Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

'पूरी बारिश भीगती रही हूं एकांत के गीलेपन में'

बाबुशा मध्य प्रदेश से हैं. ख़ूब लिखती हैं, अपनी कलम से कभी गिलहरियों को पकड़ती हैं तो कभी चांद नोंच लाती हैं. दोस्तों पर जान छिड़कती हैं. फेसबुक पर लाइक कमाने के साथ ही एक किताब भी छप चुकी है इनकी. इनका लिखा पहले भी हम पढ़वा चुके हैं आपको. ये भी पढ़िए. मज़ा आएगा. ये कविता बाबुशा ने अपने रंगकर्मी मित्र आशीष पाठक के लिए लिखी थी.


आह ! मेरे जुड़वां प्रेत !

कितनी रातें आसमान को टुकड़ा-टुकड़ा खाया हमने
इच्छा की टहनियों पर टंगे हुए
हवाओं की नमी में डुबो-डुबो चबाए सितारे
कर लिया मन चूरा जुगालियों में
कल तक ज़मींदार का खेत था अपना जीवन
और हम बिचारे !
अंखुआए हुए नरम- नरम दाने जरई के

हम कैसे पगले प्रेत हैं
कि प्रेम करते साधकों के जैसे
और साधना करते हैं प्रेम में यूं
कि मानो वही अपना औलिया हो
वही हो निज़ाम
जंजपूक प्रेत हम जीवन के
अपने ज़मींदार का नाम जपते

ओ मेरे जिगरी !
वो लोग सोचते हैं कि उन्होंने अपनी कलाई पर घड़ी बांध रखी है
इसके उलट वक़्त उन्हें बांधे रखता है अपने इशारों पर
नियम वही अपने साथ भी लागू है
कि हम लोग अपनी जान हथेली पे बांधे रखते हैं
हमारे हाथ हमारे प्राणों को कस कर पकड़े हुए
कविता मेरा हाथ है और रंगमंच तुम्हारा

हम आसमान खाते हैं टुकड़ा-टुकड़ा रात भर
मरते-गिरते-जूझते अपने हिस्से के टुकड़े के लिए

हम प्रेत हैं अंतिम सत्य की खोज में भटकते

बंधु !
पूरी बारिश भीगती रही हूं एकांत के गीलेपन में
और स्वप्न की धूप में सुखाती रही भीगी नश्वर देह
एक रोज़ बहा आई मैं कान के बुंदे नरबदा जी की धार में
वही कान के बुंदे जिनके पेंच में उलझी पड़ी थीं
उत्तर की खंडित हवाएं

दोस्त !
मेरे रक्त में एक अनोखा जीवाणु पाया गया है
और सकते में हैं वैद्य-हकीम
ये वही कीड़ा है जो तुम्हारे लहू में भी कुलबुलाता  है
हम लार बहाते लपर-लपर चख लेते जीवन
जीवन बेरहम बिना किसी चेतावनी के हमें लील लेता है

नींद टूटने से स्वप्न कभी नहीं टूटते
वो धड़कते हैं हमारे भीतर आजीवन
जागने का अर्थ आंख का खुलना भर नहीं होता
भरम चटक जाते हैं जाग की आहट भर से

कितने तो बीहड़ पार किए हमने
कितने जन्म लिए
एक-एक जन्म में कितनी बार जिए
कितनी बार मरे
अपने हिस्से की रातों को पीकर अमर हुए
हम प्रेत हैं परिव्राजक
कोई अचरज की बात नहीं
कि ओझा- तांत्रिक हमारे भय से दूर भाग जाते हैं
हम बाजना मठ की सिद्ध घन्टियों में बजते
जाबालि की नगरी में गूंजते

साथी !
तुम अपने स्वप्न की सेंक को नरबदा जी में बहा आना
और लेते आना चिताओं की आंच जेबें भर-भर
अरसा बीता मैंने तकिये का गिलाफ़ नहीं बदला
अब तो गाहे-ब-गाहे मैं धूप बदल देती हूं
मज़े से सुखा लेती हूं अपने एकांत के गीलेपन को
ग्वारीघाट की दहकती हुई लकड़ियों की आंच में

मित्र !
तुम भी अपनी जेब में हाथ डालो
मन बुझे तो बुझे
अमन का दीया अंतस में जला लो

हम प्रेत है साधक
लहटते नहीं किसी पर, उल्टे मुक्त कर देते हैं

आओ !
आओ ! मेरे जुड़वां प्रेत !
ग्वारीघाट की सीढ़ियों पर बैठकर
मूंगफली चबाई जाए
किसी अधजली चिता के अंगार में भूनकर

हम तो जरछार हैं और जान चुके हैं
सब जलेगा अंत में

तुम देखना, पियारे  !
हवा में उड़ाकर पीछे फेंके हुए छिल्के मूंगफली के
गिरेंगे संसार भर में.


