Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

प्रियंका की 'बे-वॉच' पामेला एंडरसन के बे-वॉच से हमेशा पीछे रहेगी

91 में जिस किसी ने होश संभाल लिया था, उसने एक बार बे-वॉच ज़रूर देखा और जिसने एक बार देखा, वो दोबारा देखने से खुद को नहीं रोक पाया. बे-वॉच का कल्ट कुछ ऐसा था कि निरे देहाती जमाने को अंग्रेजी घोट के पिलाने में रैपिडेक्स जलन खाती थी. आदमी अंग्रेजी बोलता भी था तो एकदम अमरीकी एक्सेंट में. इसीलिए बे-वॉच के नाम पर जो कुछ होता है, हमारे ज़ेहन में एक हल्की गुदगुदी पैदा करता है. इतना नॉस्टेल्जिया तो शक्तिमान ने नहीं जना होगा जितना बे-वॉच ने. ताज़ा किस्त आ रही है ‘बे-वॉच’ (फिल्म) की जिसकी चर्चा हिंदुस्तान में है. हल्ला इसलिए है क्यूंकि इसमें प्रियंका चोपड़ा होंगी. लेकिन ट्रेलर ने मायूस किया. वजह? ट्रेलर में प्रियंका की झलक भर दिखी. प्रियंका के फैन मायूस हुए. अच्छी बात ये है कि अब उनकी शिकायत दूर हो गई है. बे-वॉच का नया पोस्टर आया है जिसमें प्रियंका ही प्रियंका हैं.

बे-वॉच फिल्म के हैंडल से आज फिल्म का पोस्टर ट्वीट किया गयाः

फिल्म में दिखेगा कि ड्वेन जॉनसन (ये रॉक का असली नाम है), अपनी लाइफ गार्ड्स के साथ लॉस एंजेलिस (ये हॉलीवुड का असली नाम है) के तट पर कैसे लोगों की ज़िंदगियां बचाते हैं. जी हां. बे-वॉच की कुल जमा कहानी हमेशा से यही रही है. इसके अलावा जो भी होगा, 25 मई को पता चल ही जाएगा. लेकिन कम ही लोग इस बात पर विश्वास कर पाएंगे कि फिल्म असली बे-वॉच (टीवी सीरीज़) के तिलिस्म के करीब पहुंच पाएगा.

बे-वॉच यानी बदलते इंडिया के पॉप्युलर पॉप कल्चर का हिस्सा

भारत में एक वक्त सरकार ने सब कुछ कंट्रोल किया. स्टील बनाने वाली कंपनी सरकार की, उस स्टील से बनने वाली कार सरकार की, और मुद्दतों तक सिफारिशें ठेलने के बाद मिली कार घर लाने की खुश-खबरी देने के लिए जो फोन आप इस्तेमाल करते थे वो भी सरकार का. असल में सरकार में ही ‘कार’ है इसलिए उससे जुड़ा सब कुछ सरकार का तो होना ही था. आपके ड्राइंग रूम में रखा टीवी भी ‘सरकार के भोंपू’ से ज़्यादा कुछ नहीं था – दूरदर्शन पर अच्छे शो आते थे, लेकिन वही जो सरकार को आम हिंदुस्तानियों के ‘लायक’ लगते.

फिर 91 में मजबूरी और हिम्मत का मिक्सचर बना और नरसिम्हा राव ने हिंदुस्तान के दरवाज़े दुनिया भर के लिए खोल दिए. 91 के बदलावों को सिर्फ आर्थिक सुधार कहना उस फिनॉमेना को छोटा करना है. जो दरवाज़ा दुनिया की तरफ खुला, उसमें फॉरेन इंवेस्टमेंट के साथ-साथ ढेरों चीज़ें आईं. उन्हीं में से थे ‘बे-वॉच’ और साथ में प्रातः स्मरणीय पामेला एंडरसन. 

 

BAYWATCH, Nicole Eggert, David Hasselhoff, Alexandra Paul, David Charvet, Pamela Anderson, (Season 3, 1992), 1989-2001
बेवॉच (सीज़न 3)

टीवी मिलना आसान हुआ तो लोगों ने भी एक कदम आगे बढ़कर रंगीन टीवी खरीदा. प्रमोशन पाकर रंगीन टीवी ने एंटीना को तलाक दे दिया – दूरदर्शन डल हो गया था. सौ रुपए महीने में मुहल्ले का हर लड़का टीवी में छतरी वाले का ‘केबल’ देखकर खर्च हो रहा था. दुनिया भर के चैनल दिखने लगे. समाज में दो फांक हो गईं. वो जो केबल वाले थे और वो कुढ़ते थे. कुढ़ने वाले लड़के रात 8 बजे मार्क लिन को सुनते थे और 10 बजे सो जाते थे. जबकि केबल वाली जनता को पसंद आया स्टार गोल्ड. क्योंकि उसी पर बे-वॉच आता था.

