Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

"जो औरत का दर्द नहीं समझता, भगवान उसे मर्द नहीं समझता"

एक फिल्म का ट्रेलर आया है. पहले वो देखिए. फिल्म के डायरेक्टर अभिषेक सक्सेना हैं. फिल्म में एक्टर शारिब अली हाशमी हैं. फिल्मिस्तान फिल्म से हम इन्हें जानते हैं. ज्योति सेठी और नूतन सूर्या भी इस फिल्म में हैं . फिल्म का नाम फुल्लू है. कहानी गांव के एक लड़के की दिखती है. जो खाली फिरता है. दूसरों की मदद करता है. एक दिन उसे पीरियड्स के दौरान होने वाली दिक्कतों का पता चलता है. साथ ही समझ आता है. गांव की औरतों के लिए ये कितना मुश्किल होता है. वो उनकी मदद करना चाहता है और इस सब के दौरान बहुत कुछ झेलता है. फिल्म 16 जून को रिलीज होने वाली है.

ये फिल्म जिस असल आदमी की कहानी से प्रेरित है थोड़ा सा उसे भी जान लीजिए. फेसबुक पर ये कहानी नितिन ठाकुर ने साझा की थी. जिसे थोड़े से बदलाव के साथ हम साझा कर रहे हैं.

कोयंबटूर में एक लड़का रहता था. नाम था अरुणाचलम मुरुगनाथम. 14 साल की उम्र में उसे स्कूल से निकाल दिया गया. बड़ा हुआ शादी हुई. एक दिन उसने अपनी पत्नी को कुछ छिपाते देखा पता किया तो पता लगा, वो गंदा सा कपड़ा छिपा रही थी जिसका यूज वो पीरियड्स के टाइम कर रही थी. मुरुगनाथम ने बीवी से सैनिटरी नैपकिन खरीदने को कहा, तब पता लगा वो बहुत महंगे आते हैं. 40 पैसे की कॉटन के लिए कंपनियां 4 रुपए वसूल रही थीं. मुरुगनाथम ने फैसला किया कि वो खुद ही सस्ता सैनिटरी नैपकिन बनाकर पत्नी को देंगे.

मुरुगनाथम ने पत्नी को एक पैड बनाकर दिया और इस्तेमाल करके बताने को कहा. उसके सामने संकट ये था कि पैड्स बहुत संख्या में बहुत जल्दी बनाने होते थे. उसने दूसरी औरतों से भी बात की पर मदद हो नहीं पाई. परेशान मुरुगनाथम ने खुद पर प्रयोग करने की ठान ली. फुटबॉल ब्लैडर निकाल कर उसने एक नकली गर्भाशय बनाया. अपने एक दोस्त से लेकर उसमें बकरी का खून भरा. सैनिटरी नैपकिन बनाकर खुद पहना. इसके बाद वो साइकिल चलाने जैसा काम करके देखने लगा ताकि दबाव पड़ने से खून बहे और वो नैपकिन को टेस्ट कर सके.

ये सब जानकर सबने उन्हें पागल समझा . दूरी बना ली. हंसने लगे, मजाक उड़ाते, दोस्त तक गाली देते. खुद उनकी पत्नी डेढ़ साल बाद घर छोड़कर चली गई. मुरुगनाथम ने प्रयोग जारी रखा. बाजार में बिकने वाले पैड्स में अलग क्या होता है ये जानने में भी उन्हें बड़ी समस्या हुई. लोग मानते थे कि मुरुगनाथम पर कोई भूत सवार है और तांत्रिक से उनका इलाज कराया जाए. किसी तरह उसने काम जारी रखा. बार-बार असफल मुरुगनाथम ने अब नैपकिन बनानेवाली कंपनियों से ही पूछना शुरू किया कि वो नैपकिन कैसे बनाती हैं. ज़ाहिर है, कोई उसे क्यों बताता लेकिन कुछ ना कुछ झूठ बोल कर उसने मालूम कर लिया कि नैपकिन में सिर्फ कॉटन नहीं होती बल्कि पेड़ की छाल से निकले सैल्युलोज़ का इस्तेमाल भी होता है.

