Submit your post

Subscribe

Follow Us

हर किसी को ऐसी नफरत करनी चाहिए, जैसी ये आदमी केजरीवाल से करता है

नफरत अच्छी चीज नहीं होती. छुटपने से अब तक यही पढ़ाया-सिखाया गया है न. बाप ये सब चीजें समझाने में खर्च नहीं होते थे. उनके पास तो 80% नंबर जैसी वैश्विक समस्याएं थीं, जो बलप्रयोग के बावजूद स्थिर रहती थीं. लेकिन डस्सू लोगों के पास मैटरों की कमी नहीं होती है. पर अब ये यूनिवर्सल ट्रुथ बदल गया है.

नफरत बहुत अच्छी चीज होती है. हर किसी को किसी न किसी से जरूर करनी चाहिए. लेकिन सुबेदार चौहान की तरह करनी चाहिए.

सुबेदार चौहान. इन्हें नहीं जानते? अरे बढ़िया आदमी हैं. ‘मुकद्दर का सिकंदर’ में अमिताभ बच्चन जितनी शिद्दत से कहते हैं, ‘तू मसीहा मोहब्बत के मारों का है,’ उसी आवाज में महसूस कीजिए. ‘सुबेदार चौहान मसीहा नफरत के मारों के हैं.’ वो अरविंद केजरीवाल से नफरत करते हैं. केजरीवाल के दुख में सुखी होते हैं. उनके सुख में दुखी भी होते होंगे.

केजरीवाल की पार्टी पंजाब में हार गई. वो और उनकी पार्टी एक ही हैं. बीच में कोई भी थिन चीज नहीं है. हमारे सुबेदार चौहान बहुत खुश हुए. इतने खुश कि भंडारा दे रहे हैं. 19 तारीख को. संडे है न उस दिन. लोगों की सहूलियत के हिसाब से दिन चुना है उन्होंने. समय रखा है दोपहर 1 बजे का. वो कोई दिखावा नहीं करना चाहते. दिल से नफरत करते हैं, तो दिल से भंडारा दे रहे हैं. रखने को शाम 4 बजे का भी टाइम रख सकते थे. भले मानुष तब तक डकारें निकाल चुके होते हैं. अब कोई भंडारे के चक्कर में गोधूलि बेला तक भूखा तो बैठा नहीं रहेगा. लेकिन वो ऐन खाने के वक्त खिलाना शुरू करेंगे.

एक बार फिर उनका पोस्टर देखिए. धर के शेयर हो रहा है वॉट्सऐप और सोशल मीडिया पर.

bhandara

सुबेदार जी ने कितने इंकलाबी फॉन्ट में लिखवाया है ‘केजरीवाल की पंजाब में हार की खुशी में विशाल भंडारा’. ऐसा पुनीत कार्य मंदिर में ही होना चाहिए. सुबेदार ने इसका भी ध्यान रखा.

उनके सिर पर टोपी फब रही है. उनके चेहरे की चमक दांतों के प्रकाश को फीका कर रही है. आई रिपीट, हर किसी को किसी न किसी से सुबेदार चौहान की तरह नफरत करनी चाहिए. उनके नफरत करने की वजह से 19 तारीख को न जाने कितने लोगों को खाना मिलेगा. भंडारे में वो रिक्शेवाला भी खाएगा, जिसका आधा दिन बीड़ी-खैनी पर निकलता है. और वो भंडारा-प्रेमी, जो तीनों बार नए पत्तल में ही खाते हैं. शर्बत की व्यवस्था हुई, तो हो सकता है आदमी गाड़ी रोककर भी चला आए.

सुबेदार जी, आपकी ये नफरत बनी रहे. बस भंडारे के वादे से मुकरिएगा मत. हर हर महादेव.


ये भी पढ़ें:

रूह का कांग्रेसी होना शायद सिद्धू को डिप्टी सीएम बनाने के लिए नाकाफी था

यूपी में ये दो पंजाबी बन गए हैं मुख्यमंत्री के तगड़े दावेदार

पंजाब की जनता ने इन दिग्गज नेताओं के खोल दिए धुर्रे

वो 5 कारण जो केजरीवाल को पंजाब में ले डूबे और कैप्टन को तैरा दिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

मैंने बांटी हैं जहां में इस क़दर खुशियां, मेरे अप्रेजल का जो हाल सुनेगा वो रो देगा

अप्रेजल वाली चिट्ठियां आने लगी हैं, हमें कुछ शेर आए, रट डालिए न जाने कब जरूरत पड़ जाए.