बे-वॉच एक ड्रामा सीरीज़ थी. एक बार शुरु हुई तो दस साल तक एक ही फॉर्मेट में चली. कमोबेश एक ही कहानी के साथ. डेविड हैज़लहॉफ लॉस एंजेलिस काउंटी लाइफगार्ड्स की एक टीम को लीड करते हैं. इस बात का ध्यान रखते हैं कि समंदर में नहाते-नहाते कोई डूबने न पाए. और जब कोई लहरों में फंस जाता, तो डेविड की टीम से कोई उसे बचाने जाता – अमूमन पामेला एंडरसन. पामेला लाल स्विमसूट में बीच पर दौड़ते हुए जातीं और पूरी दुनिया उस वक़्त उस आदमी से खार खा रही होती थी जो पानी में डूब रहा था. डूबना हर कोई चाहता था बस शर्त इतनी थी कि बचाने पामेला एन्डरसन आये. 

पैमेला एंडरसन (फोटोःGlamaour)
पैमेला एंडरसन (फोटोः Glamaour)

लेकिन रात को टीवी से चिपके हिंदुस्तानी शार्क के हमले से लोगों को बचाते डेविड को नहीं देखना चाहते थे. न वो पूरा शो ही देखना चाहते थे. वो बस पैमेला को देखने टीवी चलाते. खजुराहो को पीछे, बहुत पीछे छोड़ चुके हिंदुस्तानियों के लिए पामेला को स्विमसूट में देखना किसी दूसरी दुनिया का अनुभव होता. चौपाटी पर जो लोग सिर्फ चाट खा सकते थे, वो लॉस एंजेलिस के बीच पर पैमेला को देखकर अपने अरमान पूरे करते थे.

बे-वॉच ने पॉप्यूलैरिटी के सारे रिकॉर्ड तोड़े. लेकिन चुप्पे-चुप्पे. कोई बताना नहीं चाहता था कि वो बेवॉच देखता है. लेकिन देखते सब थे – दद्दू भी और मोंटू भी.

पामेला हिंदुस्तान में खूब पसंद की गईं. 2010 में जब मुंबई एयरपोर्ट पर उतरीं तो पब्लिक ने घेर लिया. बचाकर ले जाना पड़ा. बिग बॉस के देसी एडिशन में भी उन्होंने शिरकत की.

image

मिडिल ईस्ट के लोग बे-वॉच के लिए जेल जाने को तैयार थे

भारत में किसी औरत को बिकीनी में देखने की चाह होना आपके करप्ट होने की निशानी भर थी. लेकिन कुछ देश ऐसे भी थे जहां बे-वॉच को सीधे एक कल्चरल अटैक के तौर पर देखा गया. खाड़ी के कुछ मुस्लिम देशों में लोग बीच पर बिकिनी में दौड़ती लड़कियों को टीवी स्क्रीन पर कतई बर्दाश्त नहीं कर सकते थे. मानना था कि औरत का बदन जितना ढका रहे, उतना बे-हतर है. मानो औरत न हो कटे फल हों. शो को वहां बैन किया गया. लेकिन शो के मुरीद बे-वॉच की पाइरेटेड कॉपी खरीद कर देखने लगे. हफिंगटन पोस्ट की एक रिपोर्ट के मुताबिक शो बनाने वाले माइकल बर्क कहते थे कि मुसलमान बे-वॉच देखने के लिए जेल तक जाने को तैयार थे. लेकिन सभी मुस्लिम देशों में ऐसा नहीं था. बे-वॉच मिस्र में टेलिकास्ट हुआ और खूब पसंद भी किया गया.

बे-वॉच 144 देशों में देखा जाता था, 44 भाषाओं में. सीरीज़ कामयाब हुई तो स्पिन ऑफ बना बे-वॉच नाइट्स नाम से. वीडियो फिल्में भी बनीं – ‘बे-वॉच द मूवीःफॉरबिडन पैरेडाइज़’ , ‘बे-वॉचः वाइट थंडर एट ग्लेशियर बे’ और ‘बे-वॉचः हवाइयन वेडिंग’. अब प्रियंका वाली बे-वॉच आ रही है. इसे देखने जाने वाले कई अंकल (और आंटी भी) एक गुदगुदी महसूस करेंगे, जिसकी वजह वो शायद ही किसी को बताएं. बता सकते हैं. कोई ज़ुर्म नहीं है.  


