Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

हर किसी को ऐसी नफरत करनी चाहिए, जैसी ये आदमी केजरीवाल से करता है

नफरत अच्छी चीज नहीं होती. छुटपने से अब तक यही पढ़ाया-सिखाया गया है न. बाप ये सब चीजें समझाने में खर्च नहीं होते थे. उनके पास तो 80% नंबर जैसी वैश्विक समस्याएं थीं, जो बलप्रयोग के बावजूद स्थिर रहती थीं. लेकिन डस्सू लोगों के पास मैटरों की कमी नहीं होती है. पर अब ये यूनिवर्सल ट्रुथ बदल गया है.

नफरत बहुत अच्छी चीज होती है. हर किसी को किसी न किसी से जरूर करनी चाहिए. लेकिन सुबेदार चौहान की तरह करनी चाहिए.

सुबेदार चौहान. इन्हें नहीं जानते? अरे बढ़िया आदमी हैं. ‘मुकद्दर का सिकंदर’ में अमिताभ बच्चन जितनी शिद्दत से कहते हैं, ‘तू मसीहा मोहब्बत के मारों का है,’ उसी आवाज में महसूस कीजिए. ‘सुबेदार चौहान मसीहा नफरत के मारों के हैं.’ वो अरविंद केजरीवाल से नफरत करते हैं. केजरीवाल के दुख में सुखी होते हैं. उनके सुख में दुखी भी होते होंगे.

केजरीवाल की पार्टी पंजाब में हार गई. वो और उनकी पार्टी एक ही हैं. बीच में कोई भी थिन चीज नहीं है. हमारे सुबेदार चौहान बहुत खुश हुए. इतने खुश कि भंडारा दे रहे हैं. 19 तारीख को. संडे है न उस दिन. लोगों की सहूलियत के हिसाब से दिन चुना है उन्होंने. समय रखा है दोपहर 1 बजे का. वो कोई दिखावा नहीं करना चाहते. दिल से नफरत करते हैं, तो दिल से भंडारा दे रहे हैं. रखने को शाम 4 बजे का भी टाइम रख सकते थे. भले मानुष तब तक डकारें निकाल चुके होते हैं. अब कोई भंडारे के चक्कर में गोधूलि बेला तक भूखा तो बैठा नहीं रहेगा. लेकिन वो ऐन खाने के वक्त खिलाना शुरू करेंगे.

एक बार फिर उनका पोस्टर देखिए. धर के शेयर हो रहा है वॉट्सऐप और सोशल मीडिया पर.

bhandara

सुबेदार जी ने कितने इंकलाबी फॉन्ट में लिखवाया है ‘केजरीवाल की पंजाब में हार की खुशी में विशाल भंडारा’. ऐसा पुनीत कार्य मंदिर में ही होना चाहिए. सुबेदार ने इसका भी ध्यान रखा.

उनके सिर पर टोपी फब रही है. उनके चेहरे की चमक दांतों के प्रकाश को फीका कर रही है. आई रिपीट, हर किसी को किसी न किसी से सुबेदार चौहान की तरह नफरत करनी चाहिए. उनके नफरत करने की वजह से 19 तारीख को न जाने कितने लोगों को खाना मिलेगा. भंडारे में वो रिक्शेवाला भी खाएगा, जिसका आधा दिन बीड़ी-खैनी पर निकलता है. और वो भंडारा-प्रेमी, जो तीनों बार नए पत्तल में ही खाते हैं. शर्बत की व्यवस्था हुई, तो हो सकता है आदमी गाड़ी रोककर भी चला आए.

सुबेदार जी, आपकी ये नफरत बनी रहे. बस भंडारे के वादे से मुकरिएगा मत. हर हर महादेव.


ये भी पढ़ें:

रूह का कांग्रेसी होना शायद सिद्धू को डिप्टी सीएम बनाने के लिए नाकाफी था

यूपी में ये दो पंजाबी बन गए हैं मुख्यमंत्री के तगड़े दावेदार

पंजाब की जनता ने इन दिग्गज नेताओं के खोल दिए धुर्रे

वो 5 कारण जो केजरीवाल को पंजाब में ले डूबे और कैप्टन को तैरा दिया

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

बोर्ड परीक्षाओं के रिजल्ट आने के बाद सबसे पहले करें ये दस काम

आत्महत्या जैसे ख्याल मन में आने ही न दीजिए. रिश्तेदार जीते-जी आपकी जिंदगी नरक बनाने आ रहे हैं.

