में कोई नई आर्टिलरी गन आई है.

होवित्ज़र गन होती क्या है?

पुराने ज़माने में फौज के तीन हिस्से होते थे. पैदल सिपाही, घुड़सवार और हाथी पर सवार सैनिक और उनके पीछे तोपखाना. आज की फौज में भी लगभग इसी तर्ज पर तीन कोर होती हैं – सबसे आगे इंफेंट्री, उसके पीछ आर्मड कोर और सबसे पीछे आर्टिलरी. आर्टिलरी के पास अलग-अलग तरह की बड़ी-बड़ी तोप होती हैं जिनसे वो दुश्मन पर बड़े-बड़े गोले गिराते हैं. इन्हीं में से एक होती है होवित्ज़र.

होवित्ज़र गन किसी ऐसी गन को कहते हैं जिसका गोला एक तीखे एंगल पर फायर किया जाता हो, माने 45-90 डिग्री पर. इससे गोला काफी ऊंचाई तक जाता है, और फिर ज़मीन पर लौटता है. तो इससे सीधी ज़मीन के साथ पहाड़ों पर बैठे दुश्मन पर भी फायर किया जा सकता है.

कार्गिल में जीत दिलाने वाली बोफोर्स भी एक होवित्ज़र है.
कारगिल में जीत दिलाने वाली बोफोर्स भी एक होवित्ज़र है.

कारगिल युद्ध की सबसे यादगार तस्वीरों में बोफोर्स गन को फायर करते हुए दिखाया जाता है. बोफोर्स भी एक होवित्ज़र गन है. लेकिन ये 1986 में स्वीडन से इंपोर्ट की गई थी. माने काफी पुरानी है. इसलिए फौज लंबे समय से चाहती थी कि उसके लिए एक नई होवित्ज़र या तो देश में बना ली जाए, या तो विदेश से मंगा ली जाए.

लेकिन देसी होवित्ज़र धनुष के बनने में काफी देरी हुई. ये बोफोर्स के प्लेटफार्म पर ही बनी है और अब तक फील्ड ट्रायल में खुद को साबित नहीं कर पाई है. और बाहर से गन खरीदने पर भी बात बन नहीं पा रही थी. बोफोर्स घोटाले में जिस तरह लोगों के हाथ जले, उसके बाद रक्षा सौदों को लेकर अफसरों और नेताओं दोनों में डर बैठ गया. रक्षा सौदे वैसे भी बहुत पेचीदा होते हैं, एमओयू साइन होने से लेकर फील्ड ट्रायल और असल खरीद तक में काफी माथा पच्ची होती है. तिस पर इतने फूंक-फूंक कर कदम रखे जाने लगे कि मामला कभी असल खरीद तक पहुंचता ही नहीं था.

देसी होवित्ज़र धनुष
देसी होवित्ज़र धनुष

इसलिए जब नवंबर 2016 में भारत ने जब अमरीका से 5000 करोड़ के बदले 145 होवित्ज़र गन खरीदने का करार किया तो ये उसे ऐतिहासिक कहा गया. इसके तहत अमरीका अपने फॉरेन मिलिटरी सेल्स प्रोग्राम के ज़रिए भारत को गन एक्सपोर्ट करने वाला था. ये गन थी BAE Systems की M777A2. इसे आम बोलचाल में M777 कहा जाता है. डील के तहत 25 गन अमरीका से इंपोर्ट की जाएंगी और बाकी भारत में बनेंगी. इसके लिए BAE ने महिंद्रा डिफेंस के साथ करार किया है.

आइए जानें कि M777 में ऐसा क्या है कि इसे फौज के लिए पसंद किया गया:

रेंज
ये 30 किलोमीटर तक गोला फायर कर सकती है. बोफोर्स के मामले में ये दूरी 29 किलोमीटर थी.

रेट ऑफ फायर
M777 30 सेकंड में एक गोला फायर कर देती है. और ऐसा ये लगातार कर सकती है. ये इसका सस्टेंड फायरिंग मोड है. इसके अलावा इसमें एक इंटेस फायरिंग मोड भी है. इसमें ये एक मिनट में 5 गोले फायर कर सकती है. इंटेंस फायरिंग मोड में गन एक बार में 2 मिनट तक रह सकती है.

कहां तैनात होंगी
आर्मी इन्हें नॉर्दन और ईस्टर्न सेक्टर में तैनात करना चाहती है. आर्मी एक नई माउंटेन स्ट्राइक कोर भी खड़ी कर रही है जिसका हेडक्वार्टर बंगाल के पानगढ़ में होगा. इस कोर को भी ये गन मिलेंगी.

