Submit your post

Subscribe

Follow Us

फसल का रेट 54247.78 रुपए प्रति किलो, सरकारी ट्विटर हैंडल पर भारी ब्लंडर

कानून और IT मंत्री हैं रविशंकर प्रसाद. ट्विटर पर खूब एक्टिव हैं, इस सरकार के बाकी लोगों की तरह. जो कि बहुत अच्छी बात है. लेकिन इनका 7 जनवरी का एक ट्वीट वायरल हो रहा है. डिजिटल इंडिया का ऐड है. हैशटैग डू यू नो के साथ. हिंदी में इसका मतलब ये है कि “क्या आप जानते हैं 1.13 लाख टन फसल का रेट 6.13 लाख करोड़ रुपए किसानों को मिल चुका है, e-NAM प्लेटफार्म पर. “

अगर ट्वीट डिलीट हो जाता है और दौड़कर हमारा गला न पकड़ लो इसके लिए..

ravishankar prasad tweet

e-NAM मतलब e नेशनल एग्रीकल्चर मार्केट. किसानों को उनकी फसल का उचित रेट दिलाने के लिए सरकार का उपक्रम है. साथ में कैशलेस इंडिया का सपना भी संलग्न है. उसके लिए ये ऐड जमकर दिखाया जा रहा है. लेकिन इस ऐड में शायद कुछ ‘भूल चूक लेनी देनी’ हुई है. नहीं नहीं, गणित की मिस्टेक नहीं है. फैक्चुअल एरर लग रही है. मतलब इस आंकड़े से ये फसल 54 हजार 247 रुपए प्रति किलो बिक रही है.

aamir

पहले इसकी गणित समझ लो. जो हमने देश के टॉप मैथमैटीशियन्स से निकलवाई है. मजाक कर रहे हैं यार इतनी गणित तो कोई भी कर सकता है जो बिना ग्रेस मार्क्स के पास हुआ हो. तो लो समझो.

1.13 लाख टन फसल
एक टन = एक हजार किलो
1.13 लाख = 113000
1.13 लाख टन = 113000*1000
=11,30,00000

6.13 लाख करोड़ रुपए
6130000000000
इस आंकड़े को ऊपर वाले, मतलब 113000000 से भाग कर देंगे, तो निकलकर आएगा 54247.78/Kg.

अब सवाल ये है कि कौन से किसान हैं ये और क्या पैदा कर रहे हैं इस शस्यश्यामला भूमि से जो इतना महंगा जा रहा है? और वो डिजिटल पेमेंट करा रहे हैं. केसर का दाम लगभग एक लाख रुपए प्रति किलो है. इतने में आधा किलो आएगा. लेकिन कितने किसान केसर पैदा कर रहे हैं? इसके अलावा देश में सबसे महंगा पैदा होने वाला प्रॉडक्ट है अफीम. 8 लाख रुपए किलो. 54 हजार के आस पास तो गांजा आ रहा है.(एक्सपर्ट्स के मुताबिक. ये न समझो कि हमऊ ‘चढ़ाकर’ बता रहे हैं.)

इस ट्वीट के बाद ये सवाल बार बार पूछा भी जा रहा है रिप्लाई में. देखो रविशंकर प्रसाद कब तक जवाब देते हैं. वैसे ये उनका पीएम को गंगा जैसा पवित्र बताने वाले ट्वीट के बाद दूसरा वायरल ट्वीट है.


ये भी पढ़ें:

रविशंकर प्रसाद ‘गंगा जैसा पवित्र’ इमोशन में बहके तो नहीं कह गए

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

10 मौके जब नेताओं ने जूते, माइक और कुर्सियां चलाकर हमारी छाती चौड़ी की

तमिलनाडु विधानसभा में जो हुआ वो पहली बार नहीं है. और भी मंजर आए हैं ऐसे.

अब सुरक्षा के लिए विधानसभा में स्पीकर हेलमेट पहनकर बैठेंगे

तमिलनाडु में कुर्सियां तोड़कर विधायकों ने बताया उन्हें कुर्सियों का कोई मोह नहीं है.

