Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

सोनू निगम से कहीं ज्यादा बड़ा रिस्क उनके पापा ने लिया था!

Sonu Nigam. पापा का नाम अगम कुमार निगम. मम्मी का नाम शोभा निगम. सिंगर कितने बड़े हैं वो तो हर कोई जानता है. 25 साल से ज्यादा हो गए हैं इनको गाते हुए. आजकल लाउड स्पीकर की वजह से बज रहे हैं. उन्होंने लाउड स्पीकर को कठघरे में खड़ा करके पंगा ले लिया है. लेकिन ये कोई बहादुरी नहीं है. इससे पहले इनके पापा अगम कुमार निगम बड़ा कारनामा दिखा चुके हैं. उन्होंने टैंपो में बजने वाले गानों का टेस्ट बदल के रख दिया था.

सोनू निगम जब फिल्मी म्यूजिक इंडस्ट्री के बड़े नाम बन चुके थे. उस वक्त अगम कुमार निगम का पहला अलबम आया था. 2002 में. नाम था ‘उसकी यादों में.’ जो कुछ खास चला नहीं. 2004 में ‘बेवफाई’ आया. ये तो बम की तरह फट गया गुरू. अगम कुमार निगम शहर शहर गांव गांव बजने लगे. अताउल्ला खां का जमाना तो पहले ही चला गया था. ये वक्त अल्ताफ राजा का चल रहा था. उनके करियर पर राहु बनकर चिपक लिए थे अगम कुमार निगम. इनका बेटा सोनू तो छाया हुआ ही था, सोचो उस वक्त पापा बेटे से ज्यादा हिट हो जाते तो बच्चे का करियर खत्म न हो जाता. लेकिन फिर भी पापा ने रिस्क लिया और हर दो साल के अंतर पर दे दनादन अलबम निकाले. ये बहादुरी ही थी. बहुत बड़ा रिस्क था. इस रिस्क से जो गाने निकले हैं वो कालजयी हैं. उनमें अलबम्स के चुनिंदा गाने यहां देख लो.

1. कब तक याद करूं मैं उसको कब तक अश्क बहाऊं: ये गानै नहीं है यार. ये किसी तकलीफ से भरे आशिक की ऐसी पुकार है जो गलती से किसी कलम वाले के कान में चली गई. फिर उसने पन्ने पर उतार दिया और फिर सोनू निगम के पापा अगम कुमार निगम ने उसे गा दिया. एक एक लाइन कलेजे पर रामपुरी चाकू चलाती थी.

2. शुक्रिया शुक्रिया दर्द जो तुमने दिया: ये भी बेवफाई अलबम का ही गाना है. इस गाने में आशिक अपनी बेवफा प्रेमिका के लिए ‘फीलिंग थैंकफुल’ हो रहा है. इसे एक्स्ट्रा बेस में फुल वॉल्यूम पर सुना जाता था.

3. वो किसी और किसी और किसी और किसी और: इसके आगे था ‘से मिलके आ रहे हैं.’ लेकिन इतने में ही इतनी अच्छी रिदम बन जाती थी कि आगे बढ़ने का मन मन नहीं करता था. 2007 में अलबम फिर बेवफाई आया था, उसका गाना था.

4. रोते रोते यूं ही रात गुजर जाती है: इस गाने में अगम कुमार निगम के साथ तुलसी कुमार ने अपना गला आजमाया था. तुलसी मरहूम गुलशन कुमार की बेटी हैं. गुलशन कुमार की कंपनी है टी सीरीज जिसमें अगम कुमार निगम के सारे गाने निकले हैं. तुलसी ने हिमेश रेशमिया के अलबम ‘आपका सुरूर’ में भी गाया था.

5. तू प्यार किसी से न कर किसी से तू दिल न लगा: दर्द भरे गाने पर डांस करना हो तो गिनती वाले आते हैं. इतनी हाई बीट थी कि आदमी का कूदते नाचते झाग निकल जाए. बड़ा ही अनुपम गीत. देखिए.

6. जब तुमको हमसे प्यार नहीं: ये वाला गाना अगम कुमार के अगले अलबम ‘वो बेवफा’ में आया था. जिसका स्वागत गाने के शौकीनों ने 2008 में किया था.

7. रात कटती है तारे गिन गिन के: ‘बेवफाई का आलम’ अलबम 2010 में आया था. अब महफिल हिमेश रेशमिया लूटने लगे थे. टोपी लगाकर तीन नाकों से गाने वाले रेशमिया ने अगम कुमार निगम का मार्केट डाउन कर दिया था. कुछ चले हुए गानों में ये था. आई एम रियली भेरी सॉरी. इस गाने का वीडियो भी नहीं मिला है. सिर्फ सुन लो.