सवा दो साल बाद ये बात मालूम तो चल गई लेकिन दिक्कत ये थी कि ऐसा नैपकिन बनाने के लिए जैसी मशीन चाहिए थी वो बहुत महंगी थी. साढ़े चार साल की कड़ी मेहनत के बाद मुरुगनाथम ने ऐसी छोटी मशीनें बना लीं जो किसी तरह सस्ता सैनिटरी नैपकिन बना लेती थीं. इस काम को समझने और करने में एक घंटा लगता था. दरअसल अब तक मुरुगनाथम की सोच बदल चुकी थी. उसने सस्ते सैनिटरी नैपकिन बनाने की बात तो सोची ही थी, साथ में अब वो ऐसा तरीका विकसित करना चाहते थे जिससे नैपकिन बनाने का काम महिलाएं ही सीख जाएं और उन्हें इस काम की अच्छी कीमत भी मिल सके.

आखिर मुरुगनाथम ने अपनी मां की मजबूरियां भी देखी थीं. मुरुगनाथम लकड़ी की बनी अपनी मशीन को IIT मद्रास ले गए और काम दिखाया. मल्टीनेशनल के सामने अपनी लकड़ी की मशीन से लोहा लेने के उनके जज़्बे से वैज्ञानिक हक्के बक्के थे. IIT मद्रास के नेशनल इनोवेशन अवॉर्ड कंपटीशन की 943 मशीनों में मरुगनाथम की मशीन नंबर वन थी. तत्कालीन राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने जब मुरुगनाथम को सम्मानित किया तो ये ड्रॉप आउट अचानक ही सुर्खियों में आ गया. आखिर साढ़े 5 साल बाद उसकी पत्नी का पहला फोन आया. वो वापस घर आना चाहती थी. दूरदर्शी मुरुगनाथम ने मशीन को पेटेंट कराने से इनकार कर दिया. डेढ़ साल बाद मुरुगनाथम ढाई सौ मशीनों के साथ खड़ा था जिन्हें उसने बिहार, मध्य प्रदेश, राजस्थान और यूपी पहुंचा दिया. उसके सामने चुनौती थी कि पूर्वाग्रहों और शर्म से भरे इन इलाकों में महिलाओँ को इन मशीनों और सैनिटरी नैपकिन के बारे में कैसे बताए.

हार ना माननेवाले मुरुगनाथम ने धीरे-धीरे ये भी किया और जल्दी ही 23 प्रदेशों के 1300 गांव में मुरुगनाथम की मशीन चलने लगी. 2014 में मुरुगनाथम टाइम्स मैग्ज़ीन की विश्व के सौ प्रभावशाली लोगों की लिस्ट में से एक थे. 2016 में भारत सरकार ने उन्हें पद्मश्री दिया. नितिन ठाकुर का ये मूल लेख आप यहां क्लिक कर पढ़ सकते हैं.


 

ये भी पढ़ें 

हाफ गर्लफ्रेंड फिल्म रिव्यू : अच्छी से थोड़ी ज्यादा, बुरी से थोड़ी कम

फ़िल्म रिव्यू: हिंदी मीडियम

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

इन 10 बातों में जानें कहानी 'बरेली की बर्फी' और उसके बनने की

गुदगुदाने वाली इस फिल्म में आयुष्मान खुराना, राजकुमार राव और कृति सेनन ने काम किया है.

गीता दत्त के 20 बेस्ट गाने, वो वाला भी जिसे लता ने उनके सम्मान में गाया था

इन महान गायिका को बरसी पर याद कर रहे हैं.

आडवाणी ने वेंकैया नायडू से इस मीटिंग में पूछे दर्द भरे सवाल!