फिल्म अग्निपथ की वो 10 बातें, जो फिल्म की कहानी से भी रोचक हैं

आज फिल्म को रिलीज हुए 27 साल हो गए हैं.

'जब ये नेता पैदा हुआ तो आसमान में दो-दो इंद्रधनुष निकले थे'

हरकतें ऐसी कि 'रजनीकांत' छोटे पड़ जाएं. आज बड्डे है.

स्लैप डे मनाने वाले भी नहीं जानते होंगे थप्पड़ के दस रूप

लप्पड़-थप्पड़, फोहा-चमाट, कंटाप-टीप-लाफा. पड़ा तो होगा ही. पर फर्क पता है इनके बीच का?

लड़कियां अपना टॉप क्यों ऊपर खींचें, कांख क्यों ढंकें?

देखिए 4 नए ऐड, जो हमारी आंखें खोल देंगे.

खुशनसीब थे ग़ालिब जो फेसबुक युग में पैदा न हुए

आज के दिन दुनिया से रुखसत हुए थे. पढ़िए 2017 के गालिब की शायरी.

ग़ालिब हम शर्मिंदा हैं, ग़ज़ल के क़ातिल ज़िंदा हैं

15 फरवरी को दुनिया से रुखसत हुए चचा को कुछ लोग रोज़ मार डालते हैं.

कुमार विश्वास के वो जोक्स जिन पर पब्लिक आज भी तालियां बजाती नहीं थकती

आज कुमार विश्वास का हैप्पी बड्डे है. तो पढ़ लो.

एवरेस्ट पर असंभव रहे ये 9 'एडवेंचर' अब से होने लगेंगे

अब एवरेस्ट बेस कैंप पर फ्री वाई-फाई से तीन लोक सुख मिलेगा.

पोस्टमॉर्टम हाउस

इस ऐड ने मुझे बताया, मेरे पापा आदर्श पापा नहीं हैं

क्योंकि उन्होंने मेरा 'बेस्ट' नहीं चाहा.

फिल्म रिव्यू : रनिंग शादी से डॉट कॉम हटवाने वालों पे रोना आया

न ये बहुत अच्छी है न बहुत बुरी. न ये पकाती है, न ये बहुत ही क्लास है. न ये बहुत स्लो है, न उबाऊ.

ये नया ऐड देख लिया तो आप एक बार फिर उल्लू बन गए हैं

हीरा है सदा के लिए? या सदा हमें बेवकूफ बनाने के लिए?

मुगले-आजम आज बनती तो Hike पर पिंग करके मर जाता सलीम

जब अनारकली ने इयरफोन निकाल कहा 'एक्सक्यूज मी. आई वॉज चेकिंग माय व्हाट्सएप.'

फ़िल्म रिव्यू - जॉली LLB 2

जनता का हीरो अक्षय कुमार!

'फिल्लौरी' का ट्रेलरः अनुष्का का रोल एेसा है कि हीरोइन्स के करियर खत्म हो जाते हैं

क्या उनके लिए भी ये करियर सुसाइड साबित होगा?

बस पांडू हवलदार नहीं थे भगवान दादा: 34 बातें जो आपको ये बता देगी!

हिंदी सिनेमा का डीएनए तैयार करने वाले शुरुआती दिग्गजों में से एक थे भगवान अभाजी पलव. 1 अगस्त 1913 को जन्मे भगवान दादा 4 फरवरी 2002 में गुजर गए. आज उनकी बरसी है. उन्हें याद कर रहे हैं.

‘सिर्फ मदरसों में ही पढ़ कर अल्लाह से मुहब्बत की जा सकती है?'

मुस्लिम समाज की सबसे बुनियादी समस्या को छूती फिल्म 'अलिफ़' के बारे में पढ़ें.

फिल्म रिव्यू: रईस

देखकर दिमाग उड़ी उड़ी जाए.