Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

फ़िल्म रिव्यू: हिंदी मीडियम

जो सुख पायो राम भजन में, सो सुख नाहि अमीरी में
मन लाग्यो मेरो यार फ़कीरी में

कबीर की कही ये बातें फ़िल्म में सुनाई पड़ती हैं नीरज आर्या की आवाज़ में. और ये बातें फ़िल्म मर्म और उसकी समरी को लपेटे चलती हैं.

हिंदी मीडियम. इरफ़ान और सबा कामिर की फ़िल्म जिसमें कुछ वक़्त के लिए दीपक डोबरियाल भी दिखते हैं. दीपक फ़िल्म में भले ही कम वक़्त के लिए मौजूद हों लेकिन उनका रोल कहानी को ध्यान में रखते हुए बहुत बड़ा है.

एक चांदनी चौक में रहने वाली फ़ैमिली. राज एक बिज़नेसमैन है जिसका कपड़ों का बिज़नेसमैन है. बहुत बड़ा बिज़नेस. इतना बड़ा कि देश के सभी डिज़ाइनरों की फर्स्ट-कॉपी वाला सारा माल इसके पास मौजूद रहता है और इसीलिए दिल्ली की शूं-शां वाली आंटियां राज की फैन हैं. राज का बिज़नेस धड़ल्ले से चल रहा है. उसकी पत्नी मीता थोड़ी अंग्रेजी मीडियम है. जबकि राज पूरी तरह से देसी. गजब वाला देसी. जिसे अपनी बेटी के साथ ‘तारे गिन-गिन…” गाने पर नाचना पसंद है. नाचते हुए वो अपना कोट निकालकर फेंक देता है. ज़मीन पर लोट जाता है. वहीं उसकी पत्नी एकदम सूफियाना. उसे चिंता होती है अपनी बेटी की. ऐसा नहीं है कि राज को चिंता नहीं है. मीता को चिंता है बेटी की पढ़ाई की. उसकी अंग्रेजी की. अगर वो अंग्रेजी नहीं बोल पाई तो समाज उसे कैसे एक्सेप्ट करेगा.

राज और मीता की बेटी के अंग्रेजी स्कूल में पढ़ने की कहानी. उसके बाकी बच्चों के बराबर मॉडर्न बनने की कहानी. साथ ही मीता और राज के बाकी अमीर दिल्लीवालों की बराबरी करने के दौरान होती जद्दोजहद की कहानी है हिंदी मीडियम. 

शादी के साइड इफ़ेक्ट्स और प्यार के साइड इफ़ेक्ट्स बनाने वाले साकेत चौधरी ने एक काम की और कमाल की फ़िल्म बनाई है. काम की इसलिए कि इसे देखने के बाद काफी कुछ आपके साथ घर जाता है. और कमाल की इसलिए क्योंकि पिछले काफी दिनों में आ रहे झोला भर के कचरे के बीच बहुत अच्छा सा कुछ देखने को मिला है जिसे आप व्हाट्सैप पर लोगों को देखने को कह सकते हैं.


इरफ़ान ने भले ही अपने नाम से खान हटा दिया हो लेकिन वो अब भी खान हैं. ऐक्टिंग की खान. मुझे इरफ़ान को स्क्रीन पर देखते हुए हमेशा एक ख़याल आता है कि इस आदमी को पेमेंट क्यूं ही दिया जाता है? ये आदमी ऐक्टिंग तो करता ही नहीं है. सब कुछ कितना नैचुरल रहता है. कितना सहज. कितना एफ़र्टलेस. सब कुछ ऐसा जैसे ये आदमी बचपन से यही सब करता आ रहा हो. वही हाल इस फ़िल्म में भी है. ऐसा लगता है जैसे ये आदमी आया होगा, इसने ऐक्टिंग की होगी और ये चला गया होगा. बस. खतम. इसकी देह पर पसीने का एक कतरा न आया होगा. न दिमाग में कोई प्रेशर. 


irrfan hindi medium

फ़िल्म में जो बेहद मज़ेदार है वो हैं इसके डायलॉग्स. ये सारी अमितोष नागपाल की कारस्तानी है जो आपको चिपकाए रखती है. आप हंसते रहते हैं. यहां भले ही एक बड़ा सोशल इश्यू है जो एड्रेस किया जा रहा है लेकिन अच्छी बात ये है कि इस दौरान भी जो कुछ कहा-सुना जा रहा है उसकी भाषा बहुत ही अभी की है. वो पौराणिक भाषा में मिलने वाला ज्ञान नहीं है. और इसकी खातिर अमितोष के लिए तालियां पीटी जानी चाहिए.