हेलिकॉप्टर से ले जाई जाती M777. (फोटोःReuters)
हेलिकॉप्टर से ले जाई जाती M777. (फोटोःWikimedia Commons)

हेलिकॉप्टर से भी ले जाई जा सकती हैं
M777 में एल्यूमिनियम और टाइटेनियम का इस्तेमाल हुआ है. इस तरह इसका वज़न काफी कम हो गया है. करीब सवा चार टन भारी ये गन हैलिकॉप्टर के नीचे टांग कर भी कहीं ले जाई जा सकती है. यानी किसी दुर्गम इलाके में इन्हें घंटों में तैनात किया जा सकता है. दूसरी गन के साथ ये संभव नहीं था क्योंकि वो M777 से लगभग दोगुनी भारी होती हैं. देसी बोफोर्स धनुष गन भी तकरीबन 13 टन की है.

एम्युनिशन

M777 में 155 MM का गोला इस्तेमाल होता. 155 MM गोले का डायमीटर होता है. इसीलिए इस गन को 155 MM गन भी कहते हैं. बोफोर्स  भी एक 155  MM गन है.

चलाने में कितने लोग लगते हैं?

आमतौर पर 7 सैनिक. लेकिन ज़रूरत पड़ने पर 5 सैनिकों का क्रू भी चला सकता है.

अब तक का रिकॉर्ड
M777 दुनियाभर की फौज इस्तेमाल करती हैं. खासकर अमरीका की फौज. हाल के समय में इनका इस्तेमाल अफ्गानिस्तान और इराक में हुआ है.
दिल्ली पहुंची दो गन पहले पोकरण भेजी जाएंगी जहां फौज इन्हें अपनी ज़रूरत के हिसाब से कैलिबरेट करेगी और रेंज टेबल बनाएगी. रेंज टेबल में मौसम और इलाके के हिसाब से गन और उसमें चलाए जाने वाले गोले की सेटिंग्स होती हैं. इसके बाद और ट्रायल होंगे जो एक साल तक चलेंगे.


ये भी पढ़ेंः

6 किस्से भारत के उस आर्मी चीफ के, जिसके बेटे को बंदी बना पाक आर्मी चीफ ने तुरंत फोन किया था

कौन है वो आदमी, शरीफ के मुताबिक जिसके जरिए भारत पाकिस्तान से चोरी-छिपे बात कर रहा है!

इस आतंकवादी संगठन की वजह से एक मुस्लिम देश पाकिस्तान पर हमला करने वाला है!

22 साल के लेफ्टिनेंट उमर फयाज़ की हत्या युद्ध के हर नियम के खिलाफ है

इंडियन आर्मी ने पाकिस्तानी बंकरों को उड़ा उनकी हैवानियत का बदला लिया, क्या सच में?

 

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

पड़ोस में नवाज तो निपट गए, अपने यहां भी कुछ होगा क्या?

पनामा पेपर्स में कई भारतीयों के भी नाम हैं.

करगिल शहीद का बेटा, जिसने दुनिया में आकर Martyr का मतलब खोजा

जब मुकेश राठौर टाइगर हिल पर लड़ते हुए शहीद हुए तब ये पैदा भी नहीं हुआ था.

रामनाथ कोविंद राष्ट्रपति चुनाव जीते, जानिए कहां-कहां हुई क्रॉस वोटिंग

कोविंद को 60.30% वोट मिलना तय माना जा रहा था, मिले 66% वोट.

तो इस वजह से मायावती ने राज्यसभा से इस्तीफा दिया

क्या बोलने ना दिया जाना ही मायावती की नाराजगी की मुख्य वजह है, या कुछ और?

हिंदू आतंकी पकड़े जाने पर नाचने वालों, आतंकवाद का अभी एक ही धर्म है!

यूपी का अातंकी संदीप शर्मा जब से पकड़ा गया है, कुछ लोगों के हाथ जैसे खजाना लग गया है.

'बॉडीगार्ड' फिल्म के हीरो को पुलिस ने बड़े केस में अरेस्ट कर लिया है

केरल की एक्ट्रेस को अगवा करने और यौन शोषण का चर्चित मामला है.

हमले में ज़ख़्मी RSS वाले की मौत, मुस्लिम ने पहुंचाया था हॉस्पिटल, अंतिम संस्कार में हुई पत्थरबाज़ी

इलाके में तनाव है. क्योंकि एक मुस्लिम छात्र को भी मार दिया गया है.

दिल्ली में भैंस ले जा रहे मुसलमानों को पीट दिया गया, और हरियाणा में 25 गाय मर गईं

एक वीडियो भी वायरल हो रहा है, जिसमें गौरक्षक गाय ले जा रहे लोगों को बुरी तरह पीट रहे हैं.

मोदी सरकार ने 3 सालों में जितना पैसा बूचड़खानों को दिया है, वो करोड़ों में है

क्यों बूचड़खाने चलाने के लिए करोड़ों रुपये दे दिए गए. जबकि देश में बीफ को लेकर भावनाएं भड़क रही हैं.

