Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

इस BSF जवान को जली रोटी खाकर ड्यूटी देनी पड़ रही है: वायरल वीडियो

कोई भी बात हई सरकार ने आपके सामने सोल्जर को रख दिया. सर्जिकल स्ट्राइक के बाद तो हालत ये कि आपने ज़रा भी चूं चा किया तो आपको देशद्रोही के तमगे से नवाजे जाने की कोशिश की गई. सोल्जर सोल्जर का ऐसा गर्दा काट दिया गया कि सरकार के किसी काम पर कोई सवाल न किया जा सके. लोगों के दिमाग में ये फिट कर देना ही था कि नोटबंदी हुई. कतारें लगीं. लोग मरे तो किसी ने सवाल करना चाहा तो आवाजें उठा दी गईं कि आर्मी के जवानों के बारे में सोचो. तुम देश के लिए बैंक की कतार में खड़े नहीं हो सकते. बिल्कुल सोचना चाहिए, बॉर्डर पर तैनात जवानों के लिए. लेकिन जो सरकार खुद को जवानों की हितैषी होने का बखान कर रही है उसी सरकार की मौजूदगी में जवानों को ऐसा खाना मिल रहा है कि जेल में कैदियों को भी ढंग का मिल जाता होगा. बीएसएफ जवान तेज बहादुर यादव को सुनिए, जो खुद को 29वीं बटालियन का जवान बता रहे हैं. और जम्‍मू-कश्‍मीर में तैनात हैं. उन्होंने अपने अधिकारियों पर इल्जाम लगाया है कि सूखी-जली हुई रोटी मिलती है. और दाल में हल्दी नामक के सिवा कुछ नहीं होता.

बर्फीली पहाड़‍ियों के बीच खड़े होकर, कंधे पर बंदूक लटकाए और बीएसएफ की वर्दी पहने यादव कहते हैं, ‘सभी देशवासियों को गुड मॉर्निंग, मेरा नमस्कार. जयहिन्द! देशवासियों मैं आपसे एक अनुरोध करना चाहता हूं. मैं बीएसएफ 29 बटालियन से हूं. हम लोग सुबह 6 बजे से शाम को इस बर्फ के अंदर 5 बजे तक कंटिन्यू 11 घंटे ड्यूटी, वो भी खड़े होकर. कितना भी बर्फ हो कितना भी बारिश हो. तूफान हो. ये ही हालातों में हम ड्यूटी कर रहे हैं. फोटो में यहां के नज़ारे अच्छे लग रहे होंगे. लेकिन हमारी क्या सिचुएशन है ये न तो कोई मीडिया दिखाता है. न कोई मिनिस्टर सुनता है. कोई भी सरकार आई हमारी हालत वही बदतर है. मैं आपको इसके बाद तीन वीडियो भेजूंगा. मैं चाहता हूं आप पूरे देश की मीडिया को, नेताओं को दिखाएं. हमारे अधिकारी हमारे साथ कितना अत्याचार करते हैं.’

वीडियो में यादव आगे कहते हैं,’हम किसी सरकार को कोई दोष नहीं देना चाहते. क्योंकि सरकार हर चीज़, हर सामान देती है. लेकिन उच्च अधिकारी साहब बिक्री करके खा जाते .हैं. हमें कुछ नही मिल पाता. ऐसे हालात हैं कई बार तो जवान भूखे पेट सोता है. मैं आपको सुबह का नाश्ता आपको दिखाऊंगा. एक पराठा मिलता है, जिसमें कुछ भी नहीं है न आचार है न सब्जी है. सिर्फ चाय के साथ. दोपहर का खाना मैं आपको दिखाऊंगा. जिसमें दाल के अंदर सिर्फ हल्दी और नमक होगा. इसके सिवाए कुछ नहीं होगा. मैं फिर कह रहा हूं भारत सरकार सबकुछ देती है. भारत सरकार के स्टोर भरे पड़े हैं. कहां जाता है कौन बिक्री करता है इसकी जांच होनी चाहिए. मैं आदरणीय प्रधानमंत्री जी से कहना चाहता हूं, कृपा करके इसकी जांच कराएं.

तेज यादव ने अपनी अपने लिए डर भी दिखाया है. कहा, ‘दोस्तों ये वीडियो डालने के बाद मैं रहूं या न रहूं, क्योंकि अधिकारियों के बहुत बड़े हाथ हैं. वो मेरे साथ कुछ भी कर सकते हैं. कुछ भी हो सकता है, इसलिए इस वीडियो को ज्यादा से ज्यादा फैलाएं, शेयर करें. ताकि जांच हो. और देखें कि किन हालातों से गुज़र रहे हैं. मैं बाकी वीडियो आपको दिखाउंगा. जयहिंद!’

तेज बहादुर यादव ने फेसबुक पर ये वीडियो अपलोड किए हैं. वीडियो को अब तक करीब 17 लाख लोग देख चुके हैं, और एक लाख से ज्‍यादा बार शेयर किया जा चुका है. उनके इस वीडियो को बॉलीवुड एक्टर रणदीप हुड्डा ने भी शेयर किया है. वीडियो में कितनी सच्चाई है ये तो जांच के बाद ही पता चलेगा.

