Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

क्या है हवाला, जिसका नाम सुनते ही हर नेता थर्राने लगता है?

कपिल मिश्रा हर रोज केजरीवाल पर नया आरोप लगा रहे हैं. 2 करोड़ की रिश्वत के बाद अब उन्होंने केजरीवाल पर हवाला कंपनियों ने पैसा लेने का आरोप लगाया है. राजनीतिक उठा-पटक अपनी जगह, आज हम आपको बताएंगे कि असल में हवाला है किस बला का नाम?

क्या होता है हवाला
दरअसल हवाला शब्द अरब से चल कर यहां तक पहुंचा है. इसका पहला जिक्र हमें आठवीं शताब्दी में मिलता है. भूमध्य सागर से दक्षिण चीन सागर तक साढ़े छह हजार किलोमीटर लंबा व्यापार मार्ग था, सिल्क रूट. यह मार्ग अफ्रीका, एशिया और यूरोप को आपस में जोड़ता था. इस रास्ते पर अक्सर लूट-पाट की घटनाएं होती रहती थीं. इससे बचने के लिए व्यापरियों ने एक तरकीब सोची. व्यापारियों ने तय किया कि वो आपस में एक ख़ास किस्म का टोकन रखेंगे. जब अरब से कोई आदमी चीन की तरफ जाएगा तो अरब का व्यापारी उसे ये टोकन देगा और एक खास व्यापारी का पता भी. चीन का व्यापारी उस टोकन को रख लेगा और उसे तय रकम का भुगतान कर देगा.

 

हुंडी
हुंडी

 

इस टोकन को अलग-अलग भाषा में अलग-अलग नाम मिला. जैसे भारत में इसे हुंडी के नाम से जाना जाता है. सोमालिया में यह जवाला हो जाता है. अरब लोग इसे हवाला कहते हैं. इसे हम उस समय की बैंकिंग के रूप में समझ सकते हैं. पुराने समय में किसी व्यापारी की साख इस बात से तय होती थी कि उसकी हुंडी कहां तक चलती है.

धीरे-धीरे बढ़ती व्यापारिक जरूरतों के चलते 1695 में बैंक ऑफ़ इंग्लैंड की शुरुआत हुई. इसे हम आधुनिक बैंकिंग का प्रस्थान बिंदु मान सकते हैं. लेकिन हवाला कभी बंद नहीं हुआ. आधुनिक बैंकिंग ने लेन-देन के रिकॉर्ड को आसान बना दिया. लेन-देन के इस दस्तावेजीकरण ने सरकार के लिए कर चोरी करने वालों तक पहुंचना आसान बना दिया. गलत तरीके से कमाए गए पैसे और कर की चोरी करने वालों ने सदियों से आजमाई हुई हवाला व्यवस्था का सहारा लिया. आज ये गैरकानूनी तरीके से पैसा इधर से उधर करने का सबसे बड़ा जरिया बन गया है.

राजनीति का सबसे बदनाम शब्द

दरअसल भारतीय राजनीति ने सबसे पहले इसकी गूंज सुनी 1993 में. जनसत्ता में जून 1993 में एक स्टोरी छपी. लेकिन मामला दो साल पुराना था. 1991 में दिल्ली पुलिस ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) के एक छात्र शहाबुद्दीन गोरी को जामा मस्जिद इलाके से गिरफ्तार किया. कश्मीरी आतंकवादियों को आर्थिक मदद पहुंचाने के संदेह में. मामला सीबीआई को सौंप दिया गया. इसके बाद ये मामला परत दर परत खुलता चला गया.

 

indiatodayhawala

 

गोरी की निशानदेही पर सीबीआई ने साकेत में रहने वाले जैन बंधुओं के घर पर छापा मारा. इस छापे के दौरान सीबीआई को चार जैन बंधुओं में से एक सुरेंद्र कुमार जैन की विस्फोटक डायरी भी मिली थी. इस डायरी में 115 बड़े अफसरों और नेताओं के नाम दर्ज थे, जिन्हें 64 करोड़ रुपए अदा किए गए थे. लालकृष्ण आडवाणी, मदनलाल खुराना, विद्याचरण शुक्ल, नारायणदत्त तिवारी, बलराम जाखड़ जैसे बड़े नाम भी शामिल थे. इस खुलासे ने भारतीय लोकतंत्र में भूचाल ला दिया था. हालांकि इस मामले में कानूनी कार्रवाई सिफर साबित हुई और सीबीआई की भूमिका संदिग्ध साबित हुई. राजनीति का यही इतिहासबोध ‘हवाला’ को विस्फोटक शब्द बनाता है.

