Submit your post

Subscribe

Follow Us

आई थी अवॉर्ड लेने, राष्ट्रपति को धो गई ये एक्ट्रेस!

कलाकार का काम तो बोलता ही है लेकिन जब किसी ज़रूरी मुद्दे पर कलाकार खुद बोलता है, तो वो दृश्य संजोये जाने लायक होता है. और वो भी किसी बड़े मंच पर. तमाम बड़े बड़े नामों के सामने. मानवीय संवेदनाओं को अपने अभिनय से परदे पर उकेरने वाले आर्टिस्ट्स जब असल ज़िंदगी में भी उतने ही सेंसिटिव पाए जाते हैं तो ख़ुशी होती है. ना सिर्फ संवेदनशील बल्कि हिम्मती भी. हॉलीवुड अदाकारा मेरील स्ट्रीप ने गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड्स में एक झन्नाटेदार स्पीच देकर वहां मौजूद तमाम लोगों का दिल जीत लिया. उन्होंने बेहद ज़िम्मेदारी से शब्दों का चयन करते हुए अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की, उनका नाम लिए बगैर धज्जियां उड़ा दी.

मेरील स्ट्रीप को अपने बेहद शानदार एक्टिंग करियर के लिए गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड्स में लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड दिया जा रहा था. इसकी एक्सेप्टेंस स्पीच में मेरील ने जो कहा उसने तमाम दुनिया में आग लगा लगा दी है. हर तरफ मेरील के साहस की तारीफ़ हो रही है. कहा जा रहा है कि अपने सुप्रीम एक्टिंग टैलेंट जितना ही शानदार व्यक्तिव पाया है मेरील ने.

अपनी लगभग 6 मिनट लंबी स्पीच में मेरील ने डोनाल्ड ट्रंप का नाम लिए बिना उनकी तीखी आलोचना की. अपनी असहमति को कड़े शब्दों में रखा. उनकी बेहूदा टिप्पणियों पर अपनी नाराज़गी दिखाई. अपनी स्पीच की शुरुआत उन्होंने ये कहते हुए की, “आज इस छत के नीचे अमेरिकन सोसाइटी में सबसे ज़्यादा अपमानित तीन तबकों के लोग हैं. हॉलीवुड, विदेशी और प्रेस.”

वो ट्रंप के विदेशी लोगों की अमेरिका में मौजूदगी वाले बयान पर कमेन्ट कर रही थी. उन्होंने ढेर सारे हॉलीवुड एक्टर्स और सेलिब्रिटीज के नाम गिनाएं जो अमेरिकन मूल के नहीं थे, लेकिन जिन्होंने हॉलीवुड में अपनी गहरी छाप छोड़ी है. उन्होंने उदाहरण देकर जताया कि कैनडा, आयरलैंड, इजराइल, इथियोपिया, इंडिया, केन्या, पाकिस्तान, मेक्सिको, कोलंबिया, इंग्लैंड, चाइना, ऑस्ट्रेलिया और यहां तक की रशिया के कलाकारों ने भी हॉलीवुड को समृद्ध करने में अपना योगदान दिया है.

उन्होंने तंजिया लहज़े में पूछा, ‘इन सबके बर्थ सर्टिफिकेट्स कहां है?’ याद रहे ट्रंप ने ओबामा के बर्थ सर्टिफिकेट के लिए कुछ दिन पहले काफी हंगामा काटा था. स्ट्रीप ने ज़ोर देकर ये बात कही कि अलग-अलग रंग, धर्म, भाषा और यहां तक कि अलग अलग देशों के लोगों ने हॉलीवुड की दुनिया में रंग भरे हैं. 