मुख्यमंत्री योगी जी, बिजनौर में सब इंस्पेक्टर को गला काटकर मार दिया गया

आपने गुंडाराज ख़त्म करने की बात कही थी. कुछ करिए. इससे पहले कि जनता का भरोसा टूट जाए.

पाकी टॉकी

मनी लॉन्ड्रिंग केस में नवाज शरीफ दोषी करार, नहीं रहेंगे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री

पनामा पेपर्स लीक ने दुनियाभर में हलचल मचाई थी.

जब अफरीदी ही औरतों को चूल्हे में झोंकना चाहते हों, इस खिलाड़ी पर ये भद्दे कमेंट हमें हैरान नहीं करते

पिता के साथ एयरपोर्ट से बाइक पर घर जाती इस पाक खिलाड़ी को निशाना बनाया जाना शर्मनाक है.

गोरमिंट को गालियां देकर वायरल हुईं इन आंटी के साथ बहुत बुरा हो रहा है

'ये गोरमिंट बिक चुकी है. अब कुछ नहीं बचा.' कहने वाली आंटी की ये बुरी खबर है.

क्या जिन्ना की बहन फातिमा का पाकिस्तान में कत्ल हुआ था?

उनके जनाज़े पर पत्थर क्यों बरसे?

'मैं अल्लाह के घर से चोरी कर रहा हूं, तुम कौन होते हो बीच में नाक घुसाने वाले'

चोर का ये ख़त पढ़ लीजिए. सोच में पड़ जाएंगे!

छिड़ी बहस, क्या सच में डॉल्फिन से सेक्स कर रहे हैं पाकिस्तानी?

रमज़ान के पाक महीने में डॉल्फिन को बचाने की बात हो रही है.

कौन है ये पाकिस्तानी पत्रकार, जिसने पूरी टीम के बदले 3 साल के लिए विराट कोहली को मांगा है

दोनों देशों में ट्रोल हुई हैं. ट्रोल करने वालों को इनके ये पांच ट्वीट देख लेने चाहिए.

क्या पाकिस्तान से कुलभूषण जाधव की मौत की खबर आने वाली है?

पाकिस्तान की हरकतें इसी तरफ इशारा कर रही हैं.

पाकिस्तान में रमज़ान को लेकर ऐसा कानून बनाया गया है जो बेहूदा है

'पाकिस्तान में आतंकी घूम सकते हैं, लेकिन रोजेदार के सामने कुछ खाया तो जेल में होगा.'

'द गॉडफादर' ने इस्लामिक पाकिस्तान की राजनीति में बवाल मचा दिया

पाक पीएम नवाज़ शरीफ के लिए ये नई मुसीबत है.

भौंचक

इस बच्ची का शरीर बीमारी की वजह से पेड़ जैसा बनता जा रहा है

इस बीमारी के अब तक सिर्फ 4 केस सामने आए हैं.

इस आदमी की टट्टी ने 27 गाड़ियों में आग लगा दी

प्रेम, रॉकेट और टट्टी इंसान को कहीं भी ले जा सकते हैं.

बिहार के इस गांव में एक भी टॉयलेट नहीं है, वजह जानकर सिर पकड़ लोगे

1984 से कितने ही क्लीन इंडिया और स्वच्छ भारत आए गए, यहां कुछ नहीं बदला.

दिमाग निकल कर नाक पर लटक गया, 10 घंटे लगे ऑपरेशन में

5000 में से एक मामले में ऐसा होता है.

क्या है इस नाटक में कि देखने वाले विचलित होकर उलटी कर देते हैं

एक बार तो नाटक के दौरान बहस इतनी बढ़ी कि पुलिस बुलानी पड़ी.

जानकर विश्वास नहीं होता, टीचर ने बच्चों को ऐसा होमवर्क दिया

कोई मां-बाप नहीं चाहेंगे कि उनके बच्चे ऐसे विषय पर निबंध लिखें.

केजरीवाल ने दिल्ली के पेड़ों पर भी लगवा दिए CCTV कैमरे, वजह जानकर आप सिर धुनेंगे

और अगर आपको लग रहा है कि ये वो वाले कैमरे हैं तो आपके चौंकने की बारी है.

चिकन के धोखे में कुत्ते का मांस खा रहे हैं लोग

वीडियो से हुआ खुलासा. सड़क से कुत्तों को पकड़कर काटा जा रहा है. और झूठ बोलकर बेचा जा रहा है.

एयरलाइन ने फ्लाइट में मरे कुत्ते का भाव 900 रुपए किलो लगाया है

ये मुआवज़े के नाम पर भावनाओं से खिलवाड़ है.

मां के साथ सेक्शुअल रिलेशन की चुगली से परेशान होकर काटा अपना लिंग, पता चला बीमारी कुछ और थी

इस बीमारी से वो पिछले 15 साल से जूझ रहा था लेकिन किसी को पता नहीं था.