वेंकैया नायडू उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बनने के बाद काफी भावुक हैं.

सैफ अली खान की फिल्म 'कालाकांडी' की असल कहानी ये है!

छह क्विक बातों में जानें फिल्म के बारे में सबकुछ. नाम जितनी ही टेढ़ी है ये नई फिल्म.

तो इन पांच वजहों से मोदी ने वेंकैया नायडू को बनाया है उप-राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार

पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने घोषणा की है कि उप-राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए बीजेपी ने वेंकैया नायडू को उम्मीदवार बनाया है.

क्या ये गाने सच में इतने मुश्किल थे जो हमने हमेशा गलत गाए!

आपको याद है कि आपने किन गानों के लिरिक्स की टांग तोड़ी थी?

बार-बार सुनेंगे सतिंदर सरताज के ये 16 गानेः जिनके आगे हनी सिंह और बादशाह नहीं ठहरते

हवा सा गतिमान, ठंडा, हल्का और मिंट फ्रैश महसूस करने के लिए आज सुनिए - ये प्लेलिस्ट.

भारतीय सेना की अनूठी कहानियों पर एक-दो नहीं, 8 फिल्में बन रही हैं!

हर प्रोजेक्ट प्रॉमिसिंग है. आर्मी फैंस के लिए सेलिब्रेशन का मौका है.

ना बंगाल में दंगे होते ना जुनैद मरता, अगर सब लोग इस बात को मान लेते

'आग की तरह' अगर किसी चीज़ को फैलाना है, तो वो यही है.

पीएम मोदी और नेतन्याहू के बीच हुई वो बातें, जो मीडिया में नहीं आई हैं!

पीएम की वहां जो खातिरदारी हुई वो तो ऐतिहासिक है, लेकिन कुछ और भी है.

पोस्टमॉर्टम हाउस

क्या 'पहरेदार पिया की' चोरी का माल है?

'सोनी टीवी' पर प्रसारित हो रहे विवादित शो का पूरा सच.

कौन हैं किरण यादव, जिनके फेसबुक पर 10 लाख फॉलोअर्स हैं?

इस अकाउंट की 3 बातें ख़ास तौर से नोटिस में आती हैं.

भारतीय टीवी ने ये सीरियल बनाकर घिनापे की हद पार कर दी है

पति 10 साल का हो और पत्नी लगभग मां की उम्र की, तो रिश्ता 'पवित्र' कैसे होगा?

राज कपूर का नाती फिल्मों में आ रहा है लेकिन लोग पहले ही उससे चिढ़े हुए हैं

कभी किसी नए एक्टर के साथ ऐसा नहीं हुआ है. लेकिन रणबीर कपूर के छोटे भाई के साथ हो रहा है.

फ़िल्म रिव्यू : जग्गा जासूस

अनुराग बासु 5 साल के बाद अपनी फ़िल्म लेकर आए हैं.

मां होना असल में क्या होता है, श्रीदेवी हमें बताती हैं

वो ऐसी बेटी के लिए लड़ती हैं, जो उन्हें मां मानती भी नहीं.

फ़िल्म रिव्यू : गेस्ट इन लंडन

कपिल शर्मा की जूठन से बने जोक्स के दम पर बनी फ़िल्म.

फ़िल्म रिव्यू : मॉम

श्रीदेवी की कम-बैक फ़िल्म.

गब्बर को ठाकुर बलदेव सिंह ने नहीं, कैंसर ने मारा था!

अहमद को रहीम चाचा ने खुद मार दिया था.

श्रीदेवी की फिल्म 'मॉम' की वो बातें जो इसकी कहानी का खुलासा करती हैं

क्या आप जानते हैं फिल्म में नवाजुद्दीन ने अपने कैरेक्टर के बोलने का ढंग किस जाने-माने हिंदी फिल्म एक्टर के एक्सेंट से लिया है?