मेरील ने अपनी सबसे तीखी टिप्पणी तब की जब उन्होंने ट्रंप द्वारा एक दिव्यांग व्यक्ति का मज़ाक उड़ाने वाली घटना का ज़िक्र किया. डोनाल्ड ट्रंप ने न्यूयॉर्क टाइम्स के रिपोर्टर सर्ज कोवाल्स्की की नक़ल की थी. सर्ज के हाथ में दिक्कत है. trump1

 

मेरील ने बेहद भावुक होते हुए कहा,

“एक एक्टर का काम लोगों की जिंदगियों में शिरकत करना और उन्हें महसूस करना होता है. इस लिहाज़ से इस साल बहुत से शानदार, सांस रोकने वाले और पावरफुल परफॉरमेंसेस हुए. लेकिन सबसे बुरा एक ही था जिसने मुझे हिला के रख दिया. उसने मेरा दिल दुखाया. उसमे कुछ भी अच्छा नहीं था, लेकिन उसने अपना मकसद पूरा किया. ये वो घड़ी थी, जब हमारे मुल्क की सबसे इज्ज़तदार पोस्ट पर बैठे आदमी ने एक विकलांग रिपोर्टर की नक़ल उतारी. एक ऐसे शख्स को अपमानित किया जो अधिकार, ताकत और पलट कर लड़ने की क्षमता के मामले में उससे कमतर था.”

वो आगे बोलती गईं,

“इस घटना ने मेरा दिल तोड़ दिया. मैं उसे अब तक भुला नहीं पाई हूं क्यों कि वो किसी फिल्म का सीन नहीं था, असल ज़िंदगी में हो रहा था. किसी को अपमानित करने की ये प्रवृत्ति जब किसी पब्लिक फिगर में पाई जाती है, तब इसके लोगों की ज़िंदगी का हिस्सा बनने की संभावना बढ़ जाती है. इसका मतलब आप लोगों को भी ऐसा करने की परमिशन दे रहे हो. अपमान का जवाब अपमान होगा, हिंसा और ज़्यादा हिंसा भड़काएगी. जब ताकतवर लोग अपनी ताकत का इस्तेमाल लोगों को धमकाने में करते हैं, हम सबकी हार होती है.”

मेरील के इन शब्दों को सबने पूरी ज़िम्मेदारी से सुना. जब मेरील ये कह रही थी ऑडियंस में मौजूद कई सितारों की आंखें झिलमिलाने लगी थी. गला भर आया था. दर्शकों  में भारतीय अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा भी मौजूद थी. दुनियाभर में जिस किसी ने भी मेरील की ये ‘नो-नॉनसेंस’ स्पीच सुनी वो उनका कायल हो गया. दुनिया की सबसे ताकतवर जगह पर बैठे शख्स को आईना दिखाने के लिए हिम्मत चाहिए. गलत को किसी भी हाल में गलत कहने के लिए हौसले की दरकार होती है.

देखिये वीडियो

मेरील की इस स्पीच के जवाब में ट्रंप का जो जवाब आया है वो उनकी शोहरत के मुताबिक़ ही है. यानी बदतमीज़ी भरा. हॉलीवुड की इस बेहतरीन अदाकारा को उन्होंने ‘ओवर-रेटेड एक्ट्रेस’ कहा है. बात सही भी है. एक विकलांग का मज़ाक उड़ाने जैसा घिनौना टैलेंट जो नहीं मेरील के पास! tweet

इस घमंड भरे रवैये को देखने के बाद ये और भी साबित हो गया कि मेरील ने इस आदमी के बारे में जो कहा वो सही भी था और ज़रूरी भी. दुनिया के शीर्ष पर बैठा आदमी इतना हल्का हो ये शर्म की बात है.

मेरील ना भी बोलती तो भी चलता. लेकिन अपनी आवाज़ पहुंचाने के लिए एक मंच के मिलते ही उन्होंने अपनी बात पुरज़ोर ढंग से रखी. इतने बड़े बड़े नामों की मौजूदगी में दृढ़ता से अपनी बात कहना अभिव्यक्ति की आज़ादी के दुर्लभ क्षणों में से एक है. 

अपने यहां तो असहिष्णुता शब्द के मुंह से निकलते ही गालियों की बौछार करने का चलन है.


ये भी पढ़िए

मेक्सिको के लोगों ने डोनाल्ड ट्रम्प को मरवा दिया

मुंबई हमला हुआ ना, इसीलिए इस मुस्लिम औरत ने ट्रंप को वोट किया

हॉलीवुड को ‘हॉलीवीड’ बनाने वाले अमेरिकी क्या खाकर इंडिया की बराबरी करेंगे?

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

देववृंद के बाद अब बदलेंगे इन शहरों के भी नाम!

टाइम आ गया है जब यूपी में जगहों के नाम बदलने की बात चल रही है. हमारी ओर से भी कुछ सुझाव लिखे जाएं.