ये भी पढ़ेंः

TV से सबसे ज्यादा 74 करोड़ कमाती है ये इंडियन एक्ट्रेस

RSS से जुड़ीं प्रियंका चोपड़ा, ABVP से लड़ रही हैं चुनाव!

नंगे बदन पर अजगर लपेट नजर आई इंडियन एथलीट मधु

डियर डॉनल्ड, चाहे जहां जो कहना लेकिन प्रियंका के सामने चुप रहना

 

 

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

लकी अली के वो पांच गाने, जिन्हें अक्खा इंडिया गुनगुनाता है

लकी अली ने इंडियन पॉप म्यूजिक की नींव में ईंटे रखी हैं.

48 फिल्म स्टार्स जो अपना असली नाम नहीं बदलते तो बॉलीवुड में नहीं चलते

इनमें साउथ के सितारे भी शामिल हैं. जानें क्या हैं सबके असली नाम. कुछ नाम कल्पना से परे हैं.

हार्दिक पंड्या जब छक्के मारना शुरू करता है, तो मारता ही चला जाता है

एक ही ओवर में तीन-तीन, चार-चार सिक्सर ठोक देता है.

शबाना आज़मी: जिससे नाराज़ नहीं ज़िंदगी, हैरान है!

18 सितंबर यानी शबाना आज़मी का बर्थडे. जानिए क्यों हैं वो आज भी बेमिसाल...

गधों की वो बातें जो उस पर नेतागिरी करने वालों को भी नहीं पता होंगी

आपको पता भी है, गधे का क्या भौकाल था, वो वॉर हीरो बन चुका है, उसका पासपोर्ट बनता है और भी बहुत कुछ.

पहले एयरफोर्स मार्शल अर्जन सिंह के 4 किस्से, जो शरीर में खून की गर्मी बढ़ा देंगे

लाख चाहने के बावजूद अंग्रेज इनके खिलाफ कोर्ट मार्शल में कोई एक्शन नहीं ले पाए थे.

1965 के युद्ध में पाक को धूल चटाने वाले एयर चीफ मार्शल अर्जन सिंह के बारे में 10 बातें

एयर मार्शल अर्जन सिंह का 98 साल की उम्र में निधन हो गया.

वो राइटर, जिसने दिलीप कुमार और शाहरुख़ खान के करियर को पंख लगाए

'देवदास' और 'परिणीता' जैसी नॉवेल्स लिखने वाले शरतचंद्र चट्टोपाध्याय आज ही के दिन पैदा हुए थे.

बिना डिग्री वाले इन इंजीनियर्स ने हमारी गृहस्थी बचा ली!

इंजीनियर्स डे पर इनको भूल न जाना.

वायरल केंद्र

गरीबों के साथ सड़क पर बैठकर खाने वाला ये 'गोरा' मामूली आदमी नहीं है

कौन है ये, जिसकी तस्वीर सोशल मीडिया पर घूम रही है?

बच्चे की फोटो इंस्टाग्राम से हटवाने वालों, तुम्हारे 'ख़ूबसूरती' के पैमाने शर्मनाक हैं

अगर बच्चा नॉर्मल नहीं तो क्या उसे जिंदगी जीने का हक़ नहीं है?

"झूठ बोलना पाप है, नदी किनारे सांप है" हिंदी का सबसे बड़ा झूठ था!

ये आदमी कहता है कि समय समय पर झूठ बोल देना चाहिए.

क्या जैकी चेन 'हज' करने चले गए!

सफेद लिबास पहने हुए कैमरे में कैद हो गए हैं जैकी, उनकी तस्वीर अब वायरल हो चली है?

डॉमिनोज पिज्जा पर डालने वाले मसाले में बिलबिलाते कीड़े निकले

छी. यक. ब्वाक. पलटी आ जाएगी वीडियो देख के.

दाढ़ी-मूंछों वाली वो राजकुमारी, जिसके प्रेम में दसियों मर्दों ने जान दे दी थी!

कुछ कहते हैं उस वक़्त इसे सुंदरता मानते थे. मगर राजकुमारी इन सबसे बहुत ऊपर थी.

क्या है जयपुर दंगे के इस वायरल वीडियो की असलियत?

इस वीडियो को 30 लाख से ज़्यादा बार देखा जा चुका है.

क्या आइसलैंड की दुलहिन से शादी करने पर सही में मिल रहा है 3 लाख 19 हज़ार?

शादी के सबसे 'आकर्षक' ऑफर की सच्चाई.