तेज बहादुर यादव ने इस वीडियो के बाद तीन और वीडियो अपलोड किए हैं, जो 29वीं बटालियन के मेस के बताए हैं. जिनमें खाने की क्वालिटी दिखाई गई है.

बीएसएफ़ के प्रवक्ता शुभेंदु भारद्वाज ने बीबीसी को बताया कि ये वीडियो उनके संज्ञान में हैं और जांच की जा रही है.

बीएसएफ़ के ऑफिशियल अकाउंट से ट्वीट किया गया, ‘बीएसएफ़ जवानों की देखभाल को लेकर बहुत संवेदनशील हैं. कुछ मामले अपवाद हो सकते हैं, अगर ऐसा है तो इसकी जांच की जाएगी. उच्च अधिकारी मौक़े पर पहुंचे हैं.’

अब ज़रा नाश्ता देखिए

तेज बहादुर ने नाश्ते का वीडियो अपलोड किया और कहा, देखिए कैसा मिलता है. जला हुआ पराठा. ये जले हुए पराठे और चाय का गिलास. और कुछ भी नहीं.

अब ये दाल देख लो. इस वीडियो में तेज बहादुर कह रहे हैं कि ये दाल है जिसमें नमक और हल्दी है. इसे खाकर 11 घंटे ड्यूटी करनी होती है.

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

BHU के इन 10 विवादों को जानेंगे तो खुदहै कहेंगे- वीसी साहब, तुमसे न हो पाएगा

वीसी गिरीश चंद्र त्रिपाठी नवंबर 2014 से वाइस चांसलर हैं.

कामयाब एक्टर बनने के बाद भी अखबार बेचते थे प्रेम चोपड़ा

बंबई के गेस्ट हाउसों में एक कमरे में चार-पांच लोगों के साथ रहते थे.

अजय देवगन की इस भुतही कॉमेडी फिल्म का ट्रेलर आ गया है

इस फिल्म में उनके साथ परिणीती चोपड़ा और तब्बू भी नजर आएंगी

ये पांच बातें बताती हैं कि राहुल गांधी अपनी गलतियों से सीख रहे हैं

अमेरिकी दौरे पर कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कई मुद्दों पर बात कर लोगों को लुभाया.

रीडर्स की चीख़ें निकाल देने वाले स्टीफन किंग की लिखी ये 6 फिल्में मस्ट वॉच हैं!

इनके नॉवेल पर आधारित 'इट' इस महीने रिलीज हुई और सबसे ज्यादा कमाई करने वाली हॉरर फिल्म बन गई है.

लकी अली के वो पांच गाने, जिन्हें अक्खा इंडिया गुनगुनाता है

लकी अली ने इंडियन पॉप म्यूजिक की नींव में ईंटे रखी हैं.

48 फिल्म स्टार्स जो अपना असली नाम नहीं बदलते तो बॉलीवुड में नहीं चलते

इनमें साउथ के सितारे भी शामिल हैं. जानें क्या हैं सबके असली नाम. कुछ नाम कल्पना से परे हैं.

हार्दिक पंड्या जब छक्के मारना शुरू करता है, तो मारता ही चला जाता है

एक ही ओवर में तीन-तीन, चार-चार सिक्सर ठोक देता है.

शबाना आज़मी: जिससे नाराज़ नहीं ज़िंदगी, हैरान है!

18 सितंबर यानी शबाना आज़मी का बर्थडे. जानिए क्यों हैं वो आज भी बेमिसाल...

पोस्टमॉर्टम हाउस

फ़िल्म रिव्यू : भूमि

संजय दत्त की रिहाई के बाद आई उनकी पहली फ़िल्म.

खुशखबरी : अगले ऑस्कर के लिए इंडिया से न्यूटन भेजी जाएगी

जिसमें एक आर्मी का अफ़सर कहता है कि ये वोटिंग मशीन एक खिलौने जैसी है.

वो 2 वजहें कि संजय भंसाली की 'पद्मावती' को अब विरोधी ही हिट करवाएंगे

जो बहाना लेकर भंसाली को पीटा गया, फिल्म का सेट तोड़ा गया वो झूठा साबित हो जाएगा.

कमज़ोर सी 'लखनऊ सेंट्रल' क्यों महान फिल्मों की लाइन में खड़ी होती है!

फिल्म रिव्यूः फरहान अख़्तर की - लखनऊ सेंट्रल.

फ़िल्म रिव्यू : सिमरन

दो नेशनल अवॉर्ड विनर्स की एक फ़िल्म.

देवाशीष मखीजा की 'अज्जी' का पहला ट्रेलरः ये फिल्म हिला देगी

इसमें कुछ विजुअल ऐसे हैं जो किसी इंडियन फिल्म में पहले नहीं दिखे.

इस प्लेयर ने KKR के लिए जैसा खेला है वैसा इंडिया के लिए खेले तो जगह पक्की हो जाये

टीम में फिनिशर की कमी है. ये पूरा कर सकता है. हैप्पी बड्डे बोल दीजिए.

फ़िल्म रिव्यू : समीर

मुसलमानों की एक बड़ी मुसीबत को खुले में लाती फ़िल्म.

फ़िल्म रिव्यू : डैडी

मुंबई के गैंगस्टर अरुण गवली के जीवन पर बनी फ़िल्म.