वो दस किस्से जब सुरों की, ग्लैमर की दुनिया के बाशिंदे बड़ा दिल न दिखा सके

शायर कहता है, 'जो आला जर्फ़ होते हैं, हमेशा झुक के मिलते हैं'. शायर कुछ नहीं जानता.

फेसबुक पर इन पांच तरह के कवियों से बच के रहना

विश्व कविता दिवस पर सप्रेम.

चुनाव हारने के लिए ही नहीं, इन कैटेगरीज में भी गिनीज बुक में दर्ज होंगे राहुल गांधी!

राहुल गांधी का नाम गिनीज बुक वर्ल्ड रिकॉर्ड के लिए भेजा गया है, वजह तो जान ही गए होगे.

वो शख्स जो दुनिया में लेफ्ट की पहली चुनी हुई सरकार लाया

और ये इनके नाम अकेला रिकॉर्ड नहीं है. 19 मार्च को दुनिया छोड़ गए थे.

उत्तराखंड का वो ज़िला जो इस वक़्त देश के पांच ताकतवर लोगों का घर है

जी हां पांच. दो तो नए नवेले बने सीएम ही हैं.

शशि कपूर ने बताया था, दुनिया थर्ड क्लास का डिब्बा है

आज शशि कपूर का जन्मदिन है. पढ़िए उनके दस यादगार डायलॉग्स.

इन तरीकों से बीजेपी को मिलेगा यूपी में अपना नया मुख्यमंत्री

एक ऑप्शन ऐसा है, जिससे न बीजेपी को न गठबंधन और न राहुल गांधी को आपत्ति होगी.

मैंने बांटी हैं जहां में इस क़दर खुशियां, मेरे अप्रेजल का जो हाल सुनेगा वो रो देगा

अप्रेजल वाली चिट्ठियां आने लगी हैं, हमें कुछ शेर आए, रट डालिए न जाने कब जरूरत पड़ जाए.

इन भोजपुरी फिल्मों के बस नाम पढ़कर पेट में भगदड़ मच जाती है

यहां 'कट्टा तनल दुपट्टा पर, गइल भंइसिया पानी में' और 'तोहार चुम्मां बिटामिन A ह' फिल्मों के नाम होते हैं.

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू: अनारकली ऑफ़ आरा

'रंडी हो, रंडी से कम, या फिर बीवी हो, हाथ पूछकर लगाना.'

डेडपूल-2 का ये नंगा सीन अब सब देखेंगे, पहलाज निहलानी खुद दिखा रहे हैं

सुपर-हीरो के निर्वस्त्र ढुंगे के बचाव में कितनी प्यारी बातें की हैं उन्होंने.

गद्दी हथियाने का ये खूनी किस्सा आपको किसी की याद दिलाएगा

फिल्म डायरेक्टर सुधीर मिश्रा ने इंडिया टुडे कॉन्क्लेव के लिए 12 मिनट की एक शॉर्ट फिल्म 'लाइफ सपोर्ट' बनाई है.

फ़िल्म रिव्यू : ट्रैप्ड

अपने ही कमरे में 25 दिन के लिए कैद लड़के की कहानी.

होली के बाद ऐसे रंगे रहते हैं, हमारे शहर के अखबार

देश जब जेएनयू मुद्दे पर गर्म होता है, तो वहां खबर छपती है, 'जमीनी विवाद में भतीजे ने चाचा का सिर फोड़ा.

आज़ादी पर एक नई फिल्मः जिस-जिस को क्रांति करनी है, देख लो

चे गुवेरा की टीशर्ट पहनकर मैक-डी जाने वालों के लिए.

मूवी रिव्यू: लोगन एक्स-मेन सीरीज की सबसे महान फिल्म है

ये फिल्म अंतरी बुखार की तरह आपको कंपकंपाएगी, हफ़्तों तक पीछा नहीं छोड़ेगी.

35 साल बाद सुभाष नागरे ने पिस्तौल उठाई है, रामू बैक इन फॉर्म

सरकार-3 का नया ट्रेलर आ गया है.

बजरंगबली घुस गए मस्ज़िद में, झुका दिया सर

वायरल वीडियो.

फ़िल्म रिव्यू: रंगून

विशाल भारद्वाज की नई फ़िल्म.