Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

भारत में इन 10 अजीब वजहों से अक्सर टूट जाती हैं शादियां

दो खबरे हैं. पहली लखनऊ से 70 किलोमीटर दूर कुरमापुर गांव की. शिव कुमार की शादी होने वाली थी. बारात ले जाने में कई जनम खर्च कर दिए. बारात लेकर पहुंचे तो वहां घरातियों का खाना शुरू हो गया था. वहां दूल्हे के रिश्तेदार ने दो रसगुल्ले मांगे नाश्ते में. उधर से एक एक देने का ऑर्डर था. मामला बिगड़ गया. लड़की वाले उखड़ गए. लड़के वालों ने दुल्हन के पापा को गरिया दिया. लड़की ने शादी के लिए मना कर दिया. दूल्हा बाबू अपना गधे सा मुंह लेकर लौट गए.

दूसरी खबर है बेगूसराय, बिहार के साठा चक्का गांव की. वहां दूल्हा आया, बारात आई, बस डीजे नहीं आया. फिर शादी में मार मच गई. खूनखच्चर हो गया. 19 तारीख की शादी तय थी. दूल्हा बबलू जब बारात लेकर पहुंचा तो वहां लड़की वालों ने बमचक मचा दी. काहे कि वो डीजे नहीं लाया था. पहले बातचीत फिर गाली फिर हाथापाई फिर कुटम्मस. लड़के के रिश्तेदारों को दबोच के कोठरी में बंद कर दिया. बाराती भाग गए. अचानक पता नहीं कहां से साउंड सिस्टम वाला लड़का आ टपका. शादी के लिए लार चुआ दिहिस और लड़की के मम्मी पापा ने उसे दूल्हा बना दिया. दूल्हा बबलू की ऐसी तैसी हो गई. शादीशुदा जीवन शुरू होने से पहले ही निपट गया.

ये दो खबरें हैं जो जान गए हो. ऐसी न जाने कितनी खबरें हैं जो गांव से लीक नहीं हो पातीं. उनको कांड कहते हैं. लास्ट में जाकर शादी टूट जाती है. हम उन सामाजिक, राजनैतिक, आर्थिक, वैवाहिक, आध्यात्मिक, प्राकृतिक कारणों की विवेचना करेंगे जिनकी वजह से अपने देश में शादी जैसा पवित्र बंधन बंधने से पहले ही तड़ाक से टूट जाता है.

#1 सेट वाली कप न होना

am

बारात आने और शादी होने से पहले जरूरी है शादी तय होना. सबसे मुश्किल टास्क तो यही है. नासा के लिए एलियन खोजना आसान है, लेकिन शादी लायक ‘मटीरियल’ लड़की लड़का खोजना महा जटिल. अक्सर लड़की वाले लड़का देखने जाते हैं तो इसलिए घोड़े जैसा मुंह लटकाए लौट आते हैं कि वहां उन्हें दो रंग के कप में चाय मिल गई थी. अर्थात कप का सेट नहीं था. या लड़के की मां ने पीले रंग की चप्पल पहन रखी थीं जिसकी डिजाइन लड़की की मां को पसंद नहीं आई. इससे उनके घर का घटिया कल्चर पता चलता था तो शादी के लिए मना कर दिया.

#2 बकरियों की गंध

goa

कई बार घर के बाहर बंधी बकरियां भी शादी तोड़ने के काम आती हैं. लड़की वाले लड़का देखकर आते हैं और अपने पड़ोसियों को बताते हैं “बकरियन का मूत इतना गंधा रहा था, हमारी बिटिया तो पागल हुइ जाती वहां.”

#3 सास का बक्सा

pint

अब आओ शादी पर. तिलक होता है न. उसमें सब कुछ चढ़ा देते हैं लड़की वाले. सारा फल, कैश वगैरह और पैशन प्रो भी. लेकिन वो पीतल वाला बड़ा ‘थारा’ नहीं आया. शर्मनाक है ये. चलो ये भी मिल गया तो सास का बक्सा नहीं मिला. फिर तो शादी न हो पाएगी.