फ़िल्म में एक मौका है जो आपके अन्दर छप जाता है. राज और मीता आपस में बातें कर रहे थे. और वहां इरफ़ान को ये अहसास होता है कि खुद के मुनाफे के चक्कर में वो किस हद तक गिर चुके हैं और उन्होंने कितनों का हक़ मारा हुआ है. इसी क्रम में बात करते हुए राज अपनी पत्नी मीता से कहता है, “…और हम इतने हरामी हैं कि हमने उस गरीब का हक़ मार लिया.” यहां वो गाली असल में फ़िल्म की ज़रुरत थी. इस गाली को न ही कहीं भी प्रोमो में दिखाया गया और न ही इसका नहीं बेजा इस्तेमाल किया गया. वरना ऐसी बातें आज कल की फिल्मों का ‘यूएसपी’ बन जाती हैं. ज़बरदस्ती की घुसाई गई गाली और उसपे मिला कट फ़िल्म बेचने का साधन बन सकता है. लेकिन वो यहां नहीं हुआ और इसके लिए फ़िल्म को थैंक यू कहा जाना चाहिए.


 अंग्रेजी बोलने का प्रेशर, अमीर दिखने का प्रेशर, सोसायटी में एक्सेप्ट किये जाने का प्रेशर, बच्चों के भविष्य का डर. ये सभी कुछ एक मिडल क्लास फैमिली की परेशानी का सबब है. उससे जूझते राजा और मीता बहुत कुछ सिखाते हैं. और ये कोई मॉरल साइंस की बोरिंग क्लास नहीं है बल्कि एक खुशनुमा माहौल में एक मज़ेदार कहानी है. आप बैठे रहेंगे. देखते रहेंगे. मज़े लेते रहेंगे.

फ़िल्म मज़ेदार है. देखी जाए.

फ़िल्म के ‘हीरो’ इरफ़ान से जब हमारे न्यूज़रूम में बात हुई तो उन्होंने क्या कहा, देखते हैं:


 ये भी पढें:

‘हिंदी मीडियम’ के राइटर का इंटरव्यूः जिन्हें इरफान ख़ान खुद चुनकर लाए

ट्यूबलाइट का पहला गाना जो साबित करता है बॉलीवुड के बाहुबली सिर्फ सलमान हैं

सरकार-3 का खूंखार राइटर जो कहता है ‘जान से मार देना तो सबसे कमजोर अपराध है’

‘ठग्स ऑफ हिंदुस्तान’ का ट्रेलर

संजय मिश्रा का Interview: ‘इस सूरज ने तुम्हें पैदा होते देखा है और मरते भी देखेगा’

अक्षय कुमार की उस फिल्म की 8 बातें जिसका नाम सुनकर पीएम मोदी हंस पड़े

बाहुबली-2 के धाकड़ राइटर की अगली पौराणिक सीरीज आ गई है

फ्रैंक अंडरवुड की बोली 36 बातेंः इन्हें जान लिया तो ट्रंप-मोदी सब समझ आ जाएंगे

बाहुबली-2 में लोग कमियां देखने को तैयार नहीं लेकिन अब उन्हें देखनी होंगी

ज़ोरदार किस्साः कैसे बलराज साहनी जॉनी वॉकर को फिल्मों में लाए!