3 साल गए, अगले 2 सालों में मोदी सरकार के सामने ये हैं 5 बड़ी चुनौतियां

इनसे पार न पाई सरकार, तो मुश्किल होगी.

मिस्टर इंडिया के डायरेक्टर की बेटी ने पूछा, आपने उस बच्ची को क्यों मरने दिया पापा?

मिस्टर इंडिया को रिलीज हुए 30 साल हो गए हैं. थोड़ी यादें ताजा कर लो.

अपना स्मार्टफोन तोड़ दो अगर सोशल मीडिया के इन लीजेंड्स को नहीं जानते

कान से खून निकल आए, सुसाइड आत्महत्या कर ले, किडनी में हार्टअटैक आ जाए ऐसा टैलेंट है इनके पास.

'सूर्यवंशम' के हीरा ठाकुर, जिन्होंने अपने स्वैग से साइंस को तबाह कर दिया

जो आधे किलोमीटर दूर से बच्चा सुला देते थे, उनको नमन.

"ज़िंदगी एक महाभयंकर चीज़ है, इसे फांसी दे देनी चाहिए"

इनके काम को अश्लील बताया गया, संस्कृति के मुंह पर कालिख मलने वाला बोला गया.

इमाम बरकती को मारने वाले उपदेश राणा की वो बातें जो खुद उन्हें नहीं पता होंगी

उपदेश राणा ने मस्जिद में घुसकर इमाम बरकती को थप्पड़ मार दिया.

क्या आपको पता है ये 6 क्रिकेटर्स दिव्यांग हैं?

क्रिकेट की वो 6 मिसालें जहां हाथ-पैर सलामत न रहने पर भी मैदान नहीं छोड़ा.

नाम से नहीं किरदार से जाने जाते हैं ये कलाकार

कौन 'मुहम्मद जीशान' कहने वालों को 'रांझना' का मुरारी याद रहता है.

पोस्टमॉर्टम हाउस

पाइरेट्स ऑफ द कैरेबियन 5 फिल्म रिव्यू - किस्सा कप्तान जैक स्पैरो और पानी वाले मुर्दे का

14 साल पुरानी सीरीज की पांचवी किस्त आई है, जानिए कैसी है फिल्म.

सचिन अ बिलियन ड्रीम्स फ़िल्म रिव्यू

देश की सबसे बड़ी हस्ती पर बनी फ़िल्म.

हाफ गर्लफ्रेंड फिल्म रिव्यू : अच्छी से थोड़ी ज्यादा, बुरी से थोड़ी कम

फिल्म तो आम सी है, लेकिन चेतन भगत के नाम से बिदकने वाले असल समस्या हैं.

फ़िल्म रिव्यू: हिंदी मीडियम

इरफ़ान, सबा कामर और दीपक डोबरियाल से लैस फ़िल्म.

कौन है ये लड़की जिसने यूट्यूब पर तबाही मचा रखी है?

'ढिंचाक पूजा' का गाना सेल्फी मैंने ले ली आज आपने देखा भले हो, कुछ बातें आपकी पहुंच से बाहर की हैं.

पुतिन ने जिसकी छाती पर ऊंचा तमगा बांधा वो अकेला इंडियन डायरेक्टर

भारत के ये लैजेंड्री फिल्म निर्देशक 94 बरस के हो गए हैं. बर्थडे पर उनके बारे में जाने सबकुछ.

फिल्म रिव्यू मेरी प्यारी बिंदु: इस फिल्म में बहुत नॉस्टेल्जिया है

बड़े दिनों बाद परिणीति चोपड़ा और आयुष्मान की कोई फिल्म आई है. जानिए कैसी है ये फिल्म.

सरकार 3 फ़िल्म रिव्यू

अमिताभ बच्चन, मनोज बाजपई, जैकी श्रॉफ, अमित साध और यामी गौतम.

फिल्म रिव्यू गार्डियंस ऑफ द गैलेक्सी 2 : पहली वाली जितना मजा नहीं है

जेम्स गन की की डायरेक्ट की हुई और मार्वल स्टूडियो की इस फिल्म का सबको इंतज़ार था.