#4 रूह अफजा वाला शर्बत न मिलना

rooh

बारात शादी की सबसे सत्यानासी चीज होती है. इसमें आया डेढ़ सौ साल का बुड्ढा भी खुद को 16 साल का छौना समझता है. इनके स्वागत में कमी नहीं रहनी चाहिए नहीं तो ये शादी भंड कर देते हैं. इनको तीन तरह की मिठाई और दो तरह की नमकीन डिश परोस दो. लेकिन ये सादे शर्बत पर भड़क सकते हैं. एक ड्रम शर्बत में दो ढक्कन रूह अफजा इनके गुस्से को फना करने के लिए काफी होता है.

#5 कम आवाज वाले गोले

आतिशबाजी कम हो तो दिक्कत. जरूरत से ज्यादा गोले दग जाएं तो झाम. कई बार बारात को बैरंग वापस इसलिए भी आना पड़ जाता है कि गोलों में सही डेसिमल की आवाज नहीं थी. अगर उनकी गूंज आस पास दस किलोमीटर में नहीं सुनाई देती तो लड़की वाले इस पर भी रिश्ता तोड़ सकते हैं.

#6 मान्य का सम्मान

boman

लड़के वाले लड़की वालों के मान्य होते हैं. और लड़के वालों के मान्य, लड़की वालों के मान्य के मान्य होते हैं. ये गणित समझनी थोड़ी मुश्किल है. बस ये समझो कि ये लड़के के फूफा-जीजा वगैरह होते हैं. अगर ये बारात के दौरान लड़की वालों से सरग की तरोई का हलवा या चिरैया के दूध की काजू कतली मांगते हैं तो लड़की वालों का फर्ज होता है कि वह उसे लाकर दे. नहीं तो अंजाम में अक्सर शादी टूट जाया करती है.

#7 खाने में कुर्सी मेज वाला सिस्टम

ThreeIdiots

खाने का हिसाब बारात का नहीं, बारात में शामिल हर आदमी का अलग होता है. किसी को पूड़ियों के साथ तीन तरह की सब्जी चाहिए. किसी का एक से काम चल जाता है. कोई बिना रायते के खाना गले से नीचे नहीं उतारता. कोई टाट पट्टी पर पालथी मारकर खाता है तब तृप्ति मिलती है. किसी को बफ़र सिस्टम पसंद होता है. शादी रहेगी कि टूटेगी, ये बारात में शामिल ज्ञानियों के कान भरने पर निर्भर होता है. अगर वो ज्ञानी लड़के वालों को ये समझाने में कामयाब हो जाएं कि जिस सिस्टम में खाना खिलाया गया वो निहायत वाहियात था, तो शादी टूट जाएगी.

#8 दूल्हे के नोटों की माला

notes

ये बहुत ज्यादा जरूरी है. दूल्हे से ज्यादा जरूरी उसके गले में नोटों की माला. और आजकल तो ये खतरा भी पैदा हो गया है कि दूल्हा 100-100 की नोटों की जगह 10-20 के नोटों की माला पहनकर आए तो शादी टूट न जाए.

#9 जूता चुराई में करप्शन

joote-de-do-paise-lelo

ये धर्मसंकट वाली प्रथा है. दुल्हन की बहने और सहेलियां केंद्र सरकार के वार्षिक बजट से ज्यादा रुपए मांग बैठती हैं और दूल्हे राजा की बधिया बैठ जाती है. वो दिन दूर नहीं है जब जूता वापस करने की रकम में मांग के अनुरूप आपूर्ति नहीं हो पाएगी और शादी टूट जाएगी.

#10 विदाई में कंजूसी

ये शादी का आखिरी लेकिन जरूरी कांड होता है. इसमें हर बाराती सूखा प्रभावित किसान की तरह लड़की वालों की तरफ देख रहा होता है. कि अब ये बादल बरसेगा और हमारा घर खुशियों से भर जाएगा. अगर उस रस्म में लड़की वालों ने एक भी खास बाराती को छोड़ दिया तो हो चुकी शादी भी टूट सकती है.


ये भी पढ़ें:

पांच रुपए में ‘फट्टा टॉकीज’ में फिलिम देखने वालों को 16D न समझाओ, प्लीज

सोनू निगम से कहीं ज्यादा बड़ा रिस्क उनके पापा ने लिया था!

आसाराम के वो कारनामे जिनके लिए लोग उनको ‘मिस’ करते हैं

अक्षय कुमार की फिल्म न देखी तब भी हो जाएगा देशद्रोह का केस!

 

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

क्या 'पहरेदार पिया की' चोरी का माल है?

