Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

ट्रैफिक हवलदार कल्लन चच्चा की शायरी

हिंदुस्तान में अपने शौक को पेशा बना पाना निहायत मुश्किल काम है. आदमी वो छोड़ के सब कुछ बन जाता है जो वो बनना चाहता है. लल्लन प्रदेश के एक चचा हैं कल्लन. बचपन से क्रिएटिव थे मन में साध थी कलमतोड़ शायर बनने की. लेकिन हालात और घर वालों के दबाव ने पुलिस का नौकर बना दिया.

इन दिनों वह ट्रैफिक डिपार्टमेंट में हैं लेकिन शायरी का शौक ज्यों का त्यों है. एक दिन बीस मिनट उनके साथ खड़े हो जाओ तो बाकी शायरों को भूल जाओगे. एक दिन मैंने उनको चौराहे पर बाइक वालों की धरपकड़ करते देखा. वे डंडा फटकार रहे थे और शायरी के लहजे में यूं कहते जाते थे:


जिंदगी में मिलेंगे कहीं अंधेरे कहीं उजाले
ओ बिना हेलमेट वाले गाड़ी साइड में लगा ले


गर दोस्त करे गुनाह तो दुश्मन संभाल ले
अब देर न कर बेट्टा कागज़ निकाल ले


तमाम उनकी यादों का दर्द है और ज़िंदगी कम है
ये देख बच्चा तेरा इन्श्योरेंस भी खतम है


उफ़ नसीब मेरे महबूब से यूं न जुदा कर
अबे घोंचू डी एल तो लेकर के चला कर


हर कदम पर आजमाती है किस्मत जब इन्सां सफर पे हो
चालान फौरन काटते हैं गर हेलमेट न सर पे हो


हर सुख़नवर को जहां में सदमा शदीद है
एक भी तो नहीं तेरा कागज कम्प्लीट है


हमने उनसे की वफ़ा की उम्मीद जो न जाने वफ़ा करना
सौ रुपये करो ढीले गर चाहते हो सब रफा दफा करना


न जाने क्यों नहीं मिलता पता उसके मिजाज़ का
सौ नहीं हैं तो नोट एक होगा पचास का


रेत को मुश्किल है मुट्ठी में भर के उड़ा देना
साले भिखारी गाड़ी अब कचहरी से छुड़ा लेना


traffic

आपको भी इस टाइप की मॉडर्न शायरी आती है तो लिखिए कमेंटबॉक्स में. कल्लन चचा को आपका कलाम पसंद आया तो यहां छापा भी जाएगा.

 

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

राजेश खन्ना ने किस नेता के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीता था?

राजेश खन्ना के कितने बड़े फैन हो, ये क्विज खेलो तो पता चलेगा.

गेम ऑफ थ्रोन्स खेलना है तो आ जाओ मैदान में

अगर ये शो देखा है तभी इस क्विज में कूदना. नहीं तो सिर्फ टाइम बरबाद होगा.

कोहिनूर वापस चाहते हो, लेकिन इसके बारे में जानते कितना हो?

पिच्चर आ रही है 'दी ब्लैक प्रिंस', जिसमें कोहिनूर की बात हो रही है. आओ, ज्ञान चेक करने वाला खेल लेते हैं.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

कौन है जो राहुल गांधी से जुड़े हर सवाल का जवाब जानता है?

क्विज है राहुल गांधी पर. आगे कुछ न बताएंगे. खेलो तो बताएं.

Quiz: संजय दत्त के कान उमेठने वाले सुनील दत्त के बारे में कितना जानते हो?

जिन्होंने अपनी फ़िल्मी मां से रियल लाइफ में शादी कर ली.

कांच की बोतल को नष्ट होने में कितना टाइम लगता है, पता है आपको?

पर्यावरण दिवस पर बात करने बस से न होगा, कुछ पता है इसके बारे में?

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.

विजय, अमिताभ बच्चन नहीं, जितेंद्र थे. क्विज खेलो और जानो कैसे!

आज जितेंद्र का बड्डे है, 75 साल के हो गए.

पापा के सामने गलती से भी ये क्विज न खेलने लगना

बियर तो आप देखते ही गटक लेते हैं. लेकिन बियर के बारे में कुछ जानते भी हैं. बोलो बोलो टेल टेल.

न्यू मॉन्क

ब्रह्मा की हरकतों से इतने परेशान हुए शिव कि उनका सिर धड़ से अलग कर दिया

बड़े काम की जानकारी, सीधे ब्रह्मदारण्यक उपनिषद से.

इस्लाम में नेलपॉलिश लगाने और टीवी देखने को हराम क्यों बताया गया?

और हराम होने के बावजूद भी खुद मौलाना क्यों टीवी पर दिखाई देते हैं?

सावन से जुड़े झूठ, जिन पर भरोसा किया तो भगवान शिव माफ नहीं करेंगे

भोलेनाथ की नजरों से कुछ भी नहीं छिपता.

हिन्दू धर्म में जन्म को शुभ और मौत को मनहूस क्यों माना जाता है?

दूसरे धर्म जयंती से ज़्यादा बरसी मनाते हैं.

जानिए जगन्नाथ पुरी के तीनों देवताओं के रथ एक दूसरे से कैसे-कैसे अलग हैं

ये तक तय होता है कि किस रथ में कितनी लकड़ियां लगेंगी.

सीक्रेट पन्नों में छुपा है पुरी के रथ बनने का फॉर्मूला, जो किसी के हाथ नहीं आता

जानिए जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा के लिए कौन-कौन लोग रथ तैयार करते हैं.

श्री जगन्नाथ हर साल रथ यात्रा पर निकलने से पहले 15 दिन की 'सिक लीव' पर क्यों रहते हैं?

25 जून से जगन्नाथ पुरी की रथ यात्रा शुरू हो गई है.

भगवान जगन्नाथ की पूरी कहानी, कैसे वो लकड़ी के बन गए

राजा इंद्रद्युम्न की कहानी, जिसने जगन्नाथ रथ यात्रा की स्थापना की थी.

उपनिषद् का वो ज्ञान, जिसे हासिल करने में राहुल गांधी को भी टाइम लगेगा

जानिए उपनिषद् की पांच मजेदार बातें.

असली बाहुबली फिल्म वाला नहीं, ये है!

अगली बार जब आप बाहुबली सुनें तो सिर्फ प्रभाष के बारे में सोच कर ही ना रह जाएं.