कुरोसावा की कही 16 बातें: फिल्में देखना और लिखना सीखने वालों के लिए विशेष

 

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

क्रिकेट की वो 6 मिसालें जहां हाथ-पैर सलामत न रहने पर भी मैदान नहीं छोड़ा

इनके बारे में जानकर कोई न कोई गेम खेलने का मन तो जरूर करेगा.

नाम से नहीं किरदार से जाने जाते हैं ये कलाकार

कौन 'मुहम्मद जीशान' कहने वालों को 'रांझना' का मुरारी याद रहता है.

बॉलीवुड की आइकॉनिक मां रीमा लागू को इन 8 बातों में याद करें

उन्हें पसंद नहीं था कि किसी की मां का रोल करने वाली एक्ट्रेस के तौर पर जाना जाए.

ये अंकल जो अपने फोन में देख रहे हैं, वो देखकर आप घिना जाएंगे

इन्हें लगा कि कोई नोटिस नहीं करेगा. लेकिन पीछे लगे कांच में सब रिकॉर्ड हो गया.

24 बातों में जानें कंगना रनोट की नई फिल्म 'सिमरन' की पूरी कहानी

इस फिल्म का टीज़र आ गया है. यहां देखें.

ये मां ना तो गाजर का हलवा बनाती है, ना ही दूध का क़र्ज़ वसूलती है

भारतीय सिनेमा की माएं 'बड़ी' हो गई हैं, अब बात-बात पर रोती नहीं.

आईआईटी रुड़की की कैंपस लिंगो, जो आपको कहीं और सुनने को नहीं मिलेगी

लिंगो मतलब लैंग्वेज होता है. ऐसे ही शब्द आईआईटी वाले इस्तेमाल करते हैं, हम बटोर कर लाए हैं.

नाग-नागिन की वो झिलाऊ फिल्में, जो आपको किडनी में हार्ट अटैक दे जाएंगी

नाग है, नागिन है, तांत्रिक है, बीन है, मणि है, सरदर्द है, माइग्रेन है, कैंसर है, उफ्फ्फ...

आतंक के खात्मे के लिए बने इन कानूनों का भी अपना ही आतंक है

संजय दत्त से लेकर वाजपेयी तक कितने ही लोग जेल यात्रा कर आए इन कानूनों के चलते.

वायरल केंद्र

मिलिंद सोमन को जानते हैं न, अब उनकी मां से मिलिए!

78 की उम्र में ऐसी कसरत करती हैं कि आपकी फूंक सरक जाएगी.

ट्यूबलाइट का पहला गाना जो साबित करता है बॉलीवुड के बाहुबली सिर्फ सलमान हैं

वो इस बात की जादुई मिसाल हैं कि कैसे हर फिल्म में उनका हर फैसला और हर फ्रेम परफेक्ट बैठ रहा है.

इस आदमी ने डॉनाल्ड ट्रंप को सरेआम व्हाइट हाउस में रहने वाला बंदर बताया

ट्रंप केयर पॉलिसी को खुली चुनौती देता ये वीडियो वायरल हो रहा है.

वीडियो: शहीद के भाई और उनकी पत्नी को बुरी तरह पीटा, ये सब थाने के पास ही हुआ

पठानकोट हमले में शहीद हुए हैं कुलवंत सिंह. वीडियो में उनके भाई की पत्नी को महिलाएं भी पीटती दिख रही हैं.

अगर अभी तक बाहुबली नहीं देखी तो ये वीडियो देखो, 'इज्ज़त दांव पर लगी है'

बेटे ने बाप को बाहुबली फिल्म देखने पर मजबूर कर दिया.

'बाहुबली' में डायरेक्टर राजामौली को नोटिस कर पाए आप?

'बाहुबली' के डायरेक्टर एसएस राजामौली ने खुद अपनी इस फिल्म में एक्टिंग की है, लेकिन बड़े-बड़े नहीं पहचान पाए.

नसीमुद्दीन के मुताबिक सिर्फ इस लड़के को बिना तलाशी मायावती के घर तक जाने दिया जाता है

मायावती पर संगीन इल्जाम लगाने वाले नसीमुद्दीन ने इन्हीं का जिक्र किया था.