'सोनी टीवी' पर प्रसारित हो रहे विवादित शो का पूरा सच.

कौन हैं किरण यादव, जिनके फेसबुक पर 10 लाख फॉलोअर्स हैं?

इस अकाउंट की 3 बातें ख़ास तौर से नोटिस में आती हैं.

भारतीय टीवी ने ये सीरियल बनाकर घिनापे की हद पार कर दी है

पति 10 साल का हो और पत्नी लगभग मां की उम्र की, तो रिश्ता 'पवित्र' कैसे होगा?

राज कपूर का नाती फिल्मों में आ रहा है लेकिन लोग पहले ही उससे चिढ़े हुए हैं

कभी किसी नए एक्टर के साथ ऐसा नहीं हुआ है. लेकिन रणबीर कपूर के छोटे भाई के साथ हो रहा है.

फ़िल्म रिव्यू : जग्गा जासूस

अनुराग बासु 5 साल के बाद अपनी फ़िल्म लेकर आए हैं.

मां होना असल में क्या होता है, श्रीदेवी हमें बताती हैं

वो ऐसी बेटी के लिए लड़ती हैं, जो उन्हें मां मानती भी नहीं.

फ़िल्म रिव्यू : गेस्ट इन लंडन

कपिल शर्मा की जूठन से बने जोक्स के दम पर बनी फ़िल्म.

फ़िल्म रिव्यू : मॉम

श्रीदेवी की कम-बैक फ़िल्म.

गब्बर को ठाकुर बलदेव सिंह ने नहीं, कैंसर ने मारा था!

अहमद को रहीम चाचा ने खुद मार दिया था.

श्रीदेवी की फिल्म 'मॉम' की वो बातें जो इसकी कहानी का खुलासा करती हैं

क्या आप जानते हैं फिल्म में नवाजुद्दीन ने अपने कैरेक्टर के बोलने का ढंग किस जाने-माने हिंदी फिल्म एक्टर के एक्सेंट से लिया है?

वायरल केंद्र

मुल्लाशाही से छुटकारा मिलते ही जला डाला बुर्का, नोच डाली दाढ़ी

ये वीडियो देखिए, इन तस्वीरों पर नज़र मारिए, आपको आज़ाद होने का मतलब समझ आ जाएगा.

OLX पर सामान बेचते हुए ध्यान रखना, इस महिला जैसी हालत न हो जाए

OLX से जुड़ा एक बड़ा स्कैम सामने आया.

क्या है 'जियो अपग्रेडर' ऐप, जिससे मार्च 2018 तक फ्री में इंटरनेट मिलने का मैसेज आया है?

'डेटा डिप्राइव्ड' जनता का उद्धार करने वाली खबर का सच.

सनी लियोनी ने बच्ची गोद ली और लोगों ने अपनी नंगई दिखा दी

‘सारे जहां से अच्छा’ होने का दावा करने वाले मुल्क के बाशिंदे कभी-कभी नीचता का शिखर छू लेते हैं.

'लिप्स्टिक अंडर माय बुर्का' रिव्यू : इस फ़िल्म को सिलेबस में डाल देना चाहिए

सेंसर बोर्ड से बच-बचा के आ पाई ये फ़िल्म

भारत-चीन में लड़ाई शुरू और 158 भारतीय सैनिकों के शहीद होने का सच ये है

हम चाइनीज झालर बैन करें न करें, पाकिस्तान को चाइनीज खबर जरूर बैन कर देनी चाहिए.

यूट्यूब का नया बवाली गाना ‘सोनू सॉन्ग’, जिसके बाद लोग ढिनचैक पूजा को भूल गए

ऐसा क्या है इस गाने में, ये 10 वर्जन देखकर जान लो.

करन जौहर, वरुण धवन को बधाई, वो आज महान जो बन गए हैं

खुद बोलें तो मजाक, कंगना रनोट बोलें तो बड़बोलापन. वाह!

एक रुपए में स्मार्टफोन और पावरबैंक पाने का मौका!

आपको एक काम करना पड़ेगा और आगे आपकी किस्मत.

ऋषि कपूर का ये ट्वीट देखकर आप शर्म से पानी पानी हो जाएंगे!

इसे फिल्म इंडस्ट्री के बहुत बड़े नामों ने वायरल किया है.