Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

'सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है' के बारे में बताया गया है सबसे बड़ा झूठ!

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह से ईडी ने करप्शन और काले धन के मामले में पूछताछ की. मुख्यमंत्री ने ईडी दफ्तर के बाहर मुट्ठी बांधकर कहा,” सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है, देखना है जोर कितना बाजू ए कातिल में है.”

अब मुख्यमंत्री ने करप्शन के मुद्दे पर क्या सोचकर ये शेर पढ़ा, नहीं पता. हालांकि इंडिया ही नहीं, पूरी दुनिया में नेता फंसने पर देशभक्ति की दुहाई देने लगते हैं. तमाम तानाशाह भी यही तरीका अपनाते हैं.

पर अगर वीरभद्र सिंह ने ये सोचकर ये शेर पढ़ा कि रामप्रसाद बिस्मिल ने लिखा है, तो ये गलत है. हालांकि चारों ओर ये बात फैलाई गई है कि बिस्मिल ने ही ये शेर लिखा था. पर ये सच नहीं है. इस शेर को शाह मोहम्मद हसन बिस्मिल अजीमाबादी ने लिखा था. कलकत्ता से पब्लिश होने वाले उर्दू जॉर्नल असर जदीद में 1922 में ये छपा था. ये गजल काजी अब्दुल गफ्फार की पत्रिका सबाह में भी छपी थी.

bismil azimabadi
बिस्मिल अजीमाबादी twocircles.net

वैसे तो इनका नाम शाह मोहम्मद हसन ही था. ये बिस्मिल अजीमाबादी के नाम से लिखते थे. बिस्मिल पटना से थे. पटना की मशहूर खुदाबख्श लाइब्रेरी में इनकी लिखी कविता की मैनुस्क्रिप्ट रखी हुई है.

बिस्मिल उर्दू भाषा का एक शब्द है. इसका मतलब होता है रेस्टलेस. बेचैन या दिल से घायल. इस चीज को शब्द से ज्यादा दिल के अंदर समझा जा सकता है. पर क्रांतिकारी पंडित रामप्रसाद भी बिस्मिल लिखा करते थे अपने नाम के पीछे. वो बिस्मिल के नाम से शेर भी लिखा करते थे. इस शेर का मिजाज भी उनके मिजाज से मेल खाता था. पर उनके नाम के साथ इस शेर के जुड़ने की कहानी कुछ और है.

Bismil's dead body in father's lap 1927
रामप्रसाद बिस्मिल का शव लिए हुए उनके पिताजी

मिलीगजट में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक बिस्मिल अजीमाबादी के बेटे सैयद शाह हमीद हसन बिहार की विधान परिषद के सदस्य हुआ करते थे. उनके मुताबिक ब्रिटिश सरकार ने इस शेर के साथ लिखी हुई उनकी पूरी गजल ही जब्त कर ली थी. उनके नाम पर अरेस्ट वारंट भी निकाल दिया था. 19 दिसंबर 1927 को राम प्रसाद बिस्मिल ने गोरखपुर जेल में फांसी होने से पहले ये शेर पढ़ा था. तभी ये शेर उनके नाम के साथ जुड़ भी गया और अमर भी हो गया. पर लिखने वाले बिस्मिल और पढ़ने वाले बिस्मिल दोनों ने ही नहीं सोचा होगा कि इस शेर को लोग करप्शन के आरोप लगने पर भी पढ़ेंगे. 1901 में पैदा हुए शायर बिस्मिल अजीमाबादी 1978 तक जिंदा रहे थे.

बिस्मिल अजीमाबादी ने देश के बंटवारे पर भी एक नज्म लिखी थी:

बयाबान-ए-जनों में शाम-ए-ग़रबत जब सताया की

मुझे रह रह कर ऐ सुबह वतन तू याद आया की

आज़ादी ने बाज़ू भी सलामत नहीं रखे

ऐ ताक़त-ए-परवाज़ तुझे लाए कहां से

कहां क़रार है कहने को दिल क़रार में है

जो थी ख़िज़ां में वही कैफ़ियत बहार में है

चमन को लग गई किसकी नज़र खुदा जाने

चमन रहा न रहे वो चमन के अफ़साने

पूछा भी है कभी आप ने कुछ हाल हमारा

देखा भी है कभी आके मुहब्बत की नज़र से

किस हाल में हो, कैसे हो, क्या करते हो बिस्मिल

मरते हो कि जीते हो ज़माने के असर से…

‘कहां तमाम हुई दास्तान बिस्मिल की

बहुत सी बात तो कहने को रह गई ऐ दोस्त’

बिस्मिल अजीमाबादी की कुछ और नज्में:

1. ये बुत फिर अब के बहुत सर उठा के बैठे हैं
ख़ुदा के बंदों को अपना बना के बैठे हैं