इन भोजपुरी फिल्मों के बस नाम पढ़कर पेट में भगदड़ मच जाती है

यहां 'कट्टा तनल दुपट्टा पर, गइल भंइसिया पानी में' और 'तोहार चुम्मां बिटामिन A ह' फिल्मों के नाम होते हैं.

अपने फेवरेट गानों को स्टूडियो में रिकॉर्ड होते देखो, बमबम हो जाओगे

कोक स्टूडियो से बहुत पहले की बात है. कुमार शानू, अनुराधा पौडवाल सब हैं इस लिस्ट में.

वो एक्टर जिसने हवलदारों को 'पांडू' नाम दिया

हमारी फिल्मों में द्विअर्थी जोक्स के जीवाणु उन्होंने ही संक्रमित किए. दादा कोंडके की बरसी पर.

श्रेया घोषाल के जन्मदिन पर सुनिए नशा भर देने वाले गाने

पहले ही गाने में नैशनल अवॉर्ड जीतने वाली सिंगर का बड्डे है.

चुनाव के बाद और होली से पहले अखिलेश यादव के लिए 11 शेर

अब तो होली का सुरूर है.

मुक्ति भवन : एक होटल जहां लोग मरने के लिए जाते हैं

भारत में इसी नाम की फिल्म 7 अप्रैल को रिलीज होने जा रही है.

वो 8 वीडियो, जिनमें अनुपम खेर की एक्टिंग देख हमारा मिजाज झनझना उठता है

आज उनका जन्मदिन है, वो 62 साल के हो गए.

इस आदमी के बिना हिंदुस्तान में न मुहब्बत पूरी हो सकती है न शादी

हिंदी सिनेमा के बेहद अंडररेटेड संगीतकार.

सोनाक्षी के पहले भी हमने देखी हैं ऐसी-ऐसी पत्रकार

बॉलीवुड वाली फिल्मों में ये कम ही होता है कि हीरोइन ऐसा रोल करे, पर जब करती है तो याद रह जाता है.

पोस्टमॉर्टम हाउस

फ़िल्म रिव्यू : ट्रैप्ड

अपने ही कमरे में 25 दिन के लिए कैद लड़के की कहानी.

होली के बाद ऐसे रंगे रहते हैं, हमारे शहर के अखबार

देश जब जेएनयू मुद्दे पर गर्म होता है, तो वहां खबर छपती है, 'जमीनी विवाद में भतीजे ने चाचा का सिर फोड़ा.

आज़ादी पर एक नई फिल्मः जिस-जिस को क्रांति करनी है, देख लो

चे गुवेरा की टीशर्ट पहनकर मैक-डी जाने वालों के लिए.

मूवी रिव्यू: लोगन एक्स-मेन सीरीज की सबसे महान फिल्म है

ये फिल्म अंतरी बुखार की तरह आपको कंपकंपाएगी, हफ़्तों तक पीछा नहीं छोड़ेगी.

35 साल बाद सुभाष नागरे ने पिस्तौल उठाई है, रामू बैक इन फॉर्म

सरकार-3 का नया ट्रेलर आ गया है.

बजरंगबली घुस गए मस्ज़िद में, झुका दिया सर

वायरल वीडियो.

फ़िल्म रिव्यू: रंगून

विशाल भारद्वाज की नई फ़िल्म.

इस फिल्म से बेहतर 'शाइनिंग इंडिया' आपको कहीं और देखने को नहीं मिलेगा

17 मार्च को रिलीज होने जा रही रजत कपूर की फिल्म 'मंत्रा' का ट्रेलर लॉन्च हो गया है.

इस ऐड ने मुझे बताया, मेरे पापा आदर्श पापा नहीं हैं

क्योंकि उन्होंने मेरा 'बेस्ट' नहीं चाहा.

फिल्म रिव्यू : रनिंग शादी से डॉट कॉम हटवाने वालों पे रोना आया

न ये बहुत अच्छी है न बहुत बुरी. न ये पकाती है, न ये बहुत ही क्लास है. न ये बहुत स्लो है, न उबाऊ.