8. क्या बताऊं तुम्हें: 2015 में आया अलबम फिर से बेवफाई. अब अगम कुमार निगम चुक गए थे. अरिजित सिंह युग आ गया था. गाने भी अझेल हो चले थे. फिर भी इसको निकाल लिया है लिस्ट बनाने के लिए. थैंक्यू बोलने की जरूरत नहीं है. आपको इस हीरे की खान में पहुंचाना तो मेरा फर्ज था.


ये भी पढ़ें:

बाल सोनू ने मुंडाए और ओले बॉबी देओल के सर पर गिरे

मौलवी साहब 10 लाख में से आधा-आधा सोनू निगम और सलमान खान को दे दो!

सोनू निगम को गंजा करने वाले ‘आलिम भाई’ भी मामूली आदमी नहीं हैं

सोनू निगम गंजे होकर न बच पाते अगर मौलवी ने ये फतवा दिया होता

फर्जियों के फतवे: सोनू निगम को गंजा करो, 10 लाख पाओ, जूता मारो, एक लाख पाओ

 

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

देवाशीष मखीजा की 'अज्जी' का पहला ट्रेलरः ये फिल्म हिला देगी

इसमें कुछ विजुअल ऐसे हैं जो किसी इंडियन फिल्म में पहले नहीं दिखे.

इस प्लेयर ने KKR के लिए जैसा खेला है वैसा इंडिया के लिए खेले तो जगह पक्की हो जाये

टीम में फिनिशर की कमी है. ये पूरा कर सकता है. हैप्पी बड्डे बोल दीजिए.

फ़िल्म रिव्यू : समीर

मुसलमानों की एक बड़ी मुसीबत को खुले में लाती फ़िल्म.

फ़िल्म रिव्यू : डैडी

मुंबई के गैंगस्टर अरुण गवली के जीवन पर बनी फ़िल्म.

गूगल ने बताया इंडियन मर्द अपनी बीवी के साथ क्या करना चाहते हैं

एक किताब आई है Everybody Lies. इसे लिखा है सेठ स्टीफेंस ने. उसी किताब में लिखी है सारी बातें.

पहलाज को ये लड़की 'नहलानी' थी, इसलिए छोड़ी सरकारी नौकरी!

जूली 2 का ट्रेलर आ गया है, इसके बारे में बता रहे हैं, कान पर हाथ रख लो.

फ़िल्म रिव्यू : बादशाहो

अजय देवगन के चाहने वाले खुश तो बहुत होंगे.

फ़िल्म रिव्यू : शुभ मंगल सावधान

जानिए फिल्म में कितना शुभ है, कितना मंगल है और कितना सावधान रहने की ज़रूरत है.

वायरल केंद्र

डॉमिनोज पिज्जा पर डालने वाले मसाले में बिलबिलाते कीड़े निकले

छी. यक. ब्वाक. पलटी आ जाएगी वीडियो देख के.

दाढ़ी-मूंछों वाली वो राजकुमारी, जिसके प्रेम में दसियों मर्दों ने जान दे दी थी!

कुछ कहते हैं उस वक़्त इसे सुंदरता मानते थे. मगर राजकुमारी इन सबसे बहुत ऊपर थी.

क्या है जयपुर दंगे के इस वायरल वीडियो की असलियत?

इस वीडियो को 30 लाख से ज़्यादा बार देखा जा चुका है.

क्या आइसलैंड की दुलहिन से शादी करने पर सही में मिल रहा है 3 लाख 19 हज़ार?

शादी के सबसे 'आकर्षक' ऑफर की सच्चाई.

क्या ये विवेकानंद की असली आवाज़ हैः शिकागो विश्व-धर्म संसद (1893) में उनके भाषण का ऑडियो

इंटरनेट पर मिला ये ऑडियो असली है या हम विवेकानंद की आवाज़ हमेशा के लिए खो चुके हैं? 125 साल पहले आज ही के दिन विवेकानंद ने शिकागो में भाषण दिया था.

इन 5 किरदारों से पता चलता है कि अतुल कुलकर्णी की एक्टिंग रेंज कितनी ज़बरदस्त है

इनको चाहे जिस सांचे में डाल दो, वहीं फिट हो जाते हैं.

मिताली राज ने डीप-कट टॉप में फोटो डाली, लोगों ने अपनी नीयत दिखा दी

उनके क्रिकेट से इन लोगों को मतलब नहीं है.