हमारे सामने जब भी वो आ के बैठे हैं
तो मुस्कुरा के निगाहें चुरा के बैठे हैं

2. तंग आ गए हैं क्या करें इस ज़िंदगी से हम
घबरा के पूछते हैं अकेले में जी से हम

मजबूरियों को अपनी कहें क्या किसी से हम
लाए गए हैं, आए नहीं हैं ख़ुशी से हम

3. अब मुलाक़ात कहाँ शीशे से पैमाने से
फ़ातिहा पढ़ के चले आए हैं मय-ख़ाने से

क्या करें जाम-ओ-सुबू हाथ पकड़ लेते हैं
जी तो कहता है कि उठ जाइए मय-ख़ाने से

4. चमन को लग गई किस की नज़र ख़ुदा जाने
चमन रहा न रहे वो चमन के अफ़्साने

सुना नहीं हमें उजड़े चमन के अफ़्साने
ये रंग हो तो सनक जाएँ क्यूँ न दीवाने

ये भी पढ़ें:

2019 फतह करने के लिए पीएम मोदी को तोड़ना होगा इस नेता का तिलिस्म

चंबल का ये गांव नदी से तैरती हुई लाशें हटा कर पानी भरता है

28 घर बदल चुकी है ये हीरोइन, क्योंकि मुंबई के बिल्डर ने बेघर कर दिया

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

राजेश खन्ना ने किस नेता के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीता था?

राजेश खन्ना के कितने बड़े फैन हो, ये क्विज खेलो तो पता चलेगा.

गेम ऑफ थ्रोन्स खेलना है तो आ जाओ मैदान में

अगर ये शो देखा है तभी इस क्विज में कूदना. नहीं तो सिर्फ टाइम बरबाद होगा.

कोहिनूर वापस चाहते हो, लेकिन इसके बारे में जानते कितना हो?

पिच्चर आ रही है 'दी ब्लैक प्रिंस', जिसमें कोहिनूर की बात हो रही है. आओ, ज्ञान चेक करने वाला खेल लेते हैं.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

कौन है जो राहुल गांधी से जुड़े हर सवाल का जवाब जानता है?

क्विज है राहुल गांधी पर. आगे कुछ न बताएंगे. खेलो तो बताएं.

Quiz: संजय दत्त के कान उमेठने वाले सुनील दत्त के बारे में कितना जानते हो?

जिन्होंने अपनी फ़िल्मी मां से रियल लाइफ में शादी कर ली.

कांच की बोतल को नष्ट होने में कितना टाइम लगता है, पता है आपको?

पर्यावरण दिवस पर बात करने बस से न होगा, कुछ पता है इसके बारे में?

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.

विजय, अमिताभ बच्चन नहीं, जितेंद्र थे. क्विज खेलो और जानो कैसे!

आज जितेंद्र का बड्डे है, 75 साल के हो गए.

पापा के सामने गलती से भी ये क्विज न खेलने लगना

बियर तो आप देखते ही गटक लेते हैं. लेकिन बियर के बारे में कुछ जानते भी हैं. बोलो बोलो टेल टेल.

न्यू मॉन्क

इस्लाम में नेलपॉलिश लगाने और टीवी देखने को हराम क्यों बताया गया?

और हराम होने के बावजूद भी खुद मौलाना क्यों टीवी पर दिखाई देते हैं?

सावन से जुड़े झूठ, जिन पर भरोसा किया तो भगवान शिव माफ नहीं करेंगे

भोलेनाथ की नजरों से कुछ भी नहीं छिपता.

हिन्दू धर्म में जन्म को शुभ और मौत को मनहूस क्यों माना जाता है?

दूसरे धर्म जयंती से ज़्यादा बरसी मनाते हैं.

जानिए जगन्नाथ पुरी के तीनों देवताओं के रथ एक दूसरे से कैसे-कैसे अलग हैं

ये तक तय होता है कि किस रथ में कितनी लकड़ियां लगेंगी.

सीक्रेट पन्नों में छुपा है पुरी के रथ बनने का फॉर्मूला, जो किसी के हाथ नहीं आता

जानिए जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा के लिए कौन-कौन लोग रथ तैयार करते हैं.

श्री जगन्नाथ हर साल रथ यात्रा पर निकलने से पहले 15 दिन की 'सिक लीव' पर क्यों रहते हैं?

25 जून से जगन्नाथ पुरी की रथ यात्रा शुरू हो गई है.

भगवान जगन्नाथ की पूरी कहानी, कैसे वो लकड़ी के बन गए

राजा इंद्रद्युम्न की कहानी, जिसने जगन्नाथ रथ यात्रा की स्थापना की थी.

उपनिषद् का वो ज्ञान, जिसे हासिल करने में राहुल गांधी को भी टाइम लगेगा

जानिए उपनिषद् की पांच मजेदार बातें.

असली बाहुबली फिल्म वाला नहीं, ये है!

अगली बार जब आप बाहुबली सुनें तो सिर्फ प्रभाष के बारे में सोच कर ही ना रह जाएं.

द्रौपदी के स्वयंवर में दुर्योधन क्यों नहीं गए थे?

महाभारत के दस रोचक तथ्य.