यह भी पढ़ें 

क्या है ‘वॉटर टैंक घोटाला’, जिसने केजरीवाल की बैंड बजा रखी है

वो तीन मौके, जब रॉ एजेंट्स की ऐय्याशी वतन को बहुत महंगी पड़ी

जिस ‘रोज वैली घोटाले’ में ममता की पार्टी के सांसद अंदर जा रहे हैं, वो है क्या?

यूपी का वो मुख्यमंत्री जिसने अमिताभ बच्चन को कटघरे में खड़ा कर दिया

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

राजेश खन्ना ने किस नेता के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीता था?

राजेश खन्ना के कितने बड़े फैन हो, ये क्विज खेलो तो पता चलेगा.

गेम ऑफ थ्रोन्स खेलना है तो आ जाओ मैदान में

अगर ये शो देखा है तभी इस क्विज में कूदना. नहीं तो सिर्फ टाइम बरबाद होगा.

कोहिनूर वापस चाहते हो, लेकिन इसके बारे में जानते कितना हो?

पिच्चर आ रही है 'दी ब्लैक प्रिंस', जिसमें कोहिनूर की बात हो रही है. आओ, ज्ञान चेक करने वाला खेल लेते हैं.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

कौन है जो राहुल गांधी से जुड़े हर सवाल का जवाब जानता है?

क्विज है राहुल गांधी पर. आगे कुछ न बताएंगे. खेलो तो बताएं.

Quiz: संजय दत्त के कान उमेठने वाले सुनील दत्त के बारे में कितना जानते हो?

जिन्होंने अपनी फ़िल्मी मां से रियल लाइफ में शादी कर ली.

कांच की बोतल को नष्ट होने में कितना टाइम लगता है, पता है आपको?

पर्यावरण दिवस पर बात करने बस से न होगा, कुछ पता है इसके बारे में?

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.

विजय, अमिताभ बच्चन नहीं, जितेंद्र थे. क्विज खेलो और जानो कैसे!

आज जितेंद्र का बड्डे है, 75 साल के हो गए.

पापा के सामने गलती से भी ये क्विज न खेलने लगना

बियर तो आप देखते ही गटक लेते हैं. लेकिन बियर के बारे में कुछ जानते भी हैं. बोलो बोलो टेल टेल.

न्यू मॉन्क

ब्रह्मा की हरकतों से इतने परेशान हुए शिव कि उनका सिर धड़ से अलग कर दिया

बड़े काम की जानकारी, सीधे ब्रह्मदारण्यक उपनिषद से.

इस्लाम में नेलपॉलिश लगाने और टीवी देखने को हराम क्यों बताया गया?

और हराम होने के बावजूद भी खुद मौलाना क्यों टीवी पर दिखाई देते हैं?

सावन से जुड़े झूठ, जिन पर भरोसा किया तो भगवान शिव माफ नहीं करेंगे

भोलेनाथ की नजरों से कुछ भी नहीं छिपता.

हिन्दू धर्म में जन्म को शुभ और मौत को मनहूस क्यों माना जाता है?

दूसरे धर्म जयंती से ज़्यादा बरसी मनाते हैं.

जानिए जगन्नाथ पुरी के तीनों देवताओं के रथ एक दूसरे से कैसे-कैसे अलग हैं

ये तक तय होता है कि किस रथ में कितनी लकड़ियां लगेंगी.

सीक्रेट पन्नों में छुपा है पुरी के रथ बनने का फॉर्मूला, जो किसी के हाथ नहीं आता

जानिए जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा के लिए कौन-कौन लोग रथ तैयार करते हैं.

श्री जगन्नाथ हर साल रथ यात्रा पर निकलने से पहले 15 दिन की 'सिक लीव' पर क्यों रहते हैं?

25 जून से जगन्नाथ पुरी की रथ यात्रा शुरू हो गई है.

भगवान जगन्नाथ की पूरी कहानी, कैसे वो लकड़ी के बन गए

राजा इंद्रद्युम्न की कहानी, जिसने जगन्नाथ रथ यात्रा की स्थापना की थी.

उपनिषद् का वो ज्ञान, जिसे हासिल करने में राहुल गांधी को भी टाइम लगेगा

जानिए उपनिषद् की पांच मजेदार बातें.

असली बाहुबली फिल्म वाला नहीं, ये है!

अगली बार जब आप बाहुबली सुनें तो सिर्फ प्रभाष के बारे में सोच कर ही ना रह जाएं.