ये भी पढ़ें:

‘माइग्रेन’ का कोई रंग होता तो वह निश्चित ही हरा होता

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

अगर जवाब है, तो आओ खेलो. आज ध्यानचंद की बरसी है.

KBC क्विज़: इन 15 सवालों का जवाब देकर बना था पहला करोड़पति, तुम भी खेलकर देखो

अगर सारे जवाब सही दिए तो खुद को करोड़पति मान सकते हो बिंदास!

इन 10 सवालों के जवाब दीजिए और KBC 9 में जाने का मौका पाइए!

अगर ये क्विज जीत लिया तो केबीसी 9 में कोई हरा नहीं सकता

राजेश खन्ना ने किस नेता के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीता था?

राजेश खन्ना के कितने बड़े फैन हो, ये क्विज खेलो तो पता चलेगा.

गेम ऑफ थ्रोन्स खेलना है तो आ जाओ मैदान में

अगर ये शो देखा है तभी इस क्विज में कूदना. नहीं तो सिर्फ टाइम बरबाद होगा.

कोहिनूर वापस चाहते हो, लेकिन इसके बारे में जानते कितना हो?

पिच्चर आ रही है 'दी ब्लैक प्रिंस', जिसमें कोहिनूर की बात हो रही है. आओ, ज्ञान चेक करने वाला खेल लेते हैं.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

कौन है जो राहुल गांधी से जुड़े हर सवाल का जवाब जानता है?

क्विज है राहुल गांधी पर. आगे कुछ न बताएंगे. खेलो तो बताएं.

Quiz: संजय दत्त के कान उमेठने वाले सुनील दत्त के बारे में कितना जानते हो?

जिन्होंने अपनी फ़िल्मी मां से रियल लाइफ में शादी कर ली.

कांच की बोतल को नष्ट होने में कितना टाइम लगता है, पता है आपको?

पर्यावरण दिवस पर बात करने बस से न होगा, कुछ पता है इसके बारे में?

न्यू मॉन्क

गणेश चतुर्थी: दुनिया के पहले स्टेनोग्राफर के पांच किस्से

गणपति से जुड़ी कुछ रोचक बातें.

इन पांच दोस्तों के सहारे कृष्ण जी ने सिखाया दुनिया को दोस्ती का मतलब

कृष्ण भगवान के खूब सारे दोस्त थे, वो मस्ती भी खूब करते और उनका ख्याल भी खूब रखते थे.

ब्रह्मा की हरकतों से इतने परेशान हुए शिव कि उनका सिर धड़ से अलग कर दिया

बड़े काम की जानकारी, सीधे ब्रह्मदारण्यक उपनिषद से.

इस्लाम में नेलपॉलिश लगाने और टीवी देखने को हराम क्यों बताया गया?

और हराम होने के बावजूद भी खुद मौलाना क्यों टीवी पर दिखाई देते हैं?

सावन से जुड़े झूठ, जिन पर भरोसा किया तो भगवान शिव माफ नहीं करेंगे

भोलेनाथ की नजरों से कुछ भी नहीं छिपता.

हिन्दू धर्म में जन्म को शुभ और मौत को मनहूस क्यों माना जाता है?

दूसरे धर्म जयंती से ज़्यादा बरसी मनाते हैं.

जानिए जगन्नाथ पुरी के तीनों देवताओं के रथ एक दूसरे से कैसे-कैसे अलग हैं

ये तक तय होता है कि किस रथ में कितनी लकड़ियां लगेंगी.

सीक्रेट पन्नों में छुपा है पुरी के रथ बनने का फॉर्मूला, जो किसी के हाथ नहीं आता

जानिए जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा के लिए कौन-कौन लोग रथ तैयार करते हैं.

श्री जगन्नाथ हर साल रथ यात्रा पर निकलने से पहले 15 दिन की 'सिक लीव' पर क्यों रहते हैं?

25 जून से जगन्नाथ पुरी की रथ यात्रा शुरू हो गई है.

भगवान जगन्नाथ की पूरी कहानी, कैसे वो लकड़ी के बन गए

राजा इंद्रद्युम्न की कहानी, जिसने जगन्नाथ रथ यात्रा की स्थापना की थी.