Submit your post

Subscribe

Follow Us

इस BSF जवान को जली रोटी खाकर ड्यूटी देनी पड़ रही है: वायरल वीडियो

कोई भी बात हई सरकार ने आपके सामने सोल्जर को रख दिया. सर्जिकल स्ट्राइक के बाद तो हालत ये कि आपने ज़रा भी चूं चा किया तो आपको देशद्रोही के तमगे से नवाजे जाने की कोशिश की गई. सोल्जर सोल्जर का ऐसा गर्दा काट दिया गया कि सरकार के किसी काम पर कोई सवाल न किया जा सके. लोगों के दिमाग में ये फिट कर देना ही था कि नोटबंदी हुई. कतारें लगीं. लोग मरे तो किसी ने सवाल करना चाहा तो आवाजें उठा दी गईं कि आर्मी के जवानों के बारे में सोचो. तुम देश के लिए बैंक की कतार में खड़े नहीं हो सकते. बिल्कुल सोचना चाहिए, बॉर्डर पर तैनात जवानों के लिए. लेकिन जो सरकार खुद को जवानों की हितैषी होने का बखान कर रही है उसी सरकार की मौजूदगी में जवानों को ऐसा खाना मिल रहा है कि जेल में कैदियों को भी ढंग का मिल जाता होगा. बीएसएफ जवान तेज बहादुर यादव को सुनिए, जो खुद को 29वीं बटालियन का जवान बता रहे हैं. और जम्‍मू-कश्‍मीर में तैनात हैं. उन्होंने अपने अधिकारियों पर इल्जाम लगाया है कि सूखी-जली हुई रोटी मिलती है. और दाल में हल्दी नामक के सिवा कुछ नहीं होता.

बर्फीली पहाड़‍ियों के बीच खड़े होकर, कंधे पर बंदूक लटकाए और बीएसएफ की वर्दी पहने यादव कहते हैं, ‘सभी देशवासियों को गुड मॉर्निंग, मेरा नमस्कार. जयहिन्द! देशवासियों मैं आपसे एक अनुरोध करना चाहता हूं. मैं बीएसएफ 29 बटालियन से हूं. हम लोग सुबह 6 बजे से शाम को इस बर्फ के अंदर 5 बजे तक कंटिन्यू 11 घंटे ड्यूटी, वो भी खड़े होकर. कितना भी बर्फ हो कितना भी बारिश हो. तूफान हो. ये ही हालातों में हम ड्यूटी कर रहे हैं. फोटो में यहां के नज़ारे अच्छे लग रहे होंगे. लेकिन हमारी क्या सिचुएशन है ये न तो कोई मीडिया दिखाता है. न कोई मिनिस्टर सुनता है. कोई भी सरकार आई हमारी हालत वही बदतर है. मैं आपको इसके बाद तीन वीडियो भेजूंगा. मैं चाहता हूं आप पूरे देश की मीडिया को, नेताओं को दिखाएं. हमारे अधिकारी हमारे साथ कितना अत्याचार करते हैं.’

वीडियो में यादव आगे कहते हैं,’हम किसी सरकार को कोई दोष नहीं देना चाहते. क्योंकि सरकार हर चीज़, हर सामान देती है. लेकिन उच्च अधिकारी साहब बिक्री करके खा जाते .हैं. हमें कुछ नही मिल पाता. ऐसे हालात हैं कई बार तो जवान भूखे पेट सोता है. मैं आपको सुबह का नाश्ता आपको दिखाऊंगा. एक पराठा मिलता है, जिसमें कुछ भी नहीं है न आचार है न सब्जी है. सिर्फ चाय के साथ. दोपहर का खाना मैं आपको दिखाऊंगा. जिसमें दाल के अंदर सिर्फ हल्दी और नमक होगा. इसके सिवाए कुछ नहीं होगा. मैं फिर कह रहा हूं भारत सरकार सबकुछ देती है. भारत सरकार के स्टोर भरे पड़े हैं. कहां जाता है कौन बिक्री करता है इसकी जांच होनी चाहिए. मैं आदरणीय प्रधानमंत्री जी से कहना चाहता हूं, कृपा करके इसकी जांच कराएं.

तेज यादव ने अपनी अपने लिए डर भी दिखाया है. कहा, ‘दोस्तों ये वीडियो डालने के बाद मैं रहूं या न रहूं, क्योंकि अधिकारियों के बहुत बड़े हाथ हैं. वो मेरे साथ कुछ भी कर सकते हैं. कुछ भी हो सकता है, इसलिए इस वीडियो को ज्यादा से ज्यादा फैलाएं, शेयर करें. ताकि जांच हो. और देखें कि किन हालातों से गुज़र रहे हैं. मैं बाकी वीडियो आपको दिखाउंगा. जयहिंद!’

तेज बहादुर यादव ने फेसबुक पर ये वीडियो अपलोड किए हैं. वीडियो को अब तक करीब 17 लाख लोग देख चुके हैं, और एक लाख से ज्‍यादा बार शेयर किया जा चुका है. उनके इस वीडियो को बॉलीवुड एक्टर रणदीप हुड्डा ने भी शेयर किया है. वीडियो में कितनी सच्चाई है ये तो जांच के बाद ही पता चलेगा.

तेज बहादुर यादव ने इस वीडियो के बाद तीन और वीडियो अपलोड किए हैं, जो 29वीं बटालियन के मेस के बताए हैं. जिनमें खाने की क्वालिटी दिखाई गई है.

बीएसएफ़ के प्रवक्ता शुभेंदु भारद्वाज ने बीबीसी को बताया कि ये वीडियो उनके संज्ञान में हैं और जांच की जा रही है.

बीएसएफ़ के ऑफिशियल अकाउंट से ट्वीट किया गया, ‘बीएसएफ़ जवानों की देखभाल को लेकर बहुत संवेदनशील हैं. कुछ मामले अपवाद हो सकते हैं, अगर ऐसा है तो इसकी जांच की जाएगी. उच्च अधिकारी मौक़े पर पहुंचे हैं.’

अब ज़रा नाश्ता देखिए

तेज बहादुर ने नाश्ते का वीडियो अपलोड किया और कहा, देखिए कैसा मिलता है. जला हुआ पराठा. ये जले हुए पराठे और चाय का गिलास. और कुछ भी नहीं.

अब ये दाल देख लो. इस वीडियो में तेज बहादुर कह रहे हैं कि ये दाल है जिसमें नमक और हल्दी है. इसे खाकर 11 घंटे ड्यूटी करनी होती है.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

10 बातें उस फिल्म की जो शाहरुख ख़ान के दिल के सबसे करीब है!

'कभी हां कभी ना' की रिलीज को 23 साल पूरे हो गए हैं.

5 सुबूत, अमेरिका का राष्ट्रवाद हमारे वाले से ज्यादा फ़ास्ट, ज्यादा खतरनाक है

ट्रंप ने आते ही मुस्लिमों से कट्टी, मीडिया को लाइन हाजिर कर लिया है.

गधों की वो बातें जो उस पर नेतागिरी करने वालों को भी नहीं पता होंगी

आपको पता भी है, गधे का क्या भौकाल था, वो वॉर हीरो बन चुका है, उसका पासपोर्ट बनता है और भी बहुत कुछ.

इस खतरनाक आदमी के गाए सुरीले गाने सुने हैं कभी

डैनी डेन्जोंगपा, पर्दे पर जो डराने के लिए मशहूर हैं, वो गाने भी गाते हैं, एक नहीं कई-कई गाए हैं.

स्टीव जॉब्स के बड्डे पर लकड़ी का कंप्यूटर और लैंडलाइन वाला आईफोन

जब इंटरनेट नहीं था तो लोग आईफोन का क्या करते थे.

इंसान के लहू को पियो इज़्न-ए-आम है, अंगूर की शराब का पीना हराम है

इंकलाब के लिए ज़रूरी 'जोश'. अपनी शायरी से लोगों में जोश, जुनूं और ज़ज्बा भर देने वाले इंकलाबी शायर जोश मलीहाबादी की बरसी है आज.

गुलाल के डुकी बना की बातें अगर करंट मारती हैं तो असल के के मेनन को सुनिए

फ़िल्मों में कसे और कड़े डायलॉग बोलने वाला ये ऐक्टर असल जीवन में भी वैसा ही है.

दुनिया भर के शहर फेल हैं हिंदुस्तान के इन गांवों के आगे

दुनिया भर में अनोखे हैं ये सब के सब.

10 मौके जब नेताओं ने जूते, माइक और कुर्सियां चलाकर हमारी छाती चौड़ी की

तमिलनाडु विधानसभा में जो हुआ वो पहली बार नहीं है. और भी मंजर आए हैं ऐसे.

अब सुरक्षा के लिए विधानसभा में स्पीकर हेलमेट पहनकर बैठेंगे

तमिलनाडु में कुर्सियां तोड़कर विधायकों ने बताया उन्हें कुर्सियों का कोई मोह नहीं है.

पोस्टमॉर्टम हाउस

फ़िल्म रिव्यू: रंगून

विशाल भारद्वाज की नई फ़िल्म.

इस फिल्म से बेहतर 'शाइनिंग इंडिया' आपको कहीं और देखने को नहीं मिलेगा

17 मार्च को रिलीज होने जा रही रजत कपूर की फिल्म 'मंत्रा' का ट्रेलर लॉन्च हो गया है.

इस ऐड ने मुझे बताया, मेरे पापा आदर्श पापा नहीं हैं

क्योंकि उन्होंने मेरा 'बेस्ट' नहीं चाहा.

फिल्म रिव्यू : रनिंग शादी से डॉट कॉम हटवाने वालों पे रोना आया

न ये बहुत अच्छी है न बहुत बुरी. न ये पकाती है, न ये बहुत ही क्लास है. न ये बहुत स्लो है, न उबाऊ.

ये नया ऐड देख लिया तो आप एक बार फिर उल्लू बन गए हैं

हीरा है सदा के लिए? या सदा हमें बेवकूफ बनाने के लिए?

मुगले-आजम आज बनती तो Hike पर पिंग करके मर जाता सलीम

जब अनारकली ने इयरफोन निकाल कहा 'एक्सक्यूज मी. आई वॉज चेकिंग माय व्हाट्सएप.'

फ़िल्म रिव्यू - जॉली LLB 2

जनता का हीरो अक्षय कुमार!

'फिल्लौरी' का ट्रेलरः अनुष्का का रोल एेसा है कि हीरोइन्स के करियर खत्म हो जाते हैं

क्या उनके लिए भी ये करियर सुसाइड साबित होगा?

बस पांडू हवलदार नहीं थे भगवान दादा: 34 बातें जो आपको ये बता देगी!

हिंदी सिनेमा का डीएनए तैयार करने वाले शुरुआती दिग्गजों में से एक थे भगवान अभाजी पलव. 1 अगस्त 1913 को जन्मे भगवान दादा 4 फरवरी 2002 में गुजर गए. आज उनकी बरसी है. उन्हें याद कर रहे हैं.

‘सिर्फ मदरसों में ही पढ़ कर अल्लाह से मुहब्बत की जा सकती है?'

मुस्लिम समाज की सबसे बुनियादी समस्या को छूती फिल्म 'अलिफ़' के